रात को सोने से पहले पैरों के तलवों पर करें घी की मालिश, कई समस्‍याओं का होगा समाधान

कोलकाता : घी का उपयोग आयुर्वेद में हजारों सालों से किया जाता रहा है। दादी-नानी के घरेलू नुस्‍खों में भी घी का अलग-अलग तरीके से प्रयोग देखने को मिलता है। ऐसा ही एक नुस्‍खा हम यहां शेयर कर रहे हैं। दरअसल, आयुर्वेद में माना जाता है कि अगर आप अनिंद्रा या जोड़ों में दर्द से परेशान रहते हैं और रात भर सोने में तकलीफ रहती है तो आप इससे छुटकारा पाने के लिए देसी घी का उपयोग कर स‍कते हैं। आप घी के सेवन से अनपच की समस्‍या से लेकर शरीर में सूजन, दर्द आदि को भी ठीक कर सकते हैं। तो आइए यहां घी के एक ऐसे ही देसी नुस्‍खे के बारे में जानते हैं जिसकी मदद से आप कई समस्‍याओं को दूर कर सकते हैं।

देसी घी को तलवे पर लगाना का ये है तरीका

रोज रात को अगर आप पैर धोकर तलवे पर देसी घी को लगाएं तो आपको कई तरह से आराम मिल सकता है लेकिन इसके लिए आपको इसे लगाने का तरीका सीखना होगा। सबसे पहले आप एक कटोरी में थोड़ा देसी घी लें और अपनी उंगली की मदद से इसे पैरों पर लगा कर मालिश करें। इसे तब तक करें जब तक आपका पैर गर्म महसूस न हो जाए। आप दूसरे पैर पर भी इसे दोहराएं। आपको गहरी नींद आएगी।

देसी घी को तलवे पर लगाने के फायदे

– खर्राटों की समस्या दूर होती है।

– रात को गहरी नींद आती है।

– जो लोग बार-बार अपच की समस्या का सामना करते हैं, उनकी समस्‍या दूर होती है।

– आईबीएस और पुरानी कब्ज की दिक्कत महसूस करने वाले लोग या जिनका नियमित रूप पेट साफ नहीं हो पाता है उन्‍हें पैर पर घी लगाने से आराम मिलता है।

– जो लोग रोजाना एंटासिड का सेवन करते हैं, उनकी समस्‍या भी दूर होती है।

– जोड़ों का दर्द कम होता है।

– पाचन में आने वाली दिक्कत दूर होती है।

– वात्त दोष कम होता है और इससे ब्‍लोटिंग की समस्‍या नहीं होती है।

– तनाव भी कम होता है और स्किन टोन भी बेहतर होता है।

 

शेयर करें

मुख्य समाचार

राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन, ऐसे करें आवेदन

" हमारा सपना हर छात्र माने हिंदी को अपना" हर साल की तरह इस साल भी हम लेकर आये हैं राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन। इस बार आगे पढ़ें »

चाहूं तो 3 महीने में बंगाल भाजपा को खत्म कर दूं लेकिन ऐसा नहीं करूंगा – अभिषेक

तृणमूल ऑफिस में भाजपा नेताओं की लगी है कतार तिलमिलाइये मत, असली खेल तो दिल्ली में होगा सन्मार्ग संवाददाता मुर्शिदाबाद : तृणमूल के राष्ट्रीय महासचिव अभिषेक बनर्जी ने आगे पढ़ें »

ऊपर