खाटू श्याम जी को मत्था टेकने के बाद लगाएं ये तीन भोग, मिलेगा सौभाग्य का आशीर्वाद

जयपुरः राजस्थान के सीकर जिले में श्री कृष्ण के कलयुगी अवतार बाबा श्याम का भव्य मंदिर स्थित है, बाबा के दरबार में हर साल बड़ी संख्या में श्रद्धालु आते हैं और प्रसाद चढ़ा कर उनका दर्शन करते हैं। मान्यता है कि सच्चे मन से बाबा श्याम की पूजा आराधना करने से बाबा सभी की मुरादें पूर करते हैं और रंक को भी राजा बना देते हैं। भक्त खाटू श्याम के दरबार में मत्था टेकने के बाद प्रसाद चढ़ाते हैं और बाबा का शुभ आशीर्वाद प्राप्त करते हैं।ऐसे में आज हम आपको ऐसे तीन प्रसाद के बारे में बताने वाले हैं जो बाबा श्याम को प्रिय भोग है। तो आइए जानते हैं बाबा श्याम के प्रिय भोग के बारे में साथ ही जानेंगे इसे बनाने की विधि।

ये है बाबा श्याम का प्रिय भोग

बाबा श्याम का सबसे प्रिय भोग गौ माता का कच्चा दूध है। यह पहला भोग है जिसे श्याम बाबा ने खाटू की धरती पर सबसे पहले स्वीकार किया था। बता दें की बाबा श्याम का शीश श्याम कुंड से प्रकट हुआ। कहा जाता है कि शीश प्रकट होने से पहले इस जगह पर एक गौ के थनों से स्वत: ही दूध जाने लगा, जब यह बात गौ पालक को पता चली तो उसने उस जगह पर खुदाई शुरू कर दी तब वहां पर शीश प्रकट हुआ। इसलिए माना जाता है कि गौ दूध पहला प्रसाद है जो बाबा श्याम को सबसे ज्यादा पसंद है। ऐसे में हो सके तो आप भी गौ माता का दूध प्रसाद के रूप में खाटू मंदिर में जरूर चढ़ाएं और परम कृपा के पात्र बने।

प्रसाद के रूप में बाबा श्याम को चढ़ती हैं ये चीजें

खीर चूरमा 

बाबा के द्वादशी पर ज्योत के रूप में घर घर में खीर चूरमे का भोग लगाया जाता है। अगर आप खाटू श्याम जी के मंदिर में भी यह भोग लगाना चाहते है तो आप घर पर ही खीर और चूरमा बना लें क्योंकि खाटू नगरी में दुकानों पर मिलने वाला चूरमा आपको पसंद नहीं आएगा।

बनाने की विधि 

1 कप गेहूं का आटा
1/2 कप देशी घी
1/3 कप या स्वाद अनुसार गुड़
2 टेबल स्पून बारीक कटी बादाम (मनपसंद के ड्राई फ्रूट्स ले सकते है)
1 टेबल स्पून सूजी ( जरूरी नहीं)
4-5 इलायची के दाने
आवश्यकता अनुसार पानी

इसके लिए सबसे पहले आटे में 2 टेबल स्पून घी डाल कर अच्छी तरह से मिक्स कर लें और पानी डाल कर सख्त आटा गूंथ लें। इसके बाद इसका लोई बना कर 3 गोल मोटी रोटी की तरह बेल लें। इसके बाद तवे पर सेक लें और चम्मच से गोद दें। थोड़ा घी लगाते हुए दबा दबा कर सेकें। सेकने के बाद थोड़ा ठंडा कर छोटे-छोटे टुकड़े में तोड़ लें। फिर इसमें इलायची के दाने डालकर मिक्सी में पीस लें। इसके बाद कटे हुए बादाम डाल लें।आपका चूरमा तैयार है।

पंचमेवा प्रसाद

श्याम बाबा को आप पंचमेवा प्रसाद का भी भोग लगा सकते हैं। इसका सबसे बड़ा फायदा यह है की ये कुछ दिनों तक खराब नहीं होता है। पंचमेवा को बादाम, काजू, छुआरा, मिश्री और किशमिश डाल कर बनाया जाता है।

बनाने की विधि 

कढ़ाई में थोड़ा घी डालकर हल्का गरम कर लें और फिर इसमें एक कप आटा डालकर भून लें। अब इसमें कटे हुए बादाम, काजू और नारियाल और एक चौथाई कप मखाने काट कर डाल दें। ड्राई फ्रूट्स को भी लगभग 1 से 2 मिनट तक भून लें। 3-4 इलाइची कूट कर डालें और आंच को बंद कर पंजीरी को ठंडा होने दें। इसके बाद इसमें आधा कप भूरा यानि पीसी हुई चीनी डालकर अच्छे से मिला लें।

मावे के पेड़े

बाबा के भक्तो में यह प्रसाद भी बहुत प्रसिद्ध है। खाटू नगरी में सबसे ज्यादा पेडे़ प्रसाद के रूप में बिकते हैं। यह आपको वहां पर आसानी से मिल जाएंगे।

 

शेयर करें

मुख्य समाचार

मवेशी तस्करी मामला : शांतिनिकेतन पहुंचा सीबीआई का प्रतिनिधिमंडल

कोलकाताः गौ तस्करी मामले में शांतिनिकेतन पहुंचा सीबीआई का प्रतिनिधिमंडल। गौ तस्करी मामले में सीबीआई के जांच अधिकारी सुशांत भट्टाचार्य पहुंचे शांतिनिकेतन के रतनकुथी गेस्ट आगे पढ़ें »

विधवा मां के थे अवैध संबंध, बेटी ने किया विरोध तो उसको उतारा मौत के घाट

नदियाः पिता की मौत के बाद मां इलाके के ही एक युवक के साथ प्रेम संबंध बनाने लगी। महिला की 18 वर्षीय बेटी इस बात आगे पढ़ें »

ऊपर