भारत के साथ आए पाक-चीन सहित 55 देश

संयुक्त राष्ट्र : केंद्र में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सरकार बनने के बाद से दुनिया में भारत की साख लगातार बढ़ रही है। संयुक्त राष्‍ट्र सुरक्षा परिषद (यूएनएससी) में भारत की अस्‍थाई सदस्यता का चीन और पाकिस्तान सहित 55 देशों ने समर्थन किया है। मालूम हो कि सुरक्षा परिषद के 5 अस्‍थायी सदस्यों का चुनाव जून 2020 के आसपास में होना है। अस्‍थायी सदस्यों के दो साल का कार्यकाल जनवरी 2021 से शुरू होगा।
समर्थन के लिए धन्यवाद दिया
भारत को मिले समर्थन के लिए संयुक्त राष्ट्र में भारत के स्थाई प्रतिनिधि सैयद अकबरुद्दीन ने मंगलवार को ट्वीट कर एशिया-प्रशांत समूह के सभी 55 सदस्यों को उनके समर्थन के लिए धन्यवाद दिया। साथ ही उन्होंने कहा कि वर्ष 2020-21 के लिए अस्‍थायी कार्यकाल के लिए भारत के नाम का समर्थन सर्वसम्मति से संयुक्त राष्ट्र में किया गया है। धन्यवाद।’अकबरुद्दीन ने अपने संदेश के साथ एक विडियो भी पोस्ट किया। इस संदेश में एशिया-प्रशांत समूह द्वारा यूएनएससी में भारत का अस्थायी सदस्यता के लिए समर्थन किए जाने की जानकारी दी गई है।
इन देशों ने किया भारत का समर्थन
यूएनएससी में अस्‍थायी सदस्यता के लिए भारत की उम्मीदवारी का समर्थन जिन 55 देशों ने किया है उनमें चीन, इंडोनेशिया, ईरान, जापान, कुवैत, किर्गिजिस्तान, अफगानिस्तान, बांग्लादेश, भूटान, मलेशिया, मालदीव, सीरिया, तुर्की, संयुक्त अरब अमीरात, म्यांमार, नेपाल, पाकिस्तान, कतर, सऊदी अरब, वियतनाम और श्रीलंका शामिल हैं।
सात बार भारत रह चुका है अस्‍थायी सदस्य
मालूम हो कि वर्ष 1950-51, 1967-68, 1972-73, 1977-78, 1984-85, 1991-92 और 2011-12 में भी भारत यूएनएससी का अस्थायी सदस्य रह चुका है।

गौरतलब है कि चीन, फ्रांस, रूस, ब्रिटेन और अमेरिका यूएनएससी के पांच स्‍थायी सदस्य हैं । वहीं हर वर्ष संयुक्त राष्ट्र महासभा के 193 सदस्य दो साल के कार्यकाल के लिए यूएनएससी के 5 अस्थायी सदस्यों का चुनाव करती है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

ममता की हुंकार : नहीं होने देंगे एनआरसी

सागरदिघी (मुर्शिदाबाद) : राष्ट्रीय नागरिक रजिस्टर (एनआरसी) को लेकर राजनीतिक बहस बढ़ती ही जा रही है। बुधवार को मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने हुंकार भरते हुए आगे पढ़ें »

डीआरआई का रेड और नोटों की बारिश

कोलकाता : महानगर के डलहौसी इलाके के बेन्टिक स्ट्रीट में बुधवार की दोपहर बाद अचानक एक कामर्शियल बिल्डिंग से नोटों की बारिश होने लगी। घटना आगे पढ़ें »

ऊपर