इंसान की मौत से पहले नजर आने वाले 8 संकेत

कोलकाता : मौत का नाम सुनते ही इंसानों के रोंगटे खड़े हो जाते है। ज्योतिष शास्त्रों के अनुसार इंसानों के मौत आने से पहले उनके सामने कई प्रकार के संकेत आने शुरू हो जाते है। मौत कब आएगी और किसको अपने साथ लेकर जाएगी इसका किसी को पता नहीं है। शास्त्रों के अनुसार हमारे जीवन में बहुत सारे ऐसे संकेत होते रहते है, जिन्हें लोग समझ नहीं पाते है। आपको बता दें, कि शास्त्रों के अनुसार भगवान शिव ने माता पार्वती को मनुष्य की मृत्यु आने से पहले आने वाले संकेतों के बारे में बताया है। जिसमें उन्होंने मृत्यु के 8 बड़े संकेतों की व्याख्या की है। यदि आपके जीवन में यहां बताए गए 8 संकेत कभी भी दिखाई दे, तो इसे नजरअंदाज ना करें। ऐसा होने पर तुरंत खुद को सचेत कर ले। क्या आपको पता है, कि भगवान शिव शंकर ने माता पार्वती को मृत्यु के 8 कौन से संकेत बताएं है अगर नहीं, तो आइए जाने यहां।
* मृत्यु के 8 संकेत
1. भोलेनाथ के अनुसार जब व्यक्ति का शरीर पीला पड़ना पीला या सफेद या थोड़ा सा लाल दिखने लगे, तो यह व्यक्ति के मौत होने का इशारा समझा जाता है। भगवान शिव शंकर के अनुसार जिस व्यक्ति पर यह सारे संकेत दिखने लगते है, उस व्यक्ति की मौत अगले 6 महीनों के अंदर होने वाली होती है।
2. जब किसी व्यक्ति को अपना प्रतिबिंब पानी, तेल या शीशे में देखने में दिक्कत होने लगे, तो उस व्यक्ति की मौत अगले 6 महीने के अंदर होने वाली होती है।
3. अधिक आयु वाले व्यक्ति को जब अपनी छाया धर रहित दिखाई देने लगे, तो उस व्यक्ति की मौत बहुत जल्द होने वाली होती है।
4. ज्योतिष शास्त्र के अनुसार जब किसी व्यक्ति के बाएं हाथ में मरोड़ 1 हफ्ते से ज्यादा रहे, तो उस इंसान की मृत्यु 1 महीने के अंदर हो जाती है।
5. जिस इंसान को मुंह, जीभ, आंखे, कान और नाक पत्थर के जैसी होती महसूस होने लगे, तो उस व्यक्ति की मृत्यु अगले 6 महीने में निश्चित हो जाती है।
6. जो व्यक्ति को चंद्रमा सूर्य या अग्नि के प्रकाश देखने में दिक्कत महसूस होने लगें, तो उस व्यक्ति की मौत 6 महीने के अंदर हो जाती है।
7. जिस व्यक्ति की जुबान में सूजन आ जाए या दांत से पस बहने शुरू हो जाए, तो उस व्यक्ति की मौत 6 महीने के अंदर हो जाती है।
8. जिस व्यक्ति को सूर्य चंद्रमा या आसमान केवल लाल नजर आने लगे, तो वह व्यक्ति अगले 6 महीने में मर जाता है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

नौकरीपेशा महिलाएं और गृहस्थी का बोझ

गृहस्थी को सही व अच्छे ढंग से चलाने के लिए स्त्री, पुरुष के साथ कन्धे से कन्धा मिलाकर कार्य कर रही है। इस कार्य में आगे पढ़ें »

…तो ऐसे बची 73 मरीजों की जान

कोलकाताः महानगर के एक निजी अस्पताल में पुलिसकर्मियों व स्वयंसेवी संगठन के सदस्यों की मदद से समय पर ऑक्सीजन सिलेंडर पहुंच जाने से 73 कोरोना आगे पढ़ें »

ऊपर