पति को मार कर शव रसोई में दफनाया,एक महीने तक कब्र पर बनाती रही खाना

Husban's murder and buried in kitchen

अनूपपुर : मध्य प्रदेश के अमरकंटक इलाके में एक ऐसा सनसनीखेज मामला सामने आया है। प्रतिमा बनावल नामक महिला ने अपने पति महेश बनावल को मौत की घाट उतारने के बाद उसके शव को रसोई में दफना दिया। शव को दफनाने के बाद प्रतिमा ने उसी स्‍थान पर चूल्हा बनाया और लगभग एक महीने तक उसके कब्र के ऊपर खाना बनाती रही। हत्याकांड का पता लगने के बाद पुलिस ने आरोपी को गिरफ्तार कर लिया है। आराेपी की उम्र 32 साल बताई जा रही है और वह अमरकंटक के करोंदी गांव की निवासी है। पुलिस ने गुरुवार को मामले का खुलासा करते हुए चूल्हे के पास बने कब्र से शव को निकाला।

पत्नी ने पति की गुमशुदगी की शिकायत पुलिस से की थी

हत्या के बाद महिला ने स्थानीय पुलिस थाने में 22 अक्टूबर को पति की गुमशुदगी की रिपोर्ट भी दर्ज करा दी थी। पुलिस मामले की जांच में जुटी हुई थी। लेकिन मृतक महेश के बड़े भाई अर्जुन बनावल को कुछ शक हुआ। उन्होंने पुलिस को फोन कर यह जानकारी दी कि उसके भाई के घर में कुछ गडबड़ है, मैं उसके घर जाता हूं तो उसकी पत्नी हर बार मुझे बाहर से ही भेज देती है।

इस जानकारी के आधार पर पुलिस मृतक के घर पहुंची तो उन्हें शव की गंध आई। जब किचन में पहुंचे तो गंध और तेज हो गई। इसके बाद पुलिस ने किचन में खुदाई कर शव बाहर निकाला।

आरोपी पत्नी बोली- जेठ भी हत्या में शामिल

गिरफ्तारी के बाद आरोपी पत्नी प्रमिला ने कहा कि पति के जेठानी के साथ अवैध संबंध थे। मैंने कई बार उसे अपने आंखों से उसके साथ देखा था। लेकिन झगड़े और मारपीट के डर से मैंने कभी इन चीजों का जिक्र उससे नहीं किया।

जेठ ने कहा- मैं इस हत्या में शामिल नहीं हूं

इस बात की जानकारी अपने जेठ और मृतक के बड़े भाई गंगाराम बनावल को दी थी। इसके बाद हमने मिलकर उसे मारने का प्लान बनाया। ये सुनकर पुलिस भी हैरान हो गई। वहीं बड़े भाई गंगाराम ने विरोध दर्ज कराते हुए कहा कि उसके छोटे भाई की पत्नी बहुत चालाक है। मैं इस कत्ल में शामिल नहीं हूं।

शेयर करें

मुख्य समाचार

बंगाल में कोरोना के 1390 आये नये मामले

कोलकाता : वेस्ट बंगाल कोविड-19 हेल्थ बुलेटिन के अनुसार पश्चिम बंगाल में पिछले 24 घंटे में कोरोना वायरस संक्रमण के 1390 नये मामले सामने आये आगे पढ़ें »

भारत में अल्पपोषित लोगों की संख्या छह करोड़ घटकर 14 प्रतिशत पर पहुंची : संयुक्त राष्ट्र

संयुक्त राष्ट्र : भारत में पिछले एक दशक में अल्पपोषित लोगों की संख्या छह करोड़ तक घट गई है। संयुक्त राष्ट्र की एक रिपोर्ट में आगे पढ़ें »

ऊपर