पति का रंग सांवला था इसलिये जिंदा जला दिया

बरेली : उत्तर प्रदेश के बरेली में एक ऐसा मामला सामने आया है जिसने मानवीय संवेदनाओं को शर्मसार करने में कोई कसर नहीं छोड़ी है। जिले के फतेहगढ़ थाना क्षेत्र में रहने वाली एक 22 साल की महिला ने अपने पति को सांवले रंग की वजह से जिंदा जला दिया।
महिला की उम्र सिर्फ 22 साल 
देश में पतिव्रता नारियों के उदाहरणों की कमी नहीं हैं। सावित्री ने कभी यमराज से अपने पति के प्राण वापस लाये थे। लेकिन यह सोच कर भी रूह कांप जाती है कि कैसे कोई महिला अपने पति की हत्या कर सकती है जिसके साथ सात जन्मों तक साथ निभाने के लिये उसने अग्नि के साथ फेेेरे लिये थे लेकिन ऐसा हुआ है। सिर्फ 22 साल की उम्र में महिला ने पति को ‌जिंदा जलाने जैसा खौफनाक कदम उठा लिया।
सांवले रंग के कारण नहीं करती थी पसंद
फतेहगढ़ थाने के एसएचओ सहदेव सिंह के अनुसार प्रेमश्री की शादी दो साल पहले सत्यवीर सिंह से हुई थी। सत्यवीर अपनी पत्नी से उम्र में सिर्फ दो साल बड़ा था। वह सांवले रंग का था, यही वजह थी कि प्रेमश्री उसे पसंद नहीं करती थी। उनदोनों के एक पांच महीने की बेटी भी है।
पेट्रोल छिड़क कर लगाई आग
पुलिस ने बताया कि घटना सोमवार सुबह करीब साढ़े पांच बजे की है। जिस समय सत्यवीर सिंह घर में चारपाई पर सो रहा था उसी समय उसकी पत्नी प्रेमश्री ने आकर पहले उसके ऊपर पेट्रोल छिड़का फिर आग लगा दी। इस कृत्य के दौरान उसके पैर भी जल गये।
ईलाज के दौरान तोड़ा दम
पुलिस के मुताबिक आग लगाये जाने के बाद गंभीर अवस्‍था में सत्यवीर को अस्पताल ले जाया गया। जहां इलाज के दौरान उसने दम तोड़ दिया। इस घटना को लेकर सत्यवीर के भाई हरवीर सिंह का कहना है कि ‘भाभी प्रेमश्री, सत्यवीर को पसंद नहीं करती थी। वह उनके सांवले रंग को लेकर आये दिन ताने देती रहती थी। सत्यवीर उन्हें चाहते थे इसलिए कभी कुछ नहीं कहते थे। मगर उन्हें पता नहीं था कि वह इतना बड़ा कदम उठा लेगी।’

बता दें कि पुलिस ने प्रेमश्री को गिरफ्तार कर उसके खिलाफ हत्या के प्रयास की धारायें लगायी थी। सत्यवीर की मौत के बाद आरोपी महिला पर हत्या का केस दर्ज कर लिया है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

वेस्टइंडीज जीत के करीब, इंग्लैंड ने दूसरी पारी में 313 रन बनाए

साउथैम्पटन : इंग्लैंड के खिलाफ टेस्ट में वेस्टइंडीज जीत की ओर है। मैच के पांचवें दिन टी ब्रेक तक मेहमान टीम ने 4 विकेट के आगे पढ़ें »

पगबाधा का फैसला सिर्फ और सिर्फ डीआरएस से हो : तेंदुलकर

नयी दिल्ली : महान बल्लेबाज सचिन तेंदुलकर ने अंपायरों के फैसलों की समीक्षा प्रणाली (डीआरएस) से अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद (आईसीसी) को ‘अंपायर्स कॉल’ को हटाने आगे पढ़ें »

ऊपर