योग निद्रा से 10 मिनट में लें 1 घंटे की नींद

कोरोना संकटकाल में कई कई घंटो तक अनवरत सेवा कार्य में लगे चिकित्सक, पुलिसकर्मी और सामाजिक कार्यकर्ता योग निद्रा के जरिये कम समय में भरपूर नींद लेकर मानसिकि विश्रान्ति पा सकते हैं। योग गुरू गुलशन कुमार ने अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस की पूर्व संध्या पर योग की इस विधा को साझा करते हुए कहा कि कोरोना की जंग में 24 घंटे ड्यूटी पर तैनात कर्मचारी, डाक्टर, स्टाफ, नर्सेज, पुलिसकर्मी अपनी नींद पूरी नही ले पा रहे हैं। ऐसे में यदि ड्यूटी पर तैनात कोरोना योद्धा यदि योग निद्रा का प्रयोग करे तो 40-50 मिनट की इस निद्रा से तीन से चार घंटे की नींद जितना आराम स्वंय को दे सकते है और अपनी नींद की भरपाई कर सकते है। उन्होंने कहा कि योग निद्रा योग साधना का ही अंग है। नींद पूरी नहीं होने की दशा में धीरे-धीरे इसका स्वास्थ्य पर दुष्प्रभाव पड़ने लगता है। ऐसे में काम करने की शक्ति भी घटनी प्रारम्भ हो जाती है तथा व्यक्ति में चिड़चिड़ापन, तनाव, निराशा पैदा होती है।
ये है योग निद्रा करने की विधि
कुमार ने कहा कि भूमि पर आराम दायक बिछोना या कम्बल बिछाकर पीठ के बल लेट जाए, दोनो हाथों को अपनी टांगो के पास रखे। फिर मन से संकल्प करें कि आप योग निद्रा लेने जा रहे है। अब धीरे-धीरे लम्बी गहरी श्वांस भीतर लीजिए और धीरे-धीरे प्रश्वास को पूरा बाहर छोड़ दे। श्वांस लेते समय उदर का भाग ऊपर की और छोड़ते समय भीतर की ओर जाये। इस प्रकार से बीस श्वांस भीतर ले और छोड़े। इसी प्रकार फिर ध्यान को पैरों पर लाए, मन ही मन कहे कि पैर शिथिल पड़ रहे है ऐसा चार-पांच बार कहे, इसके बाद ध्यान को घुटनो पर लाए फिर मन ही मन दोहराये कि घुटने शिथिल पड़ रहे हैं, इसके बाद जांघो, कमर, उदर, वक्ष, गर्दन, चेहरे, आंखों, माथे व सिर पर ध्यान केन्द्रित करते हुए अपने शिथिलता के भाव को प्रत्येक अंग पर दोहराये। इसके बाद बायी करवट ले फिर पुन: श्वास प्रश्वास पर ध्यान करे, प्रत्येक श्वास लम्बी व धीमी गति में रखे। ऐसा बीस बार करे, इसी प्रकार दायीं करवट लेट कर करे। इसके बाद सीधे पीठ के बल ही लेट जाए, ध्यान को ह्रदय पर लाकर ह्रदय की धड़कन को महसूस करे। शिथिलता को महसूस करे। इस प्रकार दस पन्द्रह मिनट अभ्यास करने से नींद की गहराई में चले जाते है। योग निद्रा से बाहर आने के लिए पहले अपने इष्ट का ध्यान करे फिर तीन बार मन से ओम का उच्चारण करे, धीरे-धीरे करवट लेकर बैठे, चार पांच सहज सांस ले। अपने अन्दर ताजगी, महसूस कर सकेंगे मन व मस्तिष्क तनाव रहित हो जाएगा। आपके शरीर की बैटरी फिर से चार्ज हो जाएगी। उन्होंने कहा कि तनाव के कारण आ रही मानसिक परेशानियों के चलते योग निद्रा विदेशों मे बहुत प्रचलित हो रही है। रूस, अमेरिका, जर्मनी, ब्रिटेन व अन्य विकासशील देशो में योग निद्रा को सीखने के लिए लोग ध्यान केन्द्रों की और आकर्षित हो रहे है। इस से हाई बल्ड प्रेशर, एंग्जायटी, व अनिद्रा रोगो को ठीक करने में लाभ मिल रहा है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

जब अपने छोड़ देते साथ, तब ये मुसलमान करते हिंदू कोरोना शवों का अंतिम संस्कार

मुंबई: देशभर में महामारी का रूप धारण कर चुके कोरोना वायरस संक्रमण से अस्पतालों में मरने के बाद उनके परिजनों द्वारा शवों के अंतिम संस्कार आगे पढ़ें »

सुशांत सिंह राजपूत की आत्महत्या मामले में पुलिस थाने बयान दर्ज कराने पहुंचे संजय लीला भंसाली

मुंबई : बॉलीवुड फिल्म निर्माता संजय लीला भंसाली अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत की आत्महत्या के मामले में अपना बयान दर्ज कराने के लिए सोमवार को आगे पढ़ें »

ऊपर