शुक्रवार को इस विधि से की जाती है मां …

Fallback Image

कोलकाताः हिंदू धर्म में मां लक्ष्मी को धन की देवी कहा जाता है। मां लक्ष्मी की कृपा पाने के लिए शुक्रवार को विशेष पूजा की जाती है। मान्यता है कि मां लक्ष्मी की पूजा से जीवन में सुख-समृद्धि आती है। कहा जाता है कि मां लक्ष्मी की पूजा  से भगवान विष्णु भी प्रसन्न होते हैं। धार्मिक मान्यतानुसार मां लक्ष्मी की कृपा प्राप्त करने के लिए शुक्रवार का दिन खास होता है। आइए जानते हैं कि शुक्रवार के दिन मां लक्ष्मी की पूजा किस तरह से की जाती है और इसके नियम क्या हैं।
शुक्रवार पूजा विधि

मान्यतानुसार शुक्रवार को मां लक्ष्मी की पूजा-अर्चना की जाती है। इस दिन मां लक्ष्मी की पूजा के लिए सुबह नित्यकर्म से निवृत होकर स्नान किया जाता है। इसके बाद लाल रंग के कपड़े पहनकर मां लक्ष्मी की पूजा की जाती है। पूजा के दौरान मां लक्ष्मी की प्रतिमा या तस्वीर को लाल रंग का तिलक लगाया जाता है। साथ ही माता को लाल रंग का फूल चढ़ाया जाता ह। इसके बाद मां लक्ष्मी को धूप-दीप दिखाया जाता है। मां लक्ष्मी को लाल बिंदी, लाल चुनरी, सिंदूर और चूड़ियां अर्पित की जाती हैं। मां लक्ष्मी को चावल के खीर का भोग लगाया जाता है। चावल की पोटली बनाकर उसे हाथ में लेकर मां लक्ष्मी के मंत्र “ओम् श्रीं श्रीये नम:” का 108 बार जाप किया जाता है। अंत में शुक्रवार व्रत कथा का पाठ करके मां लक्ष्मी की आरती की जाती है।
चावल के खीर का लगाया जाता है भोग
मान्यता है कि शुक्रवार के दिन मां लक्ष्मी की पूजा में उन्हें मीठी चीजों को भोग लगाया जाता है। शुक्रवार व्रत की पूजा में मां लक्ष्मी को चावल, दूध और मेवे से खीर बनाकर माता को अर्पित करना अच्छा माना जाता है। इसके अलावा शाम की पूजा में भी मां लक्ष्मी को खीर का भोग लगाया जाता है। साथ ही रात में खाने के समय घर के सभी सदस्यों के साथ प्रसाद रूपी खीर को ग्रहण किया जाता है।
शेयर करें

मुख्य समाचार

एक्टर रवि किशन को पिता बताने वाली लड़की शिनोवा की मांग, जानिए पूरा मामला

कोलकाता: सोमवार को अपर्णा ठाकुर नाम की एक महिला ने भोजपुरी स्टार और गोरखपुर से BJP प्रत्याशी रवि किशन के अपनी बेटी का पिता होने आगे पढ़ें »

ईरान के कब्जे वाले जहाज से एक महिला सदस्य भारत वापस लौटीं

कोलकाता: ईरान के कब्जे में भारतीय क्रू मेंबर्स को लेकर बड़ी जानकारी सामने आई है। दरअसल, ईरान द्वारा कब्जा किए गए कंटेनर शिप पर सवार आगे पढ़ें »

ऊपर