बिहार में नहीं थम रहा चमकी बुखार का कहर, 84 बच्चों की गई जान

मुजफ्फरपुर: एक्यूट इंसेफेलाइटिस सिंड्रोम (एईएस) यानी चमकी बुखार बिहार में लगातार अपने पैर पसारता जा रहा है। बच्चों के मरने की संख्या हर बीतते घंटे के साथ बढ़ती ही जा रही है। अब मृतकों की तादाद 84 का आंकड़ा पार करने को है। इलाके में महामारी की तरफ फैलती इस बीमारी की स्थिति का जायजा लेने के लिए रविवार को केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन बिहार के मुजफ्फरपुर में श्री कृष्‍णा मेडिकल कॉलेज और हॉस्पिटल पहुंचे। बीते दिन तक 80 बच्चों के मरने की खबर थी लेकिन आज सुबह और 4 बच्चों नें अपना दम तोड़ दिया वो भी उस वक्त जब केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री अस्पताल में समीक्षा के लिए मौजूद थे। फिल्हाल पीड़ितों पर पैनी नजर रखी जा रही है।

शरीर में अचानक शुगर की कमी से मौत

स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों ने बताया कि इस बीमारी का मुख्य कारण हाइपोग्लाइसीमिया यानि शरीर में अचानक शुगर की कमी आ जाना है। उन्होंने बताया कि आस-पास के इलाके में उगाई जा रही लीची में कुछ विषैले पदार्थ पाये गए हैं, इसका भी बीमारी से संबंध हो सकता है। हालातों की जांच के लिए स्वास्थ्य विशेषज्ञों की टीम को मुजफ्फरपुर रवाना किया गया है। अधिकारियों ने जानकारी दी की तापतान में वृद्धि और नमी की मौजूदगी साथ ही बारिश का ना होना इस भयावह बीमारी को शह देता हैं।

अस्पतालों में सुविधाओं का आभाव

श्री कृष्‍णा मेडिकल कॉलेज और हॉस्पिटल पर पीड़ितों के परिजनों द्वारा ये आरोप लगाए जा रहे हैं कि रात के वक्त डॉक्टर अस्पताल से नदारद रहते हैं। इस वहज से उनको काफी परेशानी का सामना करना पड़ता है। लोगों ने बताया कि रात के वक्त केवल एक नर्स ही वहां मौजूद होती है। अस्पताल के ही एक कर्मचारी ने इस बात को माना है कि अस्पताल में सुविधाओं का काफी अभाव है।

हीटस्ट्रोक से भी कई लोगों की मौत

केंद्रीय मंत्री डॉ. हर्षवर्धन ने इस मामले पर शोक व्यक्त करते हुए लोगों को भीषण गर्मी में घरों से ना निकलने की सलाह दी है। उन्होंने कहा कि ‘यह बेहद दुर्भाग्यपूर्ण है कि हीटस्ट्रोक से लोगों की मौत हो रही है। मैं लोगों को सलाह दूंगा कि जब तक तापमान कम न हो घर से बाहर न निकले। प्रचंड गर्मी से दिमाग पर असर पड़ता है और फिर इससे कई तरह की बीमारियां हो जाती हैं।’

बता दें कि राज्य में इतने खराब हालात के बावजूद मुख्यमंत्री नितिश कुमार के वहां दौरे पर न जाने को लेकर उनके खिलाफ तरह-तरह के सवाल खड़े किए जा रहे हैं। हालांकि नीतिश इस मामले पर चिंता व्यक्त कर चुके हैं। याद दिला दें कि बीते दिन बिहार के स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडेय ने एईएस पर विवादित बयान दिया था जिसमें उन्होंने बच्चों की मौत को उनकी नियति बताया था।

शेयर करें

मुख्य समाचार

mamata banerjee

आज केन्द्र सरकार के प्रतिष्ठानों के कर्मियों को सम्बोधित करेंगी ममता

सन्मार्ग संवाददाता कोलकाता : मुख्यमंत्री ममता बनर्जी आज सोमवार को नेताजी इंडोर स्टेडियम में केंद्र सरकार के प्रतिष्ठानों के कर्मचारियों के प्रतिनिधियों को सम्बोधित करेंगी। इन आगे पढ़ें »

राजीव की पैरवी में राज्य सरकार कर रही मददः कैलाश विजयवर्गीय

नामी वकीलों की फीस बिना कालाधन के संभव नहीं कोलकाताः भाजपा के वरिष्ठ नेता कैलाश विजयवर्गीय ने ट्वीट करते हुए कहा कि राज्य सरकार कोलकाता पुलिस आगे पढ़ें »

ऊपर