कानपुर में सिख विरोधी दंगों की जांच के लिए एसआईटी गठित

लखनऊः कानपुर में 1984 के सिख विरोधी दंगों को लेकर उत्तर प्रदेश में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने 4 सदस्यीय विशेष जांच दल (एसआईटी) का गठन कर दिया गया है। उत्तर प्रदेश के पुलिस महानिदेशक अतुल के नेतृत्व में इस टीम में सेवानिवृत्त अतिरिक्त निदेशक (अभियोजन) योगेश्वर कृष्ण श्रीवास्तव और सेवानिवृत्त जिला न्यायाधीश सुभाष चंद्र अग्रवाल शामिल हैं। इसमें उत्तर प्रदेश पुलिस का एक वरिष्ठ स्तर का अधिकारी भी शामिल होगा।
1984 में कानपुर के दंगों में कम से कम 125 लोग मारे गए थे। अगस्त 2017 में शीर्ष अदालत ने राज्य सरकार को एक नोटिस जारी कर दंगों की एसआईटी जांच की मांग की थी। एसआईटी दंगों के दौरान दर्ज प्राथमिकी की जांच करेगी जिसमें जिला पुलिस ने अंतिम रिपोर्ट पेश की थी। टीम उन मामलों की भी जांच करेगी जिनमें आरोपियों को अदालत से राहत मिली थी। जघन्य अपराध के मामलों की प्राथमिकता के आधार पर जांच की जाएगी। मंगलवार को एक आधिकारिक बयान में कहा गया कि एसआईटी को छह महीने में अपनी रिपोर्ट देनी होगी। आधिकारिक रिकॉर्ड के अनुसार, 31 अक्टूबर, 1984 को इंदिरा गांधी की उनके सिख अंगरक्षकों द्वारा हत्या करने के बाद हुई तबाही के दौरान दिल्ली में 2,100 सहित पूरे भारत में लगभग 2,800 सिख मारे गए थे।

शेयर करें

मुख्य समाचार

दूरदर्शन में कोरोना से कैमरामैन का हुआ निधन, कार्यालय सील

नयी दिल्ली: कोरोना वायरस संक्रमण से बचाव के लिए लागू लॉकडाउन के 66वें दिन शुक्रवार को दूरदर्शन के कैमरामैन योगेश कुमार के निधन के बाद आगे पढ़ें »

प्रवासी मजूदर हमारे अपने, कोरोना के वाहक नहीं : धनखड़

कोलकाता : पश्चिम बंगाल के राज्यपाल जगदीप धनखड़ ने प्रवासी मजूदरों को कोरोना वायरस (कोविड 19) के वाहक के रूप में निरुपति किये जाने पर आगे पढ़ें »

ऊपर