भारत में 27 करोड़ से अधिक लोग गरीबी से बाहर निकले

संयुक्त राष्ट्र की रिपोर्ट

संयुक्त राष्ट्रः संयुक्त राष्ट्र की एक रिपोर्ट के अनुसार भारत में स्वास्थ्य, स्कूली शिक्षा समेत विभिन्न क्षेत्रों में प्रगति से लोगों को गरीबी से बाहर निकालने में उल्लेखनीय प्रगति हुई है। 2006 से 2016 के बीच रिकॉर्ड 27.10 करोड़ लोग गरीबी से बाहर निकले हैं। खाना पकाने का ईंधन, साफ-सफाई और पोषण जैसे क्षेत्रों में मजबूत सुधार के साथ विभिन्न स्तरों पर यानी बहुआयामी गरीबी सूचकांक मूल्य में इस अवधि में सबसे बड़ी गिरावट आयी है। संयुक्त राष्ट्र विकास कार्यक्रम (यूएनडीपी) और आक्सफोर्ड पोवर्टी एंड ह्यूमन डेवलपमेंट इनीशिएटिव (ओपीएचआई) द्वारा तैयार वैश्विक बहुआयामी गरीबी सूचकांक (एमपीआई) 2019 में यह बात कही गयी है।

क्या कहती है रिपोर्टः 101 देशों में 1.3 अरब लोगों का रिपोर्ट में अध्ययन किया गया। इसमें 31 न्यूनतम आय, 68 मध्यम आय और दो उच्च आय वाले देश थे। ये लोग विभिन्न पहलुओं के आधार पर गरीबी में फंसे थे। इसमें गरीबी का आकलन सिर्फ आय के आधार पर नहीं बल्कि स्वास्थ्य की खराब स्थिति, कामकाज की खराब गुणवत्ता और हिंसा का खतरा जैसे कई संकेतकों के आधार पर किया गया। रिपोर्ट में गरीबी में कमी को देखने के लिये संयुक्त रूप से करीब दो अरब आबादी के साथ 10 देशों को चिन्हित किया गया। ये 10 देश बांग्लादेश, कम्बोडिया, डेमोक्रेटिक रिपब्लिक ऑफ कांगो, इथियोपिया, हैती, भारत, नाइजीरिया, पाकिस्तान, पेरू और वियतनाम हैं। इन देशों में गरीबी में उल्लेखनीय कमी आयी है।

प्रगति की स्थित‌िः दक्षिण एशिया में सबसे अधिक प्रगति हुई। भारत में 2006 से 2016 के बीच 27.10 करोड़ लोग, बांग्लादेश में 2004 से 2014 के बीच 1.90 करोड़ लोग गरीबी से बाहर निकले। 10 चुने गये देशों में भारत और कम्बोडिया में एमपीआई मूल्य में सबसे तेजी से कमी आयी। उन्होंने सर्वाधिक गरीब लोगों को बाहर निकालने में कोई कसर नहीं छोड़ी। भारत का एमपीआई मूल्य 2005-06 में 0.283 था जो 2015-16 में 0.123 पर आ गया। भारत में गरीबी में कमी के मामले में सर्वाधिक सुधार झारखंड में देखा गया। वहां विभिन्न स्तरों पर गरीबी 2005-06 में 74.9 प्रतिशत से कम होकर 2015-16 में 46.5 प्रतिशत पर आ गयी। रिपोर्ट के अनुसार वर्ष 2005-06 में भारत के करीब 64 करोड़ लोग (55.1 प्रतिशत) गरीबी में थे। 2015-16 में यह संख्या घटकर 36.9 करोड़ (27.9 प्रतिशत) हो गयी।

शेयर करें

मुख्य समाचार

चाइना ओपन : क्वार्टरफाइनल में बी साईं प्रणीत की हार के साथ भारतीय चुनौती खत्म

चांगझू : विश्व के 15वें नंबर के पुरूष खिलाड़ी बी साई प्रणीत कड़े संघर्ष के बावजूद चाइना ओपन बैडमिंटन टूर्नामेंट में शुक्रवार को अपने क्वार्टरफाइनल आगे पढ़ें »

मरे चैलेंजर टेनिस टूर्नामेंट के क्वार्टर फाइनल में पहुंचे रामनाथन

नयी दिल्ली : भारत के रामकुमार रामनाथन ने जबरदस्त प्रदर्शन की बदौलत ग्लास्गो में चल रहे 46,600 यूरो की ईनामी राशि वाले मरे ट्रॉफी चैलेंजर आगे पढ़ें »

ऊपर