शाकाहार बेहतर है गर्मियों में

गर्मियां आते ही प्यास अधिक लगने लगती है और पसीना भी शरीर से अधिक निकलने लगता है। ऐसे में ऐसा कुछ खाना या पीना चाहिए जो पर्याप्त पानी भी दे और कुछ नमक भी दे ताकि शरीर में पानी और नमक की कमी न हो पाये।
टमाटर
टमाटर हमारे स्वास्थ्य के लिए कई रूपों में लाभप्रद है। इसका हमारे शरीर पर क्षारीय प्रभाव पड़ता है। इससे स्वास्थ्य को निम्न लाभ होते हैं। टमाटर का सेवन रक्त का शोधन करता है। टमाटर खाने से जिगर की शुद्धि होती है और गाल ब्लैडर के स्टोन गल जाते हैं। टमाटर में उपस्थित निकोटिनिक एसिड रक्त में कोलेस्ट्राल की मात्रा कम करता है जिससे हृदय रोगियों को लाभ पहुंचता है। टमाटर में एंटीआक्सीडेंट लाइकोपिन होता है जो कैंसर सेल नहीं बनने देता। इसमें विटामिन के भी होता है जो बवासीर रोधक है। टमाटर के नियमित सेवन से त्वचा का रंग साफ होता है और चमक आती है। विटामिन ए, विटामिन सी, पोटेशियम और फोलिक एसिड होते हैं जो शरीर की रोग रोधक क्षमता बढ़ाते हैं, हमारी त्वचा और आंखों के लिए अच्छे होते हैं और मांसपेशियों में बल नहीं पड़ने देते।
खीरा
गर्मी के मौसम में प्रकृति खीरा बहुतायत से पैदा करती है और यह हमारे शरीर को ठंडक पहुंचाने वाला फल है। इससे शरीर को जल और रेशा दोनों की आपूर्ति होती है। त्वचा में चमक लाने के लिए खीरे का जूस बहुत लाभप्रद माना जाता है। खीरे में जल की मात्रा काफी होती है जिस कारण यह हमारे शरीर में जल तत्व की कमी नहीं होने देता। जहां खीरे के रस से त्वचा में चमक आती है, वहीं खीरे के टुकड़े मलने से आंखों के नीचे की सूजन और गर्मी में धूप में झुलसी त्वचा ठीक हो जाती है। उच्च रक्तचाप के रोगियों के लिए भी खीरा बहुत लाभदायक है। इसमें पोटाशियम, मैग्नीशियम और रेशे की अच्छी मात्रा होती है जो हमारे रक्तचाप को उचित स्तर पर लाने में सहायता करते हैं।
नींबू
गर्मियों में नींबू का प्रयोग बहुत शान्तिदायक होता है। शिकंजी या नींबू शहद पानी का ड्रिंक मनुष्य को इंस्टेंट एनर्जी देता है। नींबू का रस हमारे शरीर से विषैले पदार्थ निकालने में बहुत सहायक होता है। इसके रस से टाइफाइड, डिप्थीरिया और स्कर्वी के कीटाणु नष्ट हो जाते हैं। नींबू में विटामिन सी काफी मात्रा में मौजूद होता है इसलिए यह हमारे दांतों और मसूड़ों के स्वास्थ्य के लिए भी लाभप्रद है। यदि भूख न लगती हो तो पके हुए नींबू का रस और नमक पानी में मिलाकर पीने से भूख खुलकर लगने लगती है। इससे हमारे पाचक रस और लार का प्रवाह बढ़ता है जिससे पाचन सुचारु रूप से होता है। नींबू का रस पेट के कीड़ों को भी मारने में सहायक है और हमारी आंतों से वायु को बाहर निकाल देता हैं। बुखार में नींबू पानी पीने से प्यास बुझती है और मुंह का स्वाद अच्छा हो जाता है। जो नींबू का सेवन नियमित करते हैं उनकी जवानी बरकरार रहती है और त्वचा और बालों में चमक बनी रहती है। (स्वास्थ्य दर्पण)  अशोक गुप्त

शेयर करें

मुख्य समाचार

दिल्ली के उपराज्यपाल ने दुनिया के सबसे बड़े कोविड केंद्र का उद्घाटन किया

नई दिल्ली : दिल्ली के उपराज्यपाल अनिल बैजल ने रविवार को राधा स्वामी सत्संग ब्यास में 10,000 बिस्तर वाले सरदार पटेल कोविड देखभाल केंद्र का आगे पढ़ें »

कोविड-19 संकट से निपटना महाराष्ट्र सरकार की प्राथमिकता है: आदित्य ठाकरे

ठाणे : कोविड-19 संकट से निपटने को लेकर विपक्ष द्वारा महाराष्ट्र सरकार की आलोचना को नजरअंदाज करते हुए राज्य के मंत्री आदित्य ठाकरे ने कहा आगे पढ़ें »

ऊपर