शुक्रवार की शाम को घर पर ही करें ये आसान उपाय, दौड़ी …

कोलकाताः हिंदू धर्म में सप्ताह का हर दिन किसी न किसी देवी देवता को समर्पित होता है। आज शुक्रवार का दिन मां लक्ष्मी को तो समर्पित होता ही है। इसके साथ ही शुक्रवार का दिन शुक्रदेव को भी समर्पित होता है। ज्योतिष में शुक्रदेव को प्यार और सौन्दर्य का देवता माना जाता है। शुक्रवार को मां लक्ष्मी के साथ-साथ शुक्रदेव की पूजा करने से सुख, समृद्धि और धन, वैभव की प्राप्ति होती है। इसके साथ ही दांपत्य जीवन में विशेष सुख की प्राप्ति होती है। ऐसे में आज शुक्रवार की शाम इन उपायों को करने से वैवाहिक जीवन में सुख के साथ-साथ धन और वैभव की प्राप्ति होती ह।

शुक्रवार को करें ये उपाय
शुक्रवार की रात को सोते समय घर में उत्तर-पूर्व दिशा में घी का दीपक जरूर जलाएं। मान्यता है कि ऐसा करने से मां लक्ष्मी आपके घर पर आकर धन बरसाती हैं। शुक्रवार के दिन गाय को पालक खिलाएं। इसके अलावा शुक्रवार को भोजन करने से पहले ताजी रोटी को घी और गुड़ के साथ गाय को खिलाएं। ऐसा करने से मां लक्ष्मी की कृपा प्राप्त होगी और घर में किसी प्रकार की आर्थिक समस्या नहीं रहेगी।
शुक्रवार की रात को सोने से पहले मां लक्ष्मी की मूर्ति पर मोगरे का इत्र या मोगरे की माला अर्पित करें। ऐसा करने से मां लक्ष्मी प्रसन्न होती हैं और घर में धन का आगमन होता है।
शुक्रवार की शाम को पंचमुखी दीपक (5 बत्तियों वाले) से मां लक्ष्मी की आरती करें। इससे घर में सकारात्मकता आएगी तथा जीवन में धन और वैभव की वृद्धि होगी।
शुक्रवार को कपूर में थोड़ी सी रोली डाल कर मां लक्ष्मी की आरती करें तथा इसकी राख को लाल कागज में लपेटकर अपने पर्स में रखें। जीवन में पैसों का प्रवाह बढ़ जाएगा। शुक्रवार को हाथ में सुपारी और तांबे का सिक्का लेकर मां लक्ष्मी का ध्यान करके इन दोनों ही चीजों को पर्स में रखें। घर कभी पैसों से खाली नहीं रहेगा।

 

Visited 157 times, 1 visit(s) today
शेयर करें

मुख्य समाचार

सिर्फ गर्दन का व्यायाम हमें इतने रोगों से रख सकता है दूर

कोलकाता : रीढ़ की हड्डी को कशेरूक दंड या मेरूदंड कहा जाता है। इससे समस्त कंकाल को सहारा मिलता है। रीढ़ की हड्डी या मेरूदंड आगे पढ़ें »

गुरुवार के दिन विष्णु भगवान की करें पूजा, इन 3 बातों को रखें ध्यान

नई दिल्ली: गुरुवार के दिन का हिंदूओं में विशेष महत्व है। गुरुवार के दिन भगवान विष्णु और देवताओं के गुरु बृहस्पति देव की पूजा होती आगे पढ़ें »

ऊपर