भाजपा संविधान के ‘वी द पीपल’ को ‘वी द हिंदू’ में बदल रही है : तेजस्वी यादव

पटना : लालू प्रसाद की पार्टी राष्ट्रीय जनता दल (राजद) ने केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार द्वारा संसद में लाए गए नागरिकता संशोधन विधेयक (कैब) की निंदा की। पार्टी ने जदयू के इसका समर्थन किए जाने पर मंगलवार को उन पर अपने लिए ‘ताबूत में कील ठोकने’ का काम करने का आरोप लगाया।
राजद की राष्ट्रीय परिषद की बैठक और खुले अधिवेशन में पार्टी नेताओं ने आरोप लगाया कि विधेयक ने संविधान की प्रस्तावना ‘वी द पीपुल’ को ‘वी द हिंदू’ के रूप में व्याख्या करनी चाही है और इसे संसद में पेश किया जाना भारतीय लोकतंत्र के इतिहास में एक ‘काले दिन’ के रूप में माना गया है। लालू के राजनीतिक उत्तराधिकारी माने जाने वाले उनके छोटे पुत्र तेजस्वी यादव ने कहा, ‘यहां मौजूद अन्य सभी दिग्गज नेताओं की तरह, नीतीश जी कभी मेरे पिता के सहयोगी थे। हमारे मतभेदों के बावजूद मैंने उन्हें चाचा कहा इसलिए मैं विशेषतासूचक शब्द का इस्तेमाल नहीं करूंगा।’ नीतीश के मंत्रिमंडल में कभी उपमुख्यमंत्री रहे तेजस्वी ने कहा कि भाजपा अपनी फासीवादी और सांप्रदायिक नीतियों के लिए जानी जाती है, जो लोकतंत्र की हत्या करना चाहती है। लेकिन नीतीशजी अधिक घृणा के पात्र हैं। उन्हें अपने अतीत के बारे में सोचना चाहिए कि वे किस विचारधारा से जुड़े रहे और उन्होंने अपनी सत्ता को संरक्षित करने के लिए किन-किन हदों को पार किया। उन्होंने कहा कि उनकी पार्टी के पास बिहार में सबसे अधिक विधायक हैं, लेकिन लोकसभा में एक भी सदस्य नहीं है, फिर भी हम इस विधेयक का हर तरह से विरोध करेंगे।
राजद विधायकों का एक वर्ग नीतीश के संपर्क में होने की चर्चा और उन्हें केवल एक अवसर की तलाश है, के बारे में तेजस्वी ने कहा, ‘मैं चाचा को चेतावनी देना चाहता हूं, हमें आपके शौक के बारे में जानकारी है। दूसरे लोगों के घरों को तोड़ने की कोशिश न करें। वरना, आपके अपने घर को आग लगा दी जाएगी।’

भारतीय लोकतंत्र के इतिहास में एक काला दिन : शरद यादव

राजद के इस खुले अधिवेशन को दिग्गज समाजवादी नेता शरद यादव ने संबोधित करते हुए कहा, ‘सोमवार भारतीय लोकतंत्र के इतिहास में एक काला दिन था, जब विधेयक को लोकसभा में पेश किया गया और भारी बहुमत से पारित किया गया। यह विधेयक संविधान की भावना के खिलाफ है।’जदयू के पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष रहे शरद यादव ने नीतीश पर प्रहार करते हुए कहा, ‘भाजपा हमेशा संविधान पर हमले के लिए जानी जाती है। लेकिन जदयू ने जो किया है, वह अपने ताबूत में कील ठोकने का काम किया है। मैं जानता था कि एनआरसी जैसे मुद्दों के खिलाफ बोल रही जदयू कैब के पक्ष में मतदान करेगी।
कैब के विरोध में दिया धरना
राजद के ट्विटर हैंडल पर कहा गया, ‘11 दिसंबर को पटना के गांधी मैदान के समीप जेपी गोलंबर के समीप नागरिकता संशोधन विधेयक संविधान के खिलाफ और एनआरसी मुद्दे पर प्रतिपक्ष के नेता तेजस्वी प्रसाद यादव धरना देंगे।’ राजद के ट्वीट में लोगों से इस धरना में शामिल होने कर नीतीश और ‘दंगाई पार्टी’ का पर्दाफाश करने की अपील की गयी है। बिहार की मुख्य विपक्षी पार्टी राष्ट्रीय जनता दल (राजद) ने नागरिकता संशोधन विधेयक को असंवैधानिक करार दिया और इस पर बुधवार को कड़ा विरोध जताते हुए धरना दिया। विधानसभा में प्रतिपक्ष के नेता तेजस्वी प्रसाद यादव के नेतृत्व में पार्टी के वरिष्ठ नेताओं के साथ ही बड़ी संख्या में कार्यकर्ताओं ने राजधानी पटना के जेपी गोलंबर के निकट धरना दिया। पोस्टर और बैनर लिए राजद के नेता धरना के दौरान भारतीय जनता पार्टी के नेतृत्व वाली केंद्र की राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन और बिहार की नीतीश सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी की। इस मौके पर विधायक तेजप्रताप यादव, भोला यादव, ललित यादव, भाई बीरेंद्र, राजद के प्रदेश अध्यक्ष जगदानंद सिंह और पूर्व सांसद शिवानंद तिवारी के साथ बड़ी संख्या में पार्टी कार्यकर्ता मौजूद थे।

शेयर करें

मुख्य समाचार

बंगाल में कोरोना वायरस संक्रमण के 2752 नये आये मामले

कोलकाता : वेस्ट बंगाल कोविड-19 हेल्थ बुलेटिन के अनुसार पश्चिम बंगाल में कोरोना वायरस संक्रमण के पिछले 24 घंटे में 2752 नये मामले आये है आगे पढ़ें »

राममंदिर के शिलान्यास के अवसर पर अपने घरों में दीपावाली मनाएं : रावत

देहरादून : उत्तराखंड के मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने पांच अगस्त को अयोध्या में राममंदिर निर्माण हेतु भूमिपूजन के अवसर पर प्रदेश की जनता से आगे पढ़ें »

ऊपर