महागठबंधन में शामिल होकर नीतीश बनना चाहते थे पीएम पद का उम्मीदवार, प्रशांत ने कहा- सामने आए सब पता चल जाएगा

पटनाः राजद प्रमुख लालू यादव की पत्नी व पूर्व मुख्यमंत्री राबड़ी देवी ने जदयू पर हमला किया। उन्होंने कहा कि नीतीश कुमार पीएम पद का उम्मीदवार बनना चाहते थे इसके लिए वह महागठबंधन में शामिल होना चाहते थे। वहीं, चुनावी रणनीतिकार और जदयू के उपाध्यक्ष प्रशांत किशोर ने शनिवार को राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव पर हमला बोला और उन्हें संयुक्त तौर पर मीडिया के सामने बहस करने की चुनौती दे डाली।
यह था मामला
राबड़ी देवी ने कहा कि नीतीश ने लालू से कहा था कि मैं 2020 में तेजस्वी को मुख्यमंत्री के रूप में देखना चाहता हूं। आप मुझे प्रधानमंत्री का उम्मीदवार घोषित करें। प्रशांत किशोर इस संबंध में बात करने के लिए पांच बार हमारे पास आए थे।’ नीतीश कुमार को लेकर शुरू हुए इस विवाद की पृष्ठभूमि में लालू यादव के जीवन पर लिखी गई किताब ‘गोपालगंज से रायसीना’ है।
प्रशांत किशोर ने दी सफाई
राबड़ी देवी के दावे जिसमें उन्होंने कहा कि प्रशांत किशोर चुनाव से पहले उनके पास जदूय-राजद के विलय का प्रस्ताव लेकर आए थे, पर प्रशांत किशोर ने लालू प्रसाद यादव को मीडिया के सामने आने को कहा ताकि किसने किसको क्या ऑफर दिया, ये पता चल सके। प्रशांत किशोर ने शनिवार को ट्वीट किया और लिखा- ‘पद का दुरुपयोग और धन के दुरुपयोग के आरोपों में दोषी पाए जाने वाले लोग सच्चाई के संरक्षक होने का दावा कर रहे हैं। लालू प्रसाद यादव जी जब चाहें, मेरे साथ मीडिया के सामने बैठ जाएं, सबको पता चल जाएगा कि मेरे और उनके बीच क्या बात हुई और किसने किसको क्या ऑफर दिया।’
बता दें कि बिहार की पूर्व मुख्यमंत्री राबड़ी देवी ने शुक्रवार यह दावा किया कि चुनावी रणनीतिकार प्रशांत किशोर ने उनके पति लालू प्रसाद से भेंट करके यह प्रस्ताव रखा था कि राजद और नीतीश कुमार के जद(यू) का विलय हो जाए और इस प्रकार बनने वाले नए दल को चुनावों से पहले अपना ‘प्रधानमंत्री पद का उम्मीदवार’ घोषित करना चाहिए। उन्होंने कहा कि अगर प्रशांत किशोर पूर्व मुख्यमंत्री लालू प्रसाद से इस प्रस्ताव को लेकर मुलाकात करने से इनकार करते हैं तो वह ‘सफेद झूठ’ बोल रहे हैं।

शेयर करें

मुख्य समाचार

टाला ब्रिज पर डायवर्सन के कारण 100 मिनी बसें चलाएगा परिवहन विभाग

वाहनों के डायवर्सन से यात्रियों को नहीं होगी समस्याः शुभेन्दु अधिकारी कोलकाताः टाला ब्रिज पर बस व भारी वाहनों की पाबंदी के बाद बड़े पैमाने पर आगे पढ़ें »

बीजीबी की कार्रवाई बेवजह, हमने नहीं चलाई एक भी गोलीः बीएसएफ

मुर्शिदाबादः बॉर्डर गार्ड बांग्लादेश (बीजीबी) के जवानों ने बीएसएफ के जवान को लक्ष्य कर जानबूझकर चलायी थी गोली। यह मानना है सीमा पर तैनात बीएसएफ आगे पढ़ें »

ऊपर