कृषि वैज्ञानिकों ने पेश की गेंहू की नई किस्म ‘करन वंदना’, रोग प्रतिरोधक क्षमता से भरपूर

wheat

नई दिल्ली : भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद (आईसीएआर) के करनाल स्थित गेहूं एवं जौ अनुसंधान संस्थान केन्द्र ने गेहूं की एक नई किस्म ‘करन वन्दना’ पेश की है। कृषि वैज्ञानिकों के अनुसार यह किस्म रोग प्रतिरोधी क्षमता रखने के साथ-साथ अधिक उपज देने वाली है। गेहूं की यह किस्म उत्तर-पूर्वी भारत के गंगा तटीय क्षेत्र के लिए अधिक उपयुक्त है। बताया जा रहा है कि वर्षो के अनुसंधान के बाद विकसित ‘करन वन्दना’ अधिक पैदावार देने के साथ गेहूं ‘ब्लास्ट’ नामक बीमारी से भी लड़ने में सक्षम है। यह किस्म पूर्वी उत्तर प्रदेश, बिहार, पश्चिम बंगाल, असम जैसे उत्तर पूर्वी क्षेत्रों की कृषि भौगोलिक परिस्थितियों और जलवायु में खेती के लिए उपयुक्त है। इतना ही नहीं जहां गेहूं की अन्य किस्मों से औसत उपज 55 क्विन्टल प्रति हेक्टेयर तक प्राप्त की जाती है वहीं ‘करन वन्दना’ से 64.70 क्विन्टल प्रति हेक्टेयर से भी अधिक की पैदावार हासिल की जा सकती है।

महत्वपूर्ण खनिज है मौजूद

संस्थान के निदेशक डॉ. ज्ञानेन्द्र प्रताप सिंह ने बताया कि ‘‘गेहूं की इस नई किस्म (‘करन वन्दना’-डीबीडब्ल्यू 187) में रोग से लड़ने की कहीं अधिक क्षमता है। साथ ही इसमें प्रोटीन के अलावा जैविक रूप से जस्ता, लोहा और कई अन्य महत्वपूर्ण खनिज मौजूद हैं जो आज पोषण आवश्यकताओं की जरुरत के लिहाज से इसे बेहद उपयुक्त बनाता है।’’ उन्होंने यह भी बताया कि सामान्य तौर पर धान में ‘ब्लास्ट’ नामक एक बीमारी देखी जाती थी लेकिन पहली बार दक्षिण पूर्व एशिया में और अभी हाल ही में बांग्लादेश में गेहूं की फसल में इस रोग को पाया गया था और तभी से इस चुनौती के मद्देनजर विशेषकर उत्तर पूर्वी भारत की स्थितियों के अनुरूप गेहूं की इस किस्म को विकसित करने के लिए शोध कार्य शुरु हुआ जिसके परिणामस्वरूप ‘करन वन्दना’ अस्तित्व में आया।

रोग प्रतिरोधक क्षमता वाला है ये किस्म

इस किस्म में ‘ब्लास्ट’ रोग के साथ कई रोगों के प्रति प्रतिरोधक क्षमता पाई गई है। उन्होंने बताया कि इस नई किस्म के गेहूं की बुवाई के बाद फसल की बालियां 77 दिनों में निकल आती है और कुल 120 दिनों में यह पूरी तरह से तैयार हो जाता है। उन्होंने यह भी बताया कि गोरखपुर के महायोगी गोरखनाथ कृषि विज्ञान केन्द्र के साथ मिलकर स्थानीय किसानों के लिए प्रशिक्षण कार्यक्रम का आयोजन किया था।

महिला किसान ने भारी मात्रा में उत्पादन कर किया चकित

इस कार्यक्रम से जिले के राखूखोर गांव की प्रशिक्षण लेने वाली एक महिला किसान (कोल्ला देवी) ने इस बीज की खेती कर लगभग 80 क्विन्टल प्रति हेक्टेयर गेहूं का उत्पादन कर सबको चकित कर दिया। निदेशक डॉ. सिंह ने कहा कि संस्थान की ओर इस किस्म को पश्चिमी भारत में भी खेती के लिए सिफारिश की जायेगी।

शेयर करें

मुख्य समाचार

सन्मार्ग एक्सक्लूसिव :आर्थिक पैकेज से हर वर्ग को राहत, न अन्न की कमी, न धन की : ठाकुर

 विशेष संवाददाता, कोलकाता : कोविड-19 संकट के आघात से देश और देश की अर्थव्यवस्था को उबारने के लिए केंद्र सरकार हरसंभव कोशिश कर रही है। आगे पढ़ें »

जार्ज फ्लायड की मौत पर आईसीसी ने कहा, विविधता के बिना क्रिकेट कुछ नहीं

दुबई : अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद (आईसीसी) ने शुक्रवार को कहा कि ‘क्रिकेट विविधता के बिना कुछ भी नहीं है।’ उसने यह बयान अफ्रीकी मूल के आगे पढ़ें »

टेस्ट मैच में लागू होगा कोरोना सब्स्टीट्यूट, जल्द मिलेगी आईसीसी की मंजूरी

विश्व पर्यावरण दिवस विशेष : तीन दशक से पर्यावरण-जंगल की रक्षा कर रहे रामगढ़ के वीरू महतो

स्थिति ठीक होने पर ही टूर्नामेंट्स हो, आज यूएस ओपन होता है तो मैं नहीं खेलूंगा : नडाल

ट्रेडिंग के आखिरी के घंटों में गंवाया लाभ, निफ्टी 0.32% और सेंसेक्स 128.84 अंक नीचे हुआ बंद

आईडब्ल्यूएफ से मुआवजे की मांग करेंगी भारोत्तोलक संजीता चानू

दर्शकों के बिना कैसे होगा विश्व कप, उचित समय का इंतजार करे आईसीसी : अकरम

बंगाल में तूफान से भी तेज हुई कोरोना मामलों की गति, अब तक के सबसे अधिक आए मामले

पश्चिम बंगाल में बेरोजगारी की दर देश की तुलना में कम: सीएमआईई आंकड़े

एसबीआई ने 2019-20 की चौथी तिमाही में 3,581 करोड़ रुपये का शुद्ध लाभ दर्ज किया

ऊपर