प्रियंका बनी आलिया… अदालत का लव जिहाद पर यह बड़ा फैसला

– इलाहाबाद अदालत ने कहा कि संविधान के अनुच्छेद-21 ‘युवाओं को अपनी पसंद का जीवन साथी चुनने का अधिकार’

प्रयागराज : उत्तर प्रदेश में लव जिहाद को लेकर विवादों और विकल्पों का दौर चल रहा है। मुख्यमंत्री योगी लव जिहाद पर अंकुश लगाने हेतु कड़े कानून पर मुहर लगाने जा रहे हैं। ऐसे में इलाहाबाद हाई कोर्ट ने दो अलग-अलग धर्मों के बालिग लड़के और लड़की के प्रेम विवाह के मामले में एक अहम फैसला सुनाया है। हाई कोर्ट ने कहा है कि दो युवाओं को अपनी पसंद का जीवन साथी चुनने का अधिकार है। कानून दो बालिग व्यक्तियों को एक साथ रहने की इजाजत देता है। चाहे वे समान या विपरीत सेक्स के ही क्यों न हों।

राज्य नहीं दे सकता बालिगों के निजी जिंदगी में दखल
कोर्ट ने साफ किया कि उनके शांतिपूर्ण जीवन में कोई व्यक्ति या परिवार दखल नहीं दे सकता है। यहां तक कि राज्य भी दो बालिग लोगों के संबंध को लेकर आपत्ति नहीं कर सकता है। कुशीनगर के विष्णुपुरा थाना क्षेत्र के रहने वाले सलामत अंसारी और तीन अन्य की ओर से दाखिल याचिका पर जस्टिस पंकज नकवी और जस्टिस विवेक अग्रवाल की डिवीजन बेंच ने यह फैसला सुनाया है।

क्या है पूरा मामला
सलामत अंसारी और प्रियंका खरवार ने परिवार की मर्जी के खिलाफ शादी की है। दोनों ने मुस्लिम रीति-रिवाजों को मानते हुए 19 अगस्त 2019 को शादी की और शादी के बाद प्रियंका खरवार मुस्लिम धर्म अपनाकर अब आलिया बन गई है।

परिवार ने किया पॉक्सो के तहत केस दर्ज
प्रियंका के पिता ने इस मामले में विष्णुपुरा थाने में बेटी के अपहरण और पॉक्सो ऐक्ट के तहत एफआईआर दर्ज करवाई है। हाई कोर्ट में सलामत अंसारी, प्रियंका खरवार और दो अन्य की ओर से याचिका दाखिल कर एफआईआर रद्द करने और सुरक्षा देने की मांग की गई थी। कोर्ट ने माना कि प्रियंका खरवार उर्फ आलिया की उम्र का कोई विवाद नहीं है। उसकी उम्र 21 वर्ष है। कोर्ट ने प्रियंका खरवार उर्फ आलिया को अपने पति के साथ रहने की छूट दी है। हाई कोर्ट ने कहा कि इस मामले में पॉक्सो एक्ट भी लागू नहीं होता है। इस आधार पर कोर्ट ने याचियों के खिलाफ दर्ज प्राथमिकी को भी रद्द कर दिया है।

सरकार ने आपत्ति जताते हुए इसके पूर्व नूरजहां और प्रियांशी उर्फ समरीन के मामले में शादी के लिए धर्म परिवर्तन करने को भी अवैध माना है जिस पर कोर्ट ने असहमति जतायी। वहीं हाई कोर्ट ने पिता के बेटी से मिलने के अधिकार पर कहा कि बेटी की मर्जी है कि वह किससे मिलना चाहेगी। हालांकि इसके साथ ही हाई कोर्ट ने यह भी उम्मीद जतायी कि बेटी परिवार के लिए सभी उचित शिष्टाचार और सम्मान का व्यवहार करेगी।

‘हिंदू-मुस्लिम नहीं देखती अदालत’
प्रियंका खरवार उर्फ आलिया के पिता ने आरोप लगाया कि शादी के लिए धर्म परिवर्तन प्रतिबंधित है और ऐसे में यह शादी कानून की नजर में वैध नहीं है। लेकिन अदालत ने कहा है कि यह व्यक्ति की पसंद का तिरस्कार, पसंद की स्वतंत्रता के अधिकार के खिलाफ है। कोर्ट ने स्पष्ट किया कि प्रियंका खरवार और सलामत को अदालत हिंदू और मुस्लिम के रूप में नहीं देखती है बल्कि दो युवाओं के रुप में देखती है। कोर्ट ने कहा कि संविधान के अनुच्छेद-21 ने अपनी पसंद और इच्छा से किसी व्यक्ति के साथ शांति से रहने की आजादी देता है। इसलिए इसमें हस्तक्षेप नहीं किया जा सकता है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

ममता बनर्जी बोलीं- केंद्र का असंवेदनशील रवैया और उदासीनता है जिम्मेदार

कोलकाता: किसानों ने आज गणतंत्र दिवस के मौके पर राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में ट्रैक्टर रैली निकाली।इस दौरान शहर के अलग-अलग हिस्सों में हिंसा की घटना आगे पढ़ें »

WhatsApp call फ्री और आसानी से रेकॉर्ड करना चाहते हैं तो अपनाएं ये टिप्स

नई दिल्ली : आपके लिए वॉयस कॉल रेकॉर्ड करना काफी आसान होता है, क्योंकि आपके मोबाइल की स्क्रीन पर ही आपको कॉल रिकॉर्ड का ऑप्शन दिख आगे पढ़ें »

ऊपर