बिहार के जेलों में 89 कैदी एड्स से पीड़ित

पटना : बिहार के जेलों में एड्स (एक्वायर्ड इम्यूनो डेफिसिएंसी सिंड्रोम) से पीड़ित कैदियों की संख्या काफी तेजी से बढ़ रही है, जहां 4010 कैदियों के रक्त की जांच में 89 में एचआईवी (ह्यूमन इम्यूनो डेफिसिएंसी वायरस) का संक्रमण पाया गया है।
जेल महानिरीक्षक मिथिलेश मिश्रा ने रविवार को यहां बताया कि बिहार के अलग-अलग जेलों में बंद चार हजार से अधिक कैदियों के रक्त की जांच कराई गई, जिनमें से 89 एड्स से पीड़ित पाए गए। उन्होंने बताया कि इन पीड़ित कैदियों का अलग-अलग केंद्रों में इलाज करवाया जा रहा है। जांच के दौरान 122 कैदियों में यक्ष्मा (टीबी) के संक्रमण का भी पता चला है। मिश्रा ने कहा कि कई व्यक्ति तो जेल आने के पहले से ही एचआईवी संक्रमित थे, जबकि कुछ कैदियों में यह संक्रमण जेल में आने के बाद फैला है। उन्होंने कहा कि संभवत: अप्राकृतिक यौनाचार भी कैदियों के एड्स से पीड़ित होने का कारण हो सकता है। उन्होंने कहा कि राज्य के जेलों में बंद कैदियों में एचआईवी-एड्स के संक्रमण को और फैलने से रोकने के लिए सभी आवश्यक कदम उठाए जा रहे हैं। बिहार के जेलों में एड्स की रोकथाम के लिए कारा विभाग और सरकार के नशा मुक्ति केद्रों ने अभी हाल ही में बिहार राज्य एड्स नियंत्रण सोसायटी के साथ सहमति पत्र (एमओयू) पर हस्ताक्षर किया है। इस करार के तहत सभी पक्ष राज्य के जेलों में बंद कैदियों में यक्ष्मा (टीबी) के संक्रमण की रोकथाम के लिए भी काम करेंगे।
बिहार राज्य एड्स नियंत्रण सोसायटी के परियोजना निदेशक डॉ. अभय प्रसाद ने कहा कि एड्स के 80 प्रतिशत मामले असुरक्षित एवं अप्राकृतिक यौनाचार के कारण हैं। उन्होंने कहा कि जेलों में एचआईवी संक्रमण का बड़ा कारण कैदियों का ड्रग्स सेवन करना भी है। मिश्रा ने बताया कि जेलों में एचआईवी संक्रमित कैदियों की संख्या चिंताजनक है। उन्होंने बताया कि जेलों में एचआईवी संक्रमण और एड्स को लेकर सघन जागरूकता अभियान चलाया जा रहा है। एड्स दिवस के अवसर पर राज्य के सभी जेलों में शिविर लगाकर एड्स के संक्रमण एवं बचाव की जानकारी दी जा रही है। जेल प्रशासन कैदियों की जांच और उनके इलाज के लिए और कदम भी उठा रहा है। गौरतलब है कि राष्ट्रीय एड्स नियंत्रण संगठन के ताजा आंकड़ों के अनुसार देश के कुल 21 लाख 40 हजार एचआईवी संक्रमित लोगों में बिहार से 11 लाख 50 हजार लोग शामिल हैं।

शेयर करें

मुख्य समाचार

उड़ान की लैंडिंग के बाद अब झटपट यात्री विमान से निकल सकेंगे बाहर

सन्मार्ग संवाददाता,कोलकाता : उड़ान परिसेवा को दुरुस्त बनाने के लिए एयरपोर्ट अथारिटी ऑफ इंडिया नयी-नयी तकनीकियों और अवसरों पर काम करता आ रहा है। ऐसे आगे पढ़ें »

हावड़ा के सैकड़ों एटीएम हैं असुरक्षित-सीपी

सन्मार्ग संवाददाता,हावड़ा : एटीएम स्कीमिंग फ्रॉड के मामले सामने आने के बाद गुरुवार को हावड़ा पुलिस आयुक्त गौरव शर्मा ने कुछ बैंक अधिकारियों के साथ आगे पढ़ें »

ऊपर