अजान से उड़ी नींद तो डीएम को पत्र लिखकर कार्रवाई की मांग

उत्तर प्रदेश : इलाहाबाद विश्वविद्यालय की कुलपति को सोने में परेशानी हो रही है। इसे लेकर कुलपति डॉ. संगीता श्रीवास्तव ने डीएम को पत्र लिखा है। उन्होंने पत्र में कहा है कि अलसुबह मस्जिद में रोज सुबह साढ़े पांच बजे लाउडस्पीकर पर अजान होती है। इससे उनकी बंद बाधित हो जाती है। उसके बाद वो तमाम कोशिशों के बाद भी नहीं सो पातीं। इस वजह से उनके सिर में दिनभर दर्द रहता है और कामकाज भी प्रभावित होता है। कुलपति ने पत्र में पुरानी कहावत का उल्लेख करते हुए लिखा है ‘आपकी स्वतंत्रता वहीं खत्म हो जाती है जहां से मेरी नाक शुरू होती है’। उन्होंने साथ ही ये भी स्पष्ट किया है कि वे किसी संप्रदाय, जाति या वर्ग के खिलाफ नहीं हैं। उन्होंने पत्र में आगे कहा है कि अजान बिना लाउडस्पीकर के भी की जा सकती है, ताकि दूसरों की दिनचर्या प्रभावित न हो। पत्र में कहा गया है कि रमजान का महीना भी आने वाला है, आगे तो सहरी की घोषणा भी सुबह 4 बजे होगी। ये कुलपति और दूसरों के लिए परेशानी की वजह बनेगा।

इलाहाबाद हाईकोर्ट के आदेश का हवाला दिया

पत्र में कहा गया है कि भारत के संविधान में सभी वर्ग के लिए पंथनिरपेक्षता और शांतिपूर्ण सौहार्द की परिकल्पना की गई है। पत्र में इलाहाबाद हाईकोर्ट के आदेश (पीआईएल नंबर- 570 ऑफिस 2020) का हवाला भी दिया गया है। कुलपति ने मामले में डीएम द्वारा त्वरित कार्रवाई किए जाने की अपेक्षा जताई है। कुलपति का मानना है इससे बड़े स्तर पर सराहना होगी। इसी के साथ प्रभावित लोगों को लाउडस्पीकर की तेज आवाज से होने वाली अनिंद्र से निजात और शांति मिलेगी। पत्र की कॉपी कमिश्नर, आईजी और डीआईजी को भी भेजी गई है। मामले में संबंधित अधिकारी को जांच कर वैधानिक कार्रवाई का निर्देश दिया गया है। मशहूर गायक सोनू निगम ने भी इससे पहले ये मुद्दा उठाया था।

शेयर करें

मुख्य समाचार

जम्मू कश्मीर में सुरक्षाबलों ने 72 घंटे में मार गिराए 12 आतंकी

श्रीनगर: जम्मू-कश्मीर में आतंकवादियों के खिलाफ सुरक्षाबलों को बड़ी सफलता मिली है। पिछले 72 घंटे में सुरक्षाबलों ने 12 आतंकवादियों को मार गिराया गया है। आगे पढ़ें »

बोले केजरीवाल नहीं चाहते लॉकडाउन पर मजबूरी में कुछ पाबंदियों के दिए आदेश

नई दिल्ली : दिल्ली में कोरोना के बढ़ते मामलों के मद्देनजर दिल्ली सरकार ने शनिवार को सख्त पाबंदियों की घोषणा की थी। इसके बाद आज आगे पढ़ें »

ऊपर