बंधु तिर्की पार्टी विरोधी गतिविधि के आरोप में  झाविमो से निष्कासित

रांची : झारखंड विकास मोर्चा (झाविमो) ने पार्टी विरोधी गतिविधियों में शामिल रहने के आरोप में मांडर से विधायक बंधु तिर्की को मंगलवार को निष्कासित कर दिया।
झाविमो के प्रधान महासचिव अभय सिंह ने यहां बताया कि बंधु तिर्की को पार्टी विरोधी गतिविधि में शामिल होने के आरोप पर 48 घंटे के अंदर स्पष्टीकरण देने के लिए 17 जनवरी 2020 को पत्र प्राप्त हुआ था। अभय सिंह ने बताया कि बंधु तिर्की ने पत्र प्राप्त होने के बाद भी तय समयसीमा के भीतर अपना पक्ष नहीं रखा। इसके बाद झाविमो के केंद्रीय अध्यक्ष बाबूलाल मरांडी के निर्देश के अनुसार, बंधु तिर्की के पार्टी विरोधी गतिविधि में संलिप्तता के आरोप में अनुशासनात्मक कार्रवाई करते हुए उन्हें पार्टी से निष्कासित कर दिया गया है। इस पर बंधु तिर्की ने अपने बचाव में कहा कि उन्हें अभी-अभी जानकारी मिली है कि मांगे गए स्पष्टीकरण का जवाब नहीं देने की वजह से उन्हें पार्टी से निष्कासित कर दिया गया है। उन्होंने कहा कि उनके प्रतिनिधि स्पष्टीकरण पत्र लेकर झाविमो कार्यालय के चक्कर लगाते रह गए लेकिन किसी ने पत्र नहीं लिया। गौरतलब है कि झारखंड में पिछले वर्ष हुए विधानसभा चुनाव में हटिया विधानसभा क्षेत्र से झाविमो की अधिकृत उम्मीदवार शोभा यादव ने बंधु तिर्की पर उनके खिलाफ जबकि कांग्रेस प्रत्याशी अजयनाथ शाहदेव के पक्ष में प्रचार करने का आरोप लगाया था। आरोप सही पाए जाने पर मांगे गए स्पष्टीकरण का निर्धारित समयसीमा में जवाब नहीं देने पर बंधु तिर्की को निष्कासित कर दिया गया है। झाविमो की नयी कार्यसमिति में बंधु तिर्की और पोड़ैयाहाट से विधायक प्रदीप यादव को कोई पद नहीं दिए जाने और अब बंधु तिर्की के निष्कासन से झाविमो का भारतीय जनता पार्टी में विलय होना लगभग तय माना जा रहा है क्योंकि ये दोनों विधायक इस विलय का विरोध करते रहे हैं। हालांकि इससे पूर्व बंधु तिर्की झाविमो के केंद्रीय महासचिव तथा प्रदीप यादव प्रधान महासचिव थे।

शेयर करें

मुख्य समाचार

nadda

उपलब्धियों और निर्णायक फैसले से भरा रहा मोदी 2.0 का पहला साल : नड्डा

नयी दिल्ली : भाजपा अध्यक्ष जे पी नड्डा ने शनिवार को कहा कि मोदी सरकार का दूसरा कार्यकाल ऐतिहासिक उपलब्धियों से भरा रहा और इस आगे पढ़ें »

बंगाल के विश्वविद्यालयों में 30 जून तक कक्षाएं निलंबित रखने की कुलपतियों ने सरकार से की सिफारिश

कोलकाता : पश्चिम बंगाल के विश्वविद्यालयों के कुलपतियों ने सरकार से कोविड-19 महामारी और चक्रवात अम्फान के कारण उत्पन्न हालात के मद्देनजर कक्षाओं का निलंबन आगे पढ़ें »

ऊपर