सुशील बोले-नीतीश ही एनडीए के कैप्टन, फिर पोस्ट डिलीट की

Sushil Modi statement about Narco Test

पटनाः बिहार में सत्ता को लेकर एनडीए के दो घटक दल भाजपा और जदयू के नेताओं के बीच बयानबाजी कई दिनों से चल रहा है। इस बीच उप मुख्यमंत्री सुशील मोदी ने एक ट्वीट कर इस गतिरोध को खत्म करने की कोशिश में दिखाई दिए लेकिन दस मिनट बाद उन्होंने अपने पोस्ट को डिलीट कर दिया।
सुशील मोदी ने एक ट्वीट में लिखा कि नीतीश ही बिहार एनडीए के कैप्टन हैं। उन्होंने लिखा कि नीतीश ही 2020 में होने वाले चुनाव का चेहरा होंगे। जब कैप्टन चौके-छक्के मार रहा है तो फिर किसी बदलाव की जरूरत नहीं है। उनके ट्वीट डिलीट करने पर जदयू ने कहा कि उनके मन में जो था उन्होंने लिख दिया लेकिन, जब भाजपा नेतृत्व का चाबुक सुशील मोदी पर पड़ी तब उन्होंने अपना ट्वीट डिलीट कर दिया।
दरअसल, दोनों सहयोगी दलों के बीच जुबानी जंग तब शुरू हुई, जब भाजपा विधान पार्षद संजय पासवान ने कहा था कि नीतीश को केंद्र की राजनीति करनी चाहिए।

राजद ने दी प्रतिक्रिया
राजद ने सुशील मोदी के ट्वीट पर कहा कि शीर्ष नेतृत्व के आदेश की वजह से सुशील मोदी को बैकफुट पर जाना पड़ा। सच्चाई तो यह है कि भाजपा के कई नेता अब नीतीश कुमार को स्वीकार नहीं करना चाहते हैं। इससे पहले संजय पासवान ने कहा था कि नीतीश आप बिहार को भाजपा के लिए छोड़ दें। वह 15 वर्षों तक बिहार में शासन कर चुके हैं, अब केंद्र की राजनीति करें। अब यहां नरेंद्र मोदी मॉडल ही चल सकता है। सूबे का वास्तविक विकास भाजपा शासन में ही होगा।

जदयू ने दिया था यह जवाब
संजय पासवान के बयान पर जदयू के प्रधान महासचिव केसी त्यागी ने कहा कि हमारे नेता नीतीश किसी के रहमोकरम पर मुख्यमंत्री नहीं बने हैं। वह जनादेश से सीएम बने हैं। उन्होंने कहा कि कुछ नेता चर्चा में बने रहने के लिए तरह-तरह के बयान देते हैं। ऐसे बयानवीर नेताओं को बड़बोले बयान देने से बचना चाहिए। जदयू के किसी नेता ने भाजपा के शीर्ष नेतृत्व के खिलाफ नहीं बोला। ऐसे बयान एनडीए की चुनावी योजना को कमजोर करते हैं।

शेयर करें

मुख्य समाचार

लोगों में पीओके की आजादी के लिये ‘जुनून’ है : ठाकुर

जम्मू : केंद्रीय मंत्री अनुराग ठाकुर ने सोमवार को कहा कि जम्मू-कश्मीर के विशेष दर्जे को समाप्त करने के बाद पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर आगे पढ़ें »

पिछले पांच-छह साल में बढ़े हैं दलितों पर अत्याचार : प्रशांत भूषण

नयी दिल्ली : भीम आर्मी द्वारा आयोजित संवाददाता सम्मेलन में सामाजिक कार्यकर्ता व वकील प्रशांत भूषण ने सोमवार को आरोप लगाया कि पिछले पांच-छह साल आगे पढ़ें »

ऊपर