राजस्थान पंचायत चुनाव पूर्व निर्धारित कार्यक्रम के अनुरूप होगा

court

नयी दिल्ली : उच्चतम न्यायालय ने राजस्थान की अशोक गहलोत सरकार को राहत देते हुए पूर्व अधिसूचना के मुताबिक ही शेष बची पंचायतों में चुनाव कराने का राज्य निर्वाचन आयोग को शुक्रवार को निर्देश दिया। अब बाकी बची पंचायतों में अप्रैल के दूसरे हफ्ते में ही चुनाव होंगे।
मुख्य न्यायाधीश शरद अरविंद बोबडे, न्यायमूर्ति बी आर गवई के खंडपीठ ने यह अंतरिम निर्देश राज्य सरकार एवं अन्य पक्षकारों की विशेष अनुमति याचिकाओं पर दिया। उल्लेखनीय है कि राज्य सरकार ने एसएलपी में उच्च न्यायालय के उस आदेश को चुनौती दी थी, जिसमें अदालत ने 85 याचिकाओं में फैसला देते हुए ग्राम पंचायतों एवं पंचायत समितियों के पुनर्गठन के लिए राज्य सरकार की ओर से 15 और 16 नवंबर के बाद जारी सभी अधिसूचनाओं को रद्द कर दिया था। इसके बाद शीर्ष अदालत ने गत आठ जनवरी को जोधपुर उच्च न्यायालय की मुख्यपीठ के 13 दिसंबर 2019 के आदेश के क्रियान्वयन पर रोक लगा दी थी। राज्य सरकार की ओर से पेश अतिरिक्त महाधिवक्ता मनीष सिंघवी ने शेष बची सभी पंचायतों में सरकार की अधिसूचना के अनुसार चुनाव कराने के निर्देश देने की मांग की। उधर, राज्य चुनाव आयोग ने अपने काम करने के लिए तीन महीने का समय मांगा।

शेयर करें

मुख्य समाचार

वैश्विक इकोनॉमी मे रिकवरी की उम्मीद से कच्चे तेल को मिला प्रोत्साहन, निवेशक सोने से दूर हुए

नई दिल्ली : चीनी अर्थव्यवस्था में सुधार की उम्मीद ने पिछले हफ्ते सोने की कीमतों पर नकारात्मक प्रभाव डाला है। सोने की कीमतों में पिछले आगे पढ़ें »

सरकार जल्द दे सकती है दो से तीन लाख करोड़ रुपये के बूस्टर पैकेज, इन क्षेत्रों को होगा फायदा

नई दिल्ली : कोरोना के कारण देश की अर्थव्यवस्था को लगातार नुकसान का सामना करना पड़ रहा है। उद्योग को पटरी पर लाने और नुकसान आगे पढ़ें »

ऊपर