20 महीने में 18,000 वाहनों के कटे ई-चालान, 5500 लौटे, जानिए यह है कारण

traffic

पटना : बिहार में अपना पंजीकृत पता बदलने के बाद उसकी सूचना नहीं देने वाले या गलत पता देने वाले वाहन मालिकों को आपराधिक सूची में शामिल किया जा सकता है। ट्रैफिक पुलिस ऐसे लोगों के खिलाफ कोर्ट के जरिये कार्रवाई करने की तैयारी कर रही है। इसके बाद भी वे यदि नहीं मिलते हैं तो उनके खिलाफ वारंट जारी हो सकता है।
विगत 20 महीने के दौरान पटना में यातायात नियमों का उल्लंघन करने वाले करीब 18,000 लोगों का ई-चालान कटा है। इसे लोगों के घर तक पहुंचाने के लिए ट्रैफिक पुलिस ने करीब 3.60 लाख रुपये खर्च किये हैं। लेकिन, इनमें करीब 5,500 लोगों के ई-चालान गलत पता होने के कारण वापस आ गये हैं। एक चालान भेजने में 20 रुपये खर्च होते हैं, ऐसी स्थिति में ट्रैफिक पुलिस काे एक लाख रुपये से अधिक का नुकसान हो चुका है।सूत्रों के मुताबिक, पटना में जनवरी 2018 से सितंबर 2019 तक बिना हेलमेट, सीट बेल्ट और जेब्रा क्राॅसिंग पार करने के मामले में सबसे अधिक ई-चालान काटे गये हैं। बगैर हेलमेट और सीट बेल्ट के 10,000 से अधिक मामले हैं। ट्रिपल सवारी में करीब 1,000 ई-चालान काटे गए हैं।

शेयर करें

मुख्य समाचार

मरकज में तबलीगी जमात में शामिल हुए बंगाल के 71 लोगों की पहचान कर ली गई है : ममता 

कोलकाता : पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी  ने बुधवार को बताया कि कुल 71 लोग  बंगाल से निजामुद्दीन मरकज में शामिल होने के लिए आगे पढ़ें »

ममता ने प्रधानमंत्री को लिखा पत्र, मांगी 25 हजार करोड़ रुपये की वित्तीय सहायता

कोलकाता : पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को बुधवार को पत्र लिखकर 25,000 करोड़ रुपये की वित्तीय सहायता मांगी है आगे पढ़ें »

ऊपर