बुढ़ापे में बहुत कुछ बदल जाता है

वृद्धावस्था के बदलाव को युक्ति संगत जीवनशैली एवं खानपान से सुखद किया जा सकता है। बुढ़ापे में वजन घटना, ऊंचाई घटना, याददाश्त में कमी आना, खानपान में कमी, प्रतिरोधक क्षमता में कमी, पाचन में कमी, नव कोशिकाओं के निर्माण में कमी, ये परिवर्तन की आम बातें हैं। यदि ऐसा बदलाव परेशान कर रहा हो तो जीवनचर्या एवं खानपान पर ध्यान दें। वृद्धों से अधिक भोजन करने की अपेक्षा न करें। उन्हें उपयुक्त पोषक तत्व वाला आहार दें। थोड़ा-थोड़ा करके दिन में कई बार खिलाएं। बिना मलाई वाला दूध दें। नाश्ता जरूर कराएं। बच्चों व युवाओं के साथ हिलने मिलने दीजिए। अपने निर्णयों के विषय में उनमें भी राय लीजिए। भोजन गरिष्ठ न हो। सुपाच्य भोजन, फल सब्जियां सूप दें। प्रोटीन विटामिन व खनिज तत्वों की कमी न होने दें। बाहर की हवा व धूप से भी लाभ मिलेगा। उन्हें भी पिकनिक या पार्टी में ले जायें।
आघात के खतरों को कम करती है उचित जीवनशैली

हृदयाघात के दस मुख्य कारक माने जाते हैं। इनमें रक्तचाप, धूम्रपान, अनियमित हृदय धड़कन, कोलेस्ट्राल का बढ़ना, मदिरापान, मधुमेह, वसायुक्त भोजन, तनाव, अवसाद नींद न आना या शरीर को विश्राम न मिलना है। जीवन शैली में यदि शारीरिक श्रम, पोषक आहार, सलाद एवं तनाव मुक्ति के उपाय हैं तो ये हृदयाघात के खतरों को कम करेंगे किंतु साथ में चार प्रमुख कारणों का निदान भी होना चाहिए। इनमें रक्तचाप, धूम्रपान, हृदय की अनियमित धड़कन, कोलेस्ट्राल व मदिरापान हैं। युक्तिसंगत जीवनशैली व खानपान के साथ उन कारकों पर नियंत्रण जरूरी है जो हृदय पर मुसीबत लाकर हार्ट अटैक एवं ब्रेन अटैक जैसी विषय स्थिति खड़ी कर देते हैं और जान ले लेते हैं या शरीर को अपंग बना देते हैं।

शेयर करें

मुख्य समाचार

एक ओवर में 3 विकेट झटक शाहबाज ने पलटा पासा, 6 रन से जीता बेंगलोर

चेन्नई : आईपीएल 2021 के छठे मैच में रॉयल चैलेंजर्स बेंगलोर (आरसीबी) ने सनराइजर्स हैदराबाद को करीबी मुकाबले में 6 रन से हरा दिया। टॉस आगे पढ़ें »

भारतीय हॉकी टीम ने अर्जेंटीना को 4-2 से हराया

ब्यूनस आयर्स : भारतीय हॉकी टीम ने आखिरी अभ्यास मैच में बुधवार को अर्जेंटीना को 4-2 से हराया। भारत के लिये रूपिंदर पाल सिंह, जसकरण आगे पढ़ें »

ऊपर