भारत, निर्भर सभी पड़ोसी देशों को भेजेगा मलेरिया की दवा : विदेश मंत्रालय

नयी दिल्ली : देशभर में महामारी बन चुके कोरोना वायरस संक्रमण से बचाव के तहत लागू लॉकडाउन के बीचभारत ने अपने फैसले को बदलते हुए निर्णय लिया है कि अपने सभी पड़ोसी निर्भर देश को मलेरिया की दवा भेजेगा।सूत्रों के अनुसार भारत ने प्रत्येक मामले के हिसाब से पड़ोसी देशों समेत अन्य को मलेरिया की दवा हाइड्रोक्सीक्लोरोक्वीन निर्यात करने का फैसला किया है। अधिकारियों ने मंगलवार को बताया कि कोरोना वायरस वैश्विक महामारी से निपटने में अंतरराष्ट्रीय समुदाय की मदद करने की भारत की प्रतिबद्धता के अनुरूप यह फैसला किया गया है। ‘हाइड्रोक्सीक्लोरोक्वीन’ मलेरिया के इलाज में प्रयुक्त होने वाली पुरानी और सस्ती दवा है।
पिछले महीने लगा दी थी रोक
पिछले महीने, भारत ने हाइड्रोक्सीलक्लोरोक्वीन के निर्यात पर रोक लगा दी थी जब ऐसी खबरें आईं कि कोविड-19 मरीजों का इलाज कर रहे स्वास्थ्य कर्मियों को संक्रमण से बचाने के लिए इस दवा का इस्तेमाल किया जा सकता है। अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने आगाह किया है कि उनके व्यक्तिगत अनुरोध के बावजूद अगर भारत हाइड्रोक्सीलक्लोरोक्वीन का निर्यात नहीं करता है तो अमेरिका जवाबी कार्रवाई कर सकता है। उन्होंने कहा कि उन्हें हैरानी होगी अगर भारत नहीं मानता है क्योंकि अमेरिका से उसके अच्छे संबंध हैं।
भारत पर निर्भर सभी पड़ोसी देश को दवा होगी निर्यात
विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अनुराग श्रीवास्तव ने कहा, ‘भारत का रुख हमेशा से यह रहा है कि अंतरराष्ट्रीय समुदाय को एकजुटता एवं सहयोग दिखाना चाहिए। इसी नजरिए से हमने अन्य देशों के नागरिकों को उनके देश पहुंचाया है।’ उन्होंने इस विषय पर मीडिया के सवालों का जवाब देते हुए कहा, ‘वैश्विक महामारी के मानवीय पहलुओं के मद्देनजर, यह तय किया गया है कि भारत अपने उन सभी पड़ोसी देशों को पेरासिटामोल और एचसीक्यू (हाइड्रोक्लोरोक्वीन) को उचित मात्रा में उपलब्ध कराएगा जिनकी निर्भरता भारत पर है।’ भारत को अपने निकटतम पड़ोसियों श्रीलंका और नेपाल के अलावा कई अन्य देशों से हाइड्रोक्सीक्लोरोक्वीन की आपूर्ति को लेकर अनुरोध प्राप्त हुए हैं।

शेयर करें

मुख्य समाचार

नंदीग्राम में बेटे शुभेन्दु के लिए प्रचार करेंगे शिशिर अधिकारी

खड़गपुर/कांथी: पूर्व मिदनापुर जिले के नंदीग्राम विधानसभा केंद्र में भाजपा उम्मीदवार शुभेन्दु अधिकारी के पक्ष में उनके पिता तथा कांथी से टीएमसी के निर्वाचित सांसद आगे पढ़ें »

कुंवारी स्त्रियों को शिवलिंग छूने की इजाज़त क्यों नहीं? जानिये ये सत्य, आज और अभी!

कोलकाताः हिंदू धर्म के अनुसार शिव लिंग की पूजा करना अच्छा माना जाता है और सिर्फ भारत में ही नहीं, पूरी दुनिया में जहाँ-जहाँ हिंदू आगे पढ़ें »

ऊपर