वायुसेना प्रमुख बोले- डीआरडीओ को पांचवीं पीढ़ी का लड़ाकू विमान बनाना जरूरी

air

नई दिल्ली : वायु सेना प्रमुख राकेश कुमार सिंह भदौरिया ने मंगलवार को भारतीय वायुसेना को सफल हथियार प्रणाली देने के लिए रक्षा अनुसंधान और विकास संगठन (डीआरडीओ) की प्रशंसा करते हुए कहा कि डीआरडीओ को 5वीं पीढ़ी का उन्नत मध्यम लड़ाकू विमान (एएमसीए) बनाना चाहिए। उन्होंने डीआरडीओ की 41वीं निदेशकों के सम्मेलन में कहा कि भविष्य में प्रौद्योगिकी नेतृत्व का मतलब होगा कि यह हमें प्रतिकूल परिस्थितियों में एक तकनीकी ताकत उपलब्ध करायेगा।

इलेक्ट्रॉनिक युद्ध प्रणाली ने तकनीकी बराबरी दी

वायु सेना प्रमुख भदौरिया ने कहा कि ‘डीआरडीओ के साथ वायुसेना के जुड़ाव का एक लंबा इतिहास है। 70 के दशक में हम अपने प्रतिद्वंद्वियों के पीछे थे और फिर डीआरडीओ ने कदम रखा और हमें इलेक्ट्रॉनिक युद्ध प्रणाली दी, जिससे हमें तकनीकी बराबरी मिली।’ उन्होंने कहा कि सरल राडार चेतावनी प्रणाली और इलेक्ट्रॉनिक युद्ध प्रणाली ने भारतीय वायुसेना के अभियानों का स्वरूप बदल दिया।

भारतीय वायुसेना का स्वाभिमान भी दांव पर : वायु सेना प्रमुख

भदौरिया ने कहा, ‘अब एएमसीए की बारी है, ये डीआरडीओ की परियोजना है। और हम इसे 5वी पीढ़ी का कहते हैं, सिर्फ इसलिए ये मतलब नहीं है कि हम 5वीं पीढ़ी तक सीमित हैं। हो सकता है कि ये 6ठी पीढ़ी की प्रौद्योगिकी हो। हम बस इसे 5वीं पीढ़ी का कहते हैं।’ साथ ही उन्होंने यह भी कहा कि डीआरडीओ को इसे साकार करना ही होगा, क्योंकि न सिर्फ आपका, बल्कि भारतीय वायुसेना का स्वाभिमान भी दांव पर लगा है।’

शेयर करें

मुख्य समाचार

ममता की हुंकार : नहीं होने देंगे एनआरसी

सागरदिघी (मुर्शिदाबाद) : राष्ट्रीय नागरिक रजिस्टर (एनआरसी) को लेकर राजनीतिक बहस बढ़ती ही जा रही है। बुधवार को मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने हुंकार भरते हुए आगे पढ़ें »

डीआरआई का रेड और नोटों की बारिश

कोलकाता : महानगर के डलहौसी इलाके के बेन्टिक स्ट्रीट में बुधवार की दोपहर बाद अचानक एक कामर्शियल बिल्डिंग से नोटों की बारिश होने लगी। घटना आगे पढ़ें »

ऊपर