लाल किला घटना पर कृषिमंत्री बोले-हिंसक प्रदर्शन के लिए पीएम मोदी दोषी

हजारीबाग: गणतंत्र दिवस के अवसर पर दिल्ली के लाल किला पर जिस तरह से किसानों ने प्रदर्शन किया है इसे लेकर झारखंड कृषिमंत्री बादल पत्रलेख ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को दोषी करार दिया है। दरअसल, 26 जनवरी गणतंत्र दिवस के अवसर पर दिल्ली की सड़कों पर कृषि कानून के विरोध में ट्रैक्टर मार्च निकाला गया। इस दौरान जमकर उत्पात मचाया गया। झारखंड सरकार के मंत्री बादल पत्रलेख ने इस घटना के लिए प्रधानमंत्री मोदी को दोषी करार देते हुए कहा कि सैकड़ों जान जाने के बाद भी इस कानून पर विचार नहीं किया और सिर्फ तारीख पर तारीख दिया है। ऐसे में किसान आपा खोकर सड़क पर प्रदर्शन कर रहे हैं। किसानों का दर्द सड़कों पर दिख रहा था। उन्होंने कहा कि जो गलत है वो गलत है लेकिन गलत के पीछे का कारण क्या है इसे भी हमें सोचना चाहिए।
कृषिमंत्री ने कहा कि मैं अभी भी किसानों के साथ हूं। आने वाले 31 जनवरी को विशाल किसान रैली गोड्डा से निकाली जाएगी, जो देवघर के रोहनी शहीद स्थल पहुंचेगी। इस रैली का मुख्य उद्देश्य केंद्र सरकार को यह संदेश देना है कि सिर्फ पंजाब और हरियाणा के किसान ही नहीं बल्कि पूरे देश के किसान इस काला कानून के खिलाफ है। उन्होंने हजारीबाग में भी किसानों और उनसे जुड़े संगठन से अपील की है कि वे भी एक रैली निकालकर किसानों के साथ खड़े रहें और सरकार को संदेश दें कि इस कानून को वापस ले।

शेयर करें

मुख्य समाचार

मधुशाला पर भी चुनाव आयोग की विशेष नजर!

देशी से लेकर विदेशी शराब की बिक्री का रखा जा रहा हिसाब सन्मार्ग संवाददाता कोलकाताः इस बार भी चुनाव आयोग की नजर मधुशालाओं पर भी है। आयोग आगे पढ़ें »

104 डिग्री मिला तापमान तो अंत में ही दे सकेंगे वोट

चुनाव आयोग की कोरोनाकाल में विशेष गाइडलाइन सन्मार्ग संवाददाता कोलकाताः कोरोना काल में विधानसभा चुनाव में संक्रमण से बचाव के लिए चुनाव आयोग ने विशेष पहल की आगे पढ़ें »

ऊपर