39 साल चला केस, 10 साल काटे जेल में, अब कोर्ट ने कहा – नाबालिग था, रिहा करो

39 years old case, 10 years in prison, now the court said - was a minor, release

नई दिल्ली : बिहार के गया का एक ऐसा केस सामने आया है जो भारत में न्यायपालिका की पोल खोलकर रख देता है। यहां के एक व्यक्ति ने हत्या के आरोप में जिंदगी के 39 साल मुकदमा लड़ने में बिता दिए, इसी केस में वह 10 साल जेल में सड़ा और अब सुप्रीम कोर्ट ने उसे रिहा करने को कह दिया है, क्यों? क्योंकि जिस समय वह अपराध हुआ, उस समय आरोपी नाबालिग था।

चचेरे भाई की हत्या का था आराेप

हुआ यूं कि 1980 में बनारस सिंह ने मामूली कहासुनी पर अपने चचेरे भाई की हत्या कर दी थी। वह उस समय नाबालिग ‌था। लेकिन, निचली अदालत और हाईकोर्ट ने उसे नाबालिग नहीं माना। इस कारण उसे 10 साल तक जेल में रहना पड़ा। 39 साल तक लंबी कानूनी लड़ाई के बाद आरोपी यह साबित करने में सफल रहा कि घटना के समय वह नाबालिग था।

3 साल की सजा होती, 10 साल काट चुका

सुप्रीम कोर्ट के न्यायाधीश एनवी रमना की अध्यक्षता वाली बेंच ने बनारस सिंह को नाबालिग माना और फैसला सुनाते हुए कहा कि जुवेनाइल जस्टिस एक्ट के तहत उसे उस वक्त अधिकतम 3 साल कैद की सजा मिलती। ऐसे में वह 10 साल जेल में बिता चुका है जाे उस समय दी जाने वाली सजा से 3 गुना से भी ज्यादा है। ऐसे में उसे तुरंत रिहा किया जाना चाहिए।

प्रमाण पत्र और दस्तावेजों से साबित हुआ

गया की जिला सत्र अदालत ने बनारस काे उम्रकैद की सजा सुनाई थी। इसके बाद उसने पटना हाईकोर्ट में उस फैसले के खिलाफ अपील की। उसने अपील के दाैरान अदालत को बताया कि अपराध के वक्त उसकी उम्र 17 साल 6 महीने थी, इसलिए सजा नाबालिग कानून के अनुसार दी जानी चाहिए। पटना हाईकोर्ट ने 1998 में उसकी अपील खारिज कर दी। अपील खारिज होने के बाद उसने सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाया और 2009 में ‌फिर से अपील की। इस मामले की सुनावाई पूरी करने के बाद सुप्रीम कोर्ट ने ट्रायल कोर्ट से जवाब मांगा। इसमें 10वीं के प्रमाण पत्र और बाकी दस्तावेजों से साबित हो गया कि बनारस अपराध के समय 17 साल 6 महीने का था। इसी आधार पर सुप्रीम कोर्ट ने उसे रिहा करने का आदेश दे दिया।

शेयर करें

मुख्य समाचार

Congress not accepting tejasvi's leadership

नीतीश कुमार ने जनता से किया विश्वासघात : तेजस्वी यादव

पटना : बिहार विधानसभा में प्रतिपक्ष के नेता तेजस्वी प्रसाद यादव ने मंगलवार को कहा कि मुख्यमंत्री एवं जनता दल (यूनाइटेड) के राष्ट्रीय अध्यक्ष नीतीश आगे पढ़ें »

Sushil Modi statement about Narco Test

जदयू समेत कई दलों के सहयोग से लोकसभा में पारित हुआ नागरिकता संशोधन बिल : सुशील कुमार मोदी

पटना : बिहार के उपमुख्यमंत्री एवं भारतीय जनता पार्टी के वरिष्ठ नेता सुशील कुमार मोदी ने मंगलवार को कहा कि जनता दल (यूनाइटेड) , बीजू आगे पढ़ें »

ऊपर