वायुसेना प्रमुख बोले- डीआरडीओ को पांचवीं पीढ़ी का लड़ाकू विमान बनाना जरूरी

air

नई दिल्ली : वायु सेना प्रमुख राकेश कुमार सिंह भदौरिया ने मंगलवार को भारतीय वायुसेना को सफल हथियार प्रणाली देने के लिए रक्षा अनुसंधान और विकास संगठन (डीआरडीओ) की प्रशंसा करते हुए कहा कि डीआरडीओ को 5वीं पीढ़ी का उन्नत मध्यम लड़ाकू विमान (एएमसीए) बनाना चाहिए। उन्होंने डीआरडीओ की 41वीं निदेशकों के सम्मेलन में कहा कि भविष्य में प्रौद्योगिकी नेतृत्व का मतलब होगा कि यह हमें प्रतिकूल परिस्थितियों में एक तकनीकी ताकत उपलब्ध करायेगा।

इलेक्ट्रॉनिक युद्ध प्रणाली ने तकनीकी बराबरी दी

वायु सेना प्रमुख भदौरिया ने कहा कि ‘डीआरडीओ के साथ वायुसेना के जुड़ाव का एक लंबा इतिहास है। 70 के दशक में हम अपने प्रतिद्वंद्वियों के पीछे थे और फिर डीआरडीओ ने कदम रखा और हमें इलेक्ट्रॉनिक युद्ध प्रणाली दी, जिससे हमें तकनीकी बराबरी मिली।’ उन्होंने कहा कि सरल राडार चेतावनी प्रणाली और इलेक्ट्रॉनिक युद्ध प्रणाली ने भारतीय वायुसेना के अभियानों का स्वरूप बदल दिया।

भारतीय वायुसेना का स्वाभिमान भी दांव पर : वायु सेना प्रमुख

भदौरिया ने कहा, ‘अब एएमसीए की बारी है, ये डीआरडीओ की परियोजना है। और हम इसे 5वी पीढ़ी का कहते हैं, सिर्फ इसलिए ये मतलब नहीं है कि हम 5वीं पीढ़ी तक सीमित हैं। हो सकता है कि ये 6ठी पीढ़ी की प्रौद्योगिकी हो। हम बस इसे 5वीं पीढ़ी का कहते हैं।’ साथ ही उन्होंने यह भी कहा कि डीआरडीओ को इसे साकार करना ही होगा, क्योंकि न सिर्फ आपका, बल्कि भारतीय वायुसेना का स्वाभिमान भी दांव पर लगा है।’

शेयर करें

मुख्य समाचार

विमान की सीट के नीचे मिला डेढ़ किलो सोना

कोलकाता : बैंकाक से कोलकाता आये स्पाइस जेट के विमान से कस्टम्स की एआईयू टीम ने डेढ़ किलो सोना जब्त किया है। सूत्रों के मुताबिक आगे पढ़ें »

भारत के प्रति कृतज्ञ है बंगलादेश – हसीना

कोलकाता : बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी और बंगलादेश की पीएम शेख हसीना के बीच शुक्रवार को एक 5 सितारा होटल में बैठक हुई। इस आगे पढ़ें »

ऊपर