पिछले दरवाजे से हो रही है राष्ट्रपति शासन की लाने की कोशिश : येचुरी

नयी दिल्ली : मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी नेता सीताराम येचुरी ने कहा है कि केंद्र सरकार पिछले दरवाजे से राष्ट्रपति शासन लाने की कोशिश कर रही है। यह बात उन्होंने सरकार के ‘एक राष्ट्र, एक चुनाव’ के विचार को लेकर कही है। साथ ही उन्होंने इसे असंवैधानिक तथा संघीय व्यवस्था के खिलाफ बताया है।
अनुच्छेद 356 का दुरुपयोग
येचुरी ने कहा कि पहले भी एक साथ चुनाव हुए थे लेकिन अनुच्छेद 356 का दुरुपयोग किया गया। जब तक अनुच्छेद 356 रहेगा तब तक एक साथ चुनाव नहीं हो सकते। माकपा नेता के अनुसार बैठक में राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (राकांपा) प्रमुख शरद पवार और भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी (भाकपा) सहित कई दलों के नेताओं ने कहा कि फिलहाल की व्यवस्था में एक साथ चुनाव संभव नहीं हैं।

बता दें कि ‘एक राष्ट्र, एक चुनाव’ के विचार पर चर्चा करने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा बुलाई गयी सर्वदलीय बैठक में भाग लेने के बाद माकपा नेता सीताराम येचुरी ने संवाददाताओं से बातचीत करते हुए कहा, ‘‘एक साथ चुनाव का विचार देश में संसदीय प्रणाली की जगह पिछले दरवाजे से राष्ट्रपति शासन लाने की कोशिश है। यह विचार असंवैधानिक और संघीय व्यवस्था के खिलाफ है।’’

गौरतलब है कि संविधान के अनुच्छेद 356 के तहत केन्द्र कुछ आपात स्थितियों में राज्य की चुनी हुई सरकार को बर्खास्त कर राष्ट्रपति शासन लगा सकता है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

Jagdip Dhankhar

धनखड़ के खिलाफ विधान सभा से संसद तक मोर्चाबंदी

कोलकाता : ऐसा पहली बार हुआ है जब विधानसभा में सत्ता पक्ष ने धरना दिया। कारण थे राज्यपाल जगदीप धनखड़, जिन पर विधेयकों को मंजूरी आगे पढ़ें »

मेरे कंधे पर बंदूक रखकर चलाने की को​शिश न करें – धनखड़

कोलकाता : राज्यपाल जगदीप धनखड़ और तृणमूल सरकार के बीच संबंधों में मंगलवार को और खटास आ गयी जब उन्होंने ‘कछुए की गति से काम आगे पढ़ें »

ऊपर