नये साल में फिट रहने की कार्य योजना

 

डिब्बाबंद फ्रूट जूस का सेवन न करें
विशेषज्ञों के अनुसार वजन कम करने के लिए फलों का सेवन अधिक लाभप्रद है बजाय फ्रूट जूस के विशेषकर पैक्ड जूस के। इसका कारण है स्मूदीज और जूस तरल होनेे के कारण हम कितनी कैलरीज ले रहे हैं इसका अंदाजा लगाना मुश्किल होता है। फ्रूट्स से हमें एंटी ऑक्सीडेंटस, विटामिन्स और फाइबर की प्रचुर मात्रा मिलती है जो हमारे स्वास्थ्य हेतु लाभप्रद है। फलों के सेवन से त्वचा की चमक भी बरकरार रहती है।
कुछ फैट्स भी जरूरी
अधिकतर लोगों को गलतफहमी होती है कि वजन कम करने के लिए फैट्स का सेवन नहीं करना चाहिए पर विशेषज्ञों के अनुसार सभी तरह के फैट्स बंद न करें। कुछ फैट्स का सेवन स्वास्थ्य हेतु जरूरी है।  इसी प्रकार एवोकेडो का सेवन भी लाभप्रद हे। ‘बैड फैट्स और गुड फैट्स में अंतर जानें और नो फैट्स’ की अवधारणा से स्वयं को उबारें।
अल्कोहल का सेवन कम करें
अपने लिवर की बेहतरी के लिए अल्कोहल का सेवन कम करें ताकि आप हेल्दी रह सकें। अगर आप रोज ड्रिंक्स का सेवन करते हैं तो सप्ताह में कम से कम दो दिन लिवर को आराम पहुंचाने के लिए शराब का सेवन न करें। इस प्रकार धीरे धीरे बढ़ाते जाएं। अधिक शराब के सेवन से कमर का साइज तो बढ़ता ही है साथ चेहरे की त्वचा भी प्रभावित होती है। विशेषकर त्योहारों और समारोहों के अवसर पर शराब का सेवन न करें। इन दिनों वैसी ही कैलरीज ज्यादा हो जाती है।
अपनी कमर का नाप लें
अपने मोटापे का सही अंदाजा लगाना है तो इंचीटेप से अपनी कमर को नापें। नाभि से जरा सा ऊपर अपने कमर और पेट को इंचीटेप से नापें। आपकी कमर का साइज आपकी लंबाई से आधे से कम होना चाहिए। इसलिए एक इंचीटेप खरीदें और अपनी कमर और लंबाई का नाप लें। हर रोज वजन करने से बेहतर होता है सप्ताह में एक बार कमर का नाप लें।
दो भोजनों के बीच कुछ न खाएं
वैसे फिट रहने के लिए हमें मुख्य तीन पौष्टिक और संतुलित आहार लेने चाहिए जैसे नाश्ता, दोपहर और रात्रि का भोजन। कुछ ही लोगों को दिन में छोटे-छोटे पांच आहार लेने को कहा जाता है।
बिना विशेषज्ञ की राय के पांच आहार छोटे-छोटे न लें। 3 आहार ही ठीक हैं। अगर आप अपनी मर्जी से छोटे आहार कई बार लेते हैं और कैलरीज का ध्यान नहीं रखते तो जल्दी ही आपका आकार लार्ज होता जाएगा। इसलिए छोटे आहार लेने वालों को भी कैलरीज के प्रति सावधान रहना चाहिए।
मीठे का सेवन कम करें
त्योहारों पर वजन आसानी से बढ़ता है इसके पीछे मुख्य कारण होता है मीठे का अधिक सेवन। त्योहारों और समारोहों के अवसर पर तीन चीजों को लेना नियंत्रित करें यथा मिठाई, चाकलेट, केक और ब्रेड। मैदा, ब्रेड या आटा ब्रेेड  का सेवन भी संतुलित करें। इसी प्रकार डार्क चाकलेट जिनमें 80 प्रतिशत या उससे अधिक चाकलेट हो, उसका सेवन करें। कम प्रतिशत वाली चाकलेट का सेवन न करें। इन चीजों से हमारी आंतों पर प्रभाव पड़ता है। इसी प्रकार केक में कैलरीज के अलावा कुछ हेल्दी नहीं होता। इसका सेवन उन्हें करने दें जो अपनी वेस्टलाइन की परवाह नहीं करते। चीनी और कार्बोहाइड्रेट का सेवन कम से कम करें।

 

शेयर करें

मुख्य समाचार

मरीज था वेंटिलेटर पर, मिनरल वाटर का भी बनाया बिल

सन्मार्ग संवाददाता कोलकाताः ढाकुरिया स्थित एक निजी हॉस्पिटल में भर्ती 74 साल के मरीज के परिजनों ने वेस्ट बंगाल क्लिनिकल इस्टेब्लिशमेंट रेग्युलेटरी कमिशन में अधिक बिल आगे पढ़ें »

सोशल मीडिया के जरिये आज राजीव करेंगे ‘मन की बात’

सोशल मीडिया पर राजीव के समर्थक दे रहे हैं सुझाव, सोच-समझ कर निर्णय करें हावड़ा : राज्य के मंत्री राजीव बनर्जी आज फेसबुक लाइव होनेवाले हैं। आगे पढ़ें »

ऊपर