75000 भारतीयों को छोड़ना पड़ सकता है अमेरिका

नई दिल्लीः अमेरिका की नीति ‘बाय अमेरिकन, हायर अमेरिकन’ के अनुरूप ट्रंप प्रशासन एक ऐसे प्रस्ताव पर विचार कर रहा है जिससे बड़ी संख्या में भारतीयों को अमेरिका छोड़ना पड़ सकता है। यह प्रस्ताव उन विदेशी कर्मचारियों को अपना एच-1 बी वीजा रखने से रोक सकता है जिनके ग्रीन कार्ड आवेदन लंबित पड़े हों। इस नए कानून से प्रभावित होनेवाले भारतीयों में बड़ी तादाद प्रौद्योगिकी क्षेत्र में काम करनेवाले कर्मचारियों की है। मौजूदा नियम में ग्रीन कार्ड आवेदनों के लंबित रहने के मद्देनजर अभी 2-3 साल के लिए एच-1 बी की मान्यता बढ़ाने की अनुमित मिली हुई है। अगर नया नियम लागू हो जाता है तो एच-1 बी धारक 50,000 से 75,000 भारतीयों को अमेरिका छोड़कर देश वापस आना पड़ सकता है।
अमेरिका छोड़ने पर मजबूर
गौरतलब है कि यह प्रस्ताव डिपार्टमेंट ऑफ होमलैंड सिक्योरिटी (डीएचएस) में इंटरनल मेमो के तौर पर जारी किया गया है। यहां यह जानना जरूरी है कि डीएचएस ही नागरिकता और अप्रवास को देखता है। उनका मकसद उन एच1बी वीजाधारकों के बारे में विचार करना है जिन्होंने स्थायी नागरिकता (ग्रीन कार्ड) के लिए आवेदन दिया हुआ है। अगर अमेरिका राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की नीति ‘बाय अमेरिकन, हायर अमेरिकन’ की नीति पर काम करता है तो लाखों भारतीयों को अमेरिका छोड़कर भारत लौटने पर मजबूर होना पड़ सकता है।
फैसले को दी जाएगी चुनौती
विदित हो कि अगर यह नीति लागू हो जाती है तो हजारों भारतीय परिवारों के सामने परेशानियां खड़ी हो जाएंगी। उन्हें जबरन अमेरिका छोड़ने पर मजबूर किया जाएगा। सेन जोस में इमिग्रेशन वायस के एक अधिकारी ने बताया कि जब इस बारे में फैसले की घोषणा की जाएगी तो उसके बाद इस फैसले के खिलाफ चुनौती दी जाएगी। अमेरिकी सरकार के द्वारा इस प्रस्ताव को लाने का मकसद यह है कि भारतीय लोग खुद ही देश छोड़कर चले जाएं ताकि अमेरिका के लोगों को नौकरी की दिक्कतों का सामना नहीं करना पड़े।

शेयर करें

मुख्य समाचार

भारतीय टीम मुझ पर निर्भर नहीं, कई खिलाड़ी मुझसे बेहतर : छेत्री

कोलकाता : भारत के लिए रिकार्ड गोल करने वाले सुनील छेत्री पर बांग्लादेश के खिलाफ मंगलवार को होने वाले विश्व कप क्वालीफायर मुकाबले में गोल आगे पढ़ें »

आईसीसी टेस्ट रैंकिंग : स्मिथ के करीब पहुंचे कोहली

कोहली ने 37 अंकों की लम्बी छलांग लगायी, नंबर वन बनने से दो अंक पीछे दुबई : भारतीय कप्तान विराट कोहली ने पुणे में दक्षिण अफ्रीका आगे पढ़ें »

ऊपर