परिवारवाद को लेकर मायावती के खिलाफ बसपा कार्यकर्ताओं का सांकेतिक प्रदर्शन

लखनऊ : बहुजन समाज पार्टी (बसपा) में परिवारवाद का विरोध जताते हुए यहां 12 माल एवन्यू पर स्थित पार्टी के प्रदेश मुख्यालय के सामने कार्यकर्ताओं ने सांकेतिक प्रदर्शन किया। कार्यकर्ता अपने हाथों में बाबा साहब भीमराव अंबेडकर का चित्र और तख्तियां लिए हुए थे, जिनमें बसपा जिंदाबाद और परिवारवाद मुर्दाबाद के नारे लिखे थे। कार्यकर्ताओं के अनुसार बसपा अध्यक्ष मायावती ने अपने भाई आनंद और भतीजे आकाश आनंद को केन्द्रीय कार्यकारिणी में नियुक्त कर पार्टी को परिवारवाद की पराकाष्ठा पर पहुंचा दिया है जिससे पार्टी कार्यकर्ताओं के विश्वास और समर्पण पर कुठराघात हुआ है। बसपा की स्थापना लोकतांत्रिक मूल्यों के साथ समता मूलक समाज की स्थापना के लिये की गयी थी। कांशीराम ने बहुजन विचारधारा के साथ पार्टी को आगे बढ़ाया और अपने परिवार के किसी भी सदस्य को केन्द्रीय कार्यकारिणी में शामिल नहीं किया लेकिन वर्ष 2009 के बाद मायावती ने परिवारवाद में मनमाने निर्णय थोपे। कार्यकर्ताओं ने कहा कि बसपा अध्यक्ष अपना मनमाना फैसला वापस नहीं लेती हैं तो पूरे प्रदेश में सांकेतिक प्रदर्शन किये जायेंगे।

शेयर करें

मुख्य समाचार

लोगों में पीओके की आजादी के लिये ‘जुनून’ है : ठाकुर

जम्मू : केंद्रीय मंत्री अनुराग ठाकुर ने सोमवार को कहा कि जम्मू-कश्मीर के विशेष दर्जे को समाप्त करने के बाद पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर आगे पढ़ें »

पिछले पांच-छह साल में बढ़े हैं दलितों पर अत्याचार : प्रशांत भूषण

नयी दिल्ली : भीम आर्मी द्वारा आयोजित संवाददाता सम्मेलन में सामाजिक कार्यकर्ता व वकील प्रशांत भूषण ने सोमवार को आरोप लगाया कि पिछले पांच-छह साल आगे पढ़ें »

ऊपर