पटना में बनेगा 25 हजार अभ्यर्थियों के बैठने की क्षमता वाला परीक्षा केंद्र

CM Nitish Kumar

पटना : बिहार में कदाचार मुक्त एवं पारदर्शी तरीके से साल में कभी परीक्षा लेने के लिए राजधानी पटना में 25 हजार से अधिक अभ्यर्थियों के बैठने की क्षमता वाले परीक्षा केंद्र का निर्माण हो रहा है।
बिहार विद्यालय परीक्षा समिति (बीएसबी) के अध्यक्ष आनंद किशोर ने बुधवार को यहां मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के समक्ष इस परीक्षा केंद्र के निर्माण के संबंध में प्रस्तुतीकरण दिया। इस दौरान उन्होंने मुख्यमंत्री को बताया कि इस परिसर में ऑफलाइन एवं ऑनलाइन मोड में परीक्षा आयोजित करने की व्यवस्था होगी। ऑफलाइन परीक्षा के लिए 44 हॉल में 20680 परीक्षार्थियों की क्षमता तथा ऑनलाइन परीक्षा के लिए कुल 20 हॉल में 4400 परीक्षार्थियों के बैठने की व्यवस्था यानी कुल 25 हजार 80 परीक्षार्थियों के एक साथ बैठने की व्यवस्था होगी। पूरे परिसर, भवन, हॉल में सीसीटीवी और जैमर की व्यवस्था होगी। मुख्यमंत्री को बताया गया कि सभी भवनों के सभी हॉल में वेबकास्टिंग की सुविधा तथा परीक्षाओं का अनुश्रवण मोबाइल फोन के माध्यम से भी करने की व्यवस्था होगी। प्रत्येक भवन के ऊपर सौर पैनल एवं एस्केलेटर की व्यवस्था होगी। सुरक्षा के दृष्टिकाण से 52 सिपाहियों के रहने के लिए एक बैरक की भी सुविधा होगी। इसके साथ ही सहायक कर्मचारियों के लिये भी आवासन की व्यवस्था रहेगी। मुख्यमंत्री को बताया गया कि गांधी सेतु से लगभग 100 मीटर की दूरी पर ओल्ड बाईपास के पास 6.79 एकड़ में इस परिसर का निर्माण होगा। इसके लिए 5.78 एकड़ जमीन बीएसईबी को हस्तांतरित हो चुका है। शेष 1.11 एकड़ जमीन हस्तगत करने के लिए बीएसईबी ने पटना जिलाधिकारी को प्रस्ताव भेजा है। इस पर मुख्यमंत्री ने कहा कि जब साइट एक ही है और जमीन गैरमजरुआ है तो उसे ट्रांसफर करने में कोई दिक्कत नहीं होगी। उन्होंने कहा कि शेष 1.11 एकड़ जमीन में तालाब है, उसे अतिशीघ्र ट्रांसफर कराकर तालाब का सुंदरीकरण एवं उसके चारों ओर पेड़ लगाने की व्यवस्था सुनिश्चित किया जाए ताकि परिसर हरा-भरा रहे। इसके अलावा वहां घूमने के लिए पाथवे भी होना चाहिए। उन्होंने कहा कि परीक्षा परिसर की चहारदीवारी इस प्रकार से बने कि बाहर से परीक्षा में गड़बड़ी करने की कोई गुंजाइश नहीं रहे।
नीतीश कुमार ने हर जिले की आबादी को ध्यान में रखते हुए ऐसे परीक्षा केंद्र बनाने की बात कही ताकि कदाचार मुक्त एवं पारदर्शी तरीके से वर्ष में कभी भी परीक्षा का आयोजन किया जा सके। उन्होंने कहा कि मेट्रो का अलाइनमेंट और बस स्टैंड को ध्यान में रखते हुए पथ निर्माण विभाग और भवन निर्माण विभाग के अधिकारी स्वयं जाकर स्थल का मुआयना कर यह सुनिश्चित कर लें कि परीक्षा परिसर का निर्माण बेहतर ढंग से हो सके। अतिवृष्टि में भी परीक्षा परिसर प्रभावित न हो, इसका ध्यान विशेष रूप से ध्यान रखना होगा। इस अवसर पर शिक्षा मंत्री कृष्णनंदन प्रसाद वर्मा, विकास आयुक्त अरुण कुमार सिंह, अपर मुख्य सचिव शिक्षा आर.के. महाजन, मुख्यमंत्री के प्रधान सचिव चंचल कुमार, मुख्यमंत्री के सचिव मनीष कुमार वर्मा एवं अनुपम कुमार सहित बीएसईबी से जुड़े अन्य अधिकारी उपस्थित थे।

शेयर करें

मुख्य समाचार

तवा और कढ़ाही होते हैं राहु का प्रतीक, भूलकर भी न करें ये गलति‍यां

कोलकाताः आपने कभी सोचा है क‍ि आपकी लाइफ में कई सारी टेंशन की वजह आपके क‍िचन में इस्‍तेमाल होने वाला तवा और कढ़ाही भी हो आगे पढ़ें »

कालीघाट में कार में मिला व्यक्ति का शव

कोलकाता : कालीघाट थानांतर्गत एसपीएम रोड पर कार के अंदर से एक व्यक्ति का शव बरामद किया गया। मृतक का नाम विरेन्द्र कुवर है। वह आगे पढ़ें »

ऊपर