सुशील बोले-नीतीश ही एनडीए के कैप्टन, फिर पोस्ट डिलीट की

Sushil Modi statement about Narco Test

पटनाः बिहार में सत्ता को लेकर एनडीए के दो घटक दल भाजपा और जदयू के नेताओं के बीच बयानबाजी कई दिनों से चल रहा है। इस बीच उप मुख्यमंत्री सुशील मोदी ने एक ट्वीट कर इस गतिरोध को खत्म करने की कोशिश में दिखाई दिए लेकिन दस मिनट बाद उन्होंने अपने पोस्ट को डिलीट कर दिया।
सुशील मोदी ने एक ट्वीट में लिखा कि नीतीश ही बिहार एनडीए के कैप्टन हैं। उन्होंने लिखा कि नीतीश ही 2020 में होने वाले चुनाव का चेहरा होंगे। जब कैप्टन चौके-छक्के मार रहा है तो फिर किसी बदलाव की जरूरत नहीं है। उनके ट्वीट डिलीट करने पर जदयू ने कहा कि उनके मन में जो था उन्होंने लिख दिया लेकिन, जब भाजपा नेतृत्व का चाबुक सुशील मोदी पर पड़ी तब उन्होंने अपना ट्वीट डिलीट कर दिया।
दरअसल, दोनों सहयोगी दलों के बीच जुबानी जंग तब शुरू हुई, जब भाजपा विधान पार्षद संजय पासवान ने कहा था कि नीतीश को केंद्र की राजनीति करनी चाहिए।

राजद ने दी प्रतिक्रिया
राजद ने सुशील मोदी के ट्वीट पर कहा कि शीर्ष नेतृत्व के आदेश की वजह से सुशील मोदी को बैकफुट पर जाना पड़ा। सच्चाई तो यह है कि भाजपा के कई नेता अब नीतीश कुमार को स्वीकार नहीं करना चाहते हैं। इससे पहले संजय पासवान ने कहा था कि नीतीश आप बिहार को भाजपा के लिए छोड़ दें। वह 15 वर्षों तक बिहार में शासन कर चुके हैं, अब केंद्र की राजनीति करें। अब यहां नरेंद्र मोदी मॉडल ही चल सकता है। सूबे का वास्तविक विकास भाजपा शासन में ही होगा।

जदयू ने दिया था यह जवाब
संजय पासवान के बयान पर जदयू के प्रधान महासचिव केसी त्यागी ने कहा कि हमारे नेता नीतीश किसी के रहमोकरम पर मुख्यमंत्री नहीं बने हैं। वह जनादेश से सीएम बने हैं। उन्होंने कहा कि कुछ नेता चर्चा में बने रहने के लिए तरह-तरह के बयान देते हैं। ऐसे बयानवीर नेताओं को बड़बोले बयान देने से बचना चाहिए। जदयू के किसी नेता ने भाजपा के शीर्ष नेतृत्व के खिलाफ नहीं बोला। ऐसे बयान एनडीए की चुनावी योजना को कमजोर करते हैं।

शेयर करें

मुख्य समाचार

भारतीय बैंकों का क्रेडिट ग्रोथ घटकर दो साल के निचले स्तर पर आया : आरबीआई

नई दिल्ली : आरबीआई के आंकड़ों के मुताबिक भारतीय बैंकों का क्रेडिट ग्रोथ घटकर लगभग दो साल के निचले स्तर पर आ गया है, क्योंकि आगे पढ़ें »

hongkong

हांगकांग ‘लोकतंत्र अधिनियम’ पारित, चीन ने दी कड़ी प्रतिक्रिया

वाशिंगटन : हांगकांग में लोकतंत्र समर्थक प्रदर्शनकारियों की मांग वाले एक विधेयक को अमेरिकी प्रतिनिधि सभा ने मंगलवार को पारित कर दिया, जिसका उद्देश्य उस आगे पढ़ें »

रतन टाटा खुद को मानते हैं ‘एक्सीडेंटल स्टार्टअप निवेशक’, कई बड़ी कंपनियों में है हिस्सेदारी

court

अयोध्या मामले पर सुप्रीम कोर्ट ने 40 दिन की सुनवाई के बाद फैसला सुरक्षित रखा

ayodhya

अयोध्या मामला : मुस्लिम धर्मगुरुओं ने कहा, शीर्ष न्यायालय के फैसले को स्वीकार किया जाना चाहिए

अमेरिकी प्रतिबंधों के पालन के लिए भारत अपना नुकसान नहीं करेगा: वित्त मंत्री

russia

तुर्की और सीरिया की लड़ाई में रूस बना दीवार, तैनात की अपनी आर्मी

sitaraman

अनुच्छेद 370 को हटाए जाने के बाद ‘मानवाधिकार’ विश्व स्तर पर ज्वलंत शब्द बन गया : सीतारमण

chetak

बजाज ने पेश किया इलेक्ट्रिक चेतक स्कूटर, सामने आया पहला लुक

rail

रेलवे ने शुरू की नई योजना, अब फिल्म प्रमोशन के लिए हो सकेगी ट्रेनों की बुकिंग

ऊपर