हैप्पी बर्थडे नाना पाटेकर…

मुंबईः बॉलीवुड सिनेमा जगत में नाना पाटेकर एक ऐसे बहुआयामी कलाकार है जिन्होंने नायक, सहनायक, खलनायक और चरित्र कलाकार भूमिकाओं से दर्शकों को अपना दीवाना बनाया है। नाना पाटेकर के अभिनय में एक विशेषता रही कि वह किसी भी तरह की भूमिका में आसानी से ढल जाते हैं। चाहें हम बात करें फिल्म खामोशी में एक गूंगे की भूमिका की या फिर परिंदा और अंगार जैसी फिल्म में मानसिक रूप से विक्षिप्त खलनायक की भूमिका में। उन्होंने तिरंगा या क्रांतिवीर जैसी फिल्म में एक्शन से भरपूर किरदार भी शानदार तरीके से निभाया है।

उनके खास डायलॉग

‘आ गये मेरी मौत का तमाशा देखने’, ‘एक मच्छर साला आदमी को हिंजड़ा बना देता है’, ‘ये मुसलमान का खून है ये हिन्दू का खून है….बता इसमें मुसलमान का कौन-सा और हिन्दू का कौन-सा बता’। नाना पाटेकर ही ऐसे अभिनेता हैं जो इतने अलग डायलॉग बोल सकते हैं।

जानते हैं उनसे जुड़ी कुछ खास बातें
– नाना पाटेकर उर्फ विश्वनाथ पाटेकर का जन्म मुंबई में 01 जनवरी 1951 को एक मध्यम वर्गीय मराठी परिवार में हुआ। उनके पिता दनकर पाटेकर चित्रकार थे । नाना ने मुंबई के जेजे स्कूल ऑफ ऑर्टस से पढ़ाई की। इस दौरान वह कॉलेज द्वारा आयोजित नाटकों में हिस्सा लिया करते थे । नाना पाटेकर को स्केचिंग का भी शौक था और वह अपराधियों की पहचान के लिए मुंबई पुलिस को उनकी स्केच बनाकर दिया करते थे।
– नाना ने अपने सिने करियर की शुरूआत वर्ष 1978 मे प्रदर्शित फिल्म गमन से की लेकिन इस फिल्म में दर्शकों ने उन्हें नोटिस नही किया। अपने वजूद को तलाशते नाना को फिल्म इंडस्ट्री में लगभग आठ वर्ष संघर्ष करना पड़ा। फिल्म गमन के बाद उन्हें जो भी भूमिका मिली वह उसे स्वीकार करते चले गये। इस बीच उन्होंने गिद्ध, भालू शीला जैसी कई दोयम दर्जे की फिल्मों मे अभिनय किया लेकिन इनमें से कोई भी फिल्म बॉक्स आफिस पर सफल नहीं हुई।
– वर्ष 1984 में प्रदर्शित फिल्म आज की आवाज बतौर अभिनेता नाना पाटेकर ने राजब्बर के साथ काम किया। यह फिल्म पूरी तरह राजब्बर पर केन्द्रित थी फिर भी नाना सधे हुये किरदार निभाकर अपने अभिनय की छाप छोड़ने में कामयाब रहे । हालांकि यह फिल्म बॉक्स ऑफिस पर हिट साबित नहीं हुई। नाना पाटेकर को प्रारंभिक सफलता दिलाने में निर्माता-निर्देशक एन चंद्रा की फिल्मों का बड़ा योगदान रहा। उन्हें पहला बड़ा ब्रेक फिल्म अंकुश 1986 से मिला। इस फिल्म में नाना पाटेकर ने एक ऐसे बेरोजगार युवक की भूमिका निभायी जो काम नहीं मिलने पर समाज से नाराज है और उल्टे सीधे रास्ते पर चलता है।
– 1989 में प्रदर्शित फिल्म परिन्दा नाना पाटेकर के सिने कैरियर की हिट फिल्मों में शुमार की जाती है। विधु विनोद चोपड़ा निर्मित इस फिल्म में नाना पाटेकर ने मानसिक रूप से विक्षिप्त लेकिन अपराध की दुनिया के बेताज बादशाह की भूमिका निभाई जो गुस्से में अपनी पत्नी को भजदा आग में जलाने से भी नहीं हिचकता । अपनी इस भूमिका को नाना पाटेकर सधे हुए अंदाज में निभाकर दर्शको की वाहवाही लूटने में सफल रहे।
– वर्ष 1991 में नाना ने फिल्म निर्देशन में भी कदम रख दिया और प्रहार का निर्देशन किया साथ ही अभिनय भी किया। इस फिल्म में उन्होंने अभिनेत्री माधुरी दीक्षित से ग्लैमर से विहीन किरदार निभाकर दर्शकों के सामने उनकी अभिनय क्षमता का नया रूप रखा। वर्ष 1992 में प्रदर्शित फिल्म तिरंगा में बतौर मुख्य अभिनेता नाना पाटेकर के सिने कैरियर की पहली सुपरहिट फिल्म साबित हुई।
कई पुरस्कारों से नवाजे जा चुके हैं नाना
नाना पाटेकर को अब तक चार बार फिल्म फेयर पुरस्कार से सम्मानित किया गया है। नाना पाटेकर को तीन बार राष्ट्रीय पुरस्कार से भी सम्मानित किया गया। नाना पाटेकर उन गिने चुने अभिनेताओं में एक है जो फिल्म की संख्या के बजाए फिल्म की गुणवत्ता को अधिक महत्व देते है इसी को देखते हुये नाना पाटेकर ने अपने तीन दशक लंबे सिने करियर में महज 60 फिल्मों में काम किया है।
उनकी ‌कुछ उल्लेखनीय फिल्म
नाना पाटेकर की अभिनीत कुछ अन्य उल्लेखनीय फिल्में है आवाम, अंधा युद्ध, सलाम बांबे, थोड़ा सा रूमानी हो जाये, राजू बन गया जेंटलमैन , अंगार, हम दोनों, अग्निसाक्षी, गुलामे मुस्तफा, यशंवत, युगपुरूष क्रांतिवीर, वजूद, हूतूतू, गैंग, तरकीब, शक्ति, अब तक छप्पन, अपहरण, ब्लफ मास्टर, टैक्सी नंबर नौ दो ग्यार, हैट्रिक, वेलकम, राजनीति, द अटैक ऑफ 26/11, वेलकम बैक आदि।

शेयर करें

मुख्य समाचार

chetak

बजाज ने पेश किया इलेक्ट्रिक चेतक स्कूटर, सामने आया पहला लुक

नई दिल्ली : बजाज के दोपहिया वाहनों का जब भी जिक्र होता है तो चेतक स्‍कूटर की चर्चा जरूर होती है। दोपहिया एवं तिपहिया वाहन आगे पढ़ें »

rail

रेलवे ने शुरू की नई योजना, अब फिल्म प्रमोशन के लिए हो सकेगी ट्रेनों की बुकिंग

नई दिल्ली : भारतीय रेलवे ने आमदनी बढ़ाने के लिए एक नई योजना की शुरुआत की है। रेलवे ने प्रमोशनल एक्टिविटी के लिए ट्रेनों की आगे पढ़ें »

modi

पीएम मोदी बोले- राष्ट्र निर्माण का आधार है सावरकर के संस्कार

ruhani

ईरानी राष्ट्रपति रूहानी बोले- अमेरिका ने हम पर प्रतिबंध लगाकर मानवता के खिलाफ अपराध किया

पूर्व पीएम और आरबीआई गवर्नर रघुराम राजन के समय में ‘सबसे बुरे दौर में’ थी अर्थव्यवस्था: वित्तमंत्री

महिलाओ में बढ़ रहा है फॉरेस्ट फेशियल थेरेपी का क्रेज, जनिए क्या हैं फायदें

mexico

मैक्सिको में ड्रग्स तस्करों की गोलीबारी में एक जवान समेत 15 की मौत

abdulla

जम्मू-कश्‍मीर : फारूक अब्‍दुल्ला नजरबंद, बेटी साफिया को भी किया गया गिरफ्तार

chidambaram

आईएनएक्स केस में चिदंबरम से पूछताछ करने तिहाड़ पहुंची ईडी, दो घंटे बाद किया गिरफ्तार

अगले साल अच्छी रहेगी अर्थव्यवस्था : आईएमएफ रिपोर्ट

ऊपर