केरल और कर्नाटक में बाढ़ से 112 की मौत, मलबे में जिंदा दफन हो गए 50 लोग

तिरुवनंतपुरम : केरल और कर्नाटक समेत कई राज्यों में लगातार हो रही बारिश की वजह से जनजीवन अस्त-व्यस्त हो गया है। भारी बारिश के कारण दोनाें राज्यों में बाढ़ की चपेट में आने से 112 लोगों की मौत हो चुकी है। अकेले केरल में सोमवार तक मरने वालों की संख्या करीब 72 तक पहुंच चुकी है, जबकि 58 लोगों के लापता होने की खबर है। बाढ़ के कारण कई इलाकों में भूस्‍खलन की घटना भी सामने आई है। इस घटना में कई मकाने मलबे में तब्दील हो चुके हैं। एनडीआरफ के अधिकारियों ने मलबे में 50 लोगों के जिंदा दबे होने की आशंका जताई है। मालूम हो कि बारिश और बाढ़ की वजह से केरल यहां के 8 जिलों में करीब ढ़ाई लाख से अधिक लोग प्रभावित हुए है। वहीं दूसरी ओर कर्नाटक में भी भारी बारिश और बाढ़ की वजह से हालात बद से बदतर बने हुए हैं। बाढ़ की वजह से यहां 17 जिले प्रभावित हुए हैं, जिसमें 40 लोगों की मौत हो चुकी है जबकि 14 लोगों के लापता होने की खबर है।वहीं मौसम विभाग की ओर से अगले पांच दिन तक बेलगावी में भारी बारिश होने का अनुमान व्यक्त किया गया है।

केरल का जायजा लेने पहुंचे : राहुल गांधी

कांग्रेस नेता व वायनाड के सांसद राहुल गांधी केरल में बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों का जायजा लेने के लिए अपने संसदीय क्षेत्र पहुुंचे। उन्होंने अपने दौरे के दौरान रविवार को मलप्पुरम के निलांबुर क्षेत्र का जायजा लिया। बताया जा रहा है कि यहां 8 अगस्त से हो रही लगातार बारिश की वजह से पूरा क्षेत्र जलमग्न हो चुका है। साथ ही यहां भूस्‍खलन की घटना सामने आई, जिसमें 35 से अधिक घर मलबे में तब्दील हो गए हैं। स्‍थानीय लोगों के मुताबिक मलबे में 65 से ‌‌अधिक जिंदा लोगों के दबे होने का दावा किया जा रहा है। प्रशासन की ओर से निलांबुर में राहत बचाव के कार्यो के लिए राष्ट्रीय आपदा राहत और बचाव दल (एनडीआरएफ) की टीम को तैनात किया गया है। राहत बचाव कर्मियों की टीम अब तक मलबे से 11 लोगों के शवों को निकालने में कामयाब रही है। वहीं अधिकारियों ने अभी भी मलबे में 50 से अधिक लोग के दबे होने की आशंका जताई है। इसके अलावा पुथुमाला में भी भूस्‍खलन की चपेट में आने से 10 लोगों की मौत हो चुकी है।

पांच लाख के मुआवजे का ऐलान

कर्नाटक के मुख्यमंत्री येदियुरप्पा ने बाढ़ की हालात को देखते हुए ‌चिंता जाहिर की, उन्होंने कहा कि पिछले 45 साल में इतनी बड़ी तबाही का मंजर नहीं देखा गया। साथ ही प्रदेश सरकार की ओर से मृतकों के परिजनों को 5 लाख रुपये के मुआवजे का भी ऐलान किया है। इसके अलावा उन्होंने केंद्र सरकार से 3 हजार करोड़ की आर्थिक मदद के लिए गुहार लगाई है। बताया जा रहा है कि राज्य सरकार की ओर से बाढ़ पी‌ड़ितों के लिए 1168 राहत शिविर बनाए हैं। वहीं गृहमंत्री अमित शाह ने रविवार को कर्नाटक में बाढ़ से ग्रस्त बेलगावी क्षेत्र का हवाई सर्वेक्षण किया।

केरल के मुख्यमंत्री ने बैठक की

केरल के मुख्यमंत्री पिनरई विजयन ने प्रदेश के हालत को देखते हुए अधि‌कारियों के साथ बैठक की। बैठक के दौरान अधिकारियों ने प्रदेश में 8 अगस्त से लगातार हाे रही बारिश का ब्योरा दिया। उन्होंने कहा कि अब तक प्रदेश में भारी बारिश और बाढ़ की चपेट में आने से 72 लोग जान गंवा चुके हैं। इसके अलावा भारी बारिश की वजह से कई घटनाएं देखने को मिली है। साथ ही उन्होंने बतया कि भारी बारिश और बाढ़ की वजह से केरल में रेलवे ट्रैक पर पानी का जमाव, पेड़ और चट्टान गिरने की घटनाएं सामने आयीं हैं जिसके कारण रेल सेवाएं बाधित रहीं।

शेयर करें

मुख्य समाचार

अध्यापिका के पद से बैशाखी का इस्तीफा

कोलकाता : मिली अल-अमीन कॉलेज की अध्यापिका के पद से बैशाखी बंद्योपाध्याय ने इस्तीफा दे दिया है। गुरुवार को शिक्षा मंत्री पार्थ चटर्जी को मेल आगे पढ़ें »

33वां मूर्ति देवी पुरस्कार से सम्मानित किए जाएंगे कवि डॉ. विश्वनाथ प्रसाद तिवारी

नयी दिल्ली : साहित्य अकादमी के पूर्व अध्यक्ष और जाने माने कवि-आलोचक डॉ. विश्वनाथ प्रसाद तिवारी को प्रतिष्ठित 33वें मूर्तिदेवी पुरस्कार के लिए चुना गया आगे पढ़ें »

ऊपर