राज्यपाल, केंद्र सरकार से टकराव का यह समय नहीं: धनखड़

कोलकाता : कोरोना वायरस संक्रमण की वजह से फैले महामारी से लोगों के बचाव लागू लाॅकडाउन के 35 वें दिन मंगलवार को बंगाल के राज्यपाल जगदीप धनखड़ ने कहा कि यह समय राज्यपाल अथवा केंद्र सरकार से टकराव का नहीं है बल्कि मौजूदा स्थिति से निपटने का रास्ता निकालने का वक्त है। धनखड़ ने अपने ट्वीट में कहा, ‘हमारी जनता की चिंता हमारा विषय होना चाहिए, ना कि टकराव।’ कोरोना प्रभावित क्षेत्रों का जायजा लेने आयी केंद्रीय टीम के दौरे के संदर्भ में उन्होंने कहा, ‘यह समय राज्यपाल अथवा केंद्र सरकार से टकराव का नहीं है। मौजूदा समय को देखते हुए आगे का मार्ग प्रशस्त किया जाना चाहिए।’ इससे पहले मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने सोमवार को कोरोना वायरस के मामले पर कैबिनेट समिति का गठन किये जाने की घोषणा की और कहा कि केंद्र सरकार को चाहिए कि वह राज्य सरकारों से परामर्श के बाद एक दीर्घकालिक, अल्पकालिक और मध्यावधि योजना तैयार करें। उन्होंने कहा, ‘ हम कोरोना वायरस मामले पर एक कैबिनेट समिति का गठन कर रहे हैं। इसमें मंत्री अमित मित्रा, पार्थ चटर्जी, चंद्रिमा भट्टाचार्य, फिरहाद हकीम और मुख्य सचिव, गृह सचिव और स्वास्थ्य सचिव शामिल होंगे। वे कोरोना से जुड़े मामलों को देखेंगे और मुझे रिपोर्ट करेंगे।’
सुबह तीन घंटे तक नहीं कर सकते वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग : ममता
बनर्जी ने कहा, ‘हम कोरोना वायरस को परास्त करना चाहते हैं और हर दिशानिर्देश का पालन करेंगे, लेकिन यह उचित,पारदर्शी और बिना किसी राजनीतिक हस्तक्षेप के होना चाहिए। मेरे मुख्य सचिव और गृह सचिव केंद्रीय टीम के रोज सुबह तीन घंटे तक वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग नहीं कर सकते। वे फिर काम कब करेंगे।’ उन्होंने सवाल उठाते हुए कहा, ‘ हम कोटा से छात्रों को वापस ला रहे हैं और वृंदावन में फंसे लोगों की मदद कर रहे हैं। हम जितना कर सकते हैं उतना कर रहे हैं, लेकिन हमें धन की भी आवश्यकता है। अगर केंद्र सरकार सहायता नहीं करेगी, तो हमें धन कहां से मिलेगा?

शेयर करें

मुख्य समाचार

बंगाल में तीसरे दिन भी कोरोना के 800 से ज्यादा मामले, 25 की हुई मौत

कोलकाता : वेस्ट बंगाल कोविड-19 हेल्थ बुलेटिन के अनुसार पश्चिम बंगाल में पिछले 24 घंटे में कोरोना वायरस संक्रमण के 850 नये मामले आये है आगे पढ़ें »

कोरोना की वजह से 9वीं-12वीं के पाठ्यक्रम 30 फीसदी घटे

नयी दिल्ली : कोविड-19 के बढ़ते मामलों के बीच स्कूलों के ना खुल पाने के कारण शिक्षा व्यवस्था पर असर और कक्षाओं के समय में आगे पढ़ें »

ऊपर