नीतीश सरकार को शिक्षा, स्वास्थ्य व रोजगार की परवाह नहीं : तेजस्वी यादव

 उपेंद्र कुशवाहा का आमरण अनशन समाप्त
पटना : बिहार विधानसभा में प्रतिपक्ष के नेता तेजस्वी प्रसाद यादव ने शनिवार को कहा कि राज्य की नीतीश सरकार आईसीयू में है और उसे लोगों को बेहतर शिक्षा, स्वास्थ्य, रोजगार के साथ ही बिहार को विशेष राज्य का दर्जा मिले इसकी तनिक भी परवाह नहीं है।
तेजस्वी यादव ने यहां राष्ट्रीय जनता दल के प्रदेश कार्यालय में महागठबंधन के घटक कांग्रेस के राज्यसभा सांसद अखिलेश प्रसाद सिंह, हिंदुस्तानी अवाम मोर्चा (हम) के राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं पूर्व मुख्यमंत्री जीतनराम मांझी, राष्ट्रीय लोक समता पार्टी (रालोसपा) के प्रदेश अध्यक्ष भूदेव चौधरी, वरिष्ठ समाजवादी नेता शरद यादव, राजद के प्रदेश अध्यक्ष जगदानंद सिंह के साथ ही वामदलों के वरिष्ठ नेताओं की मौजूदगी में आयोजित संवाददाता सम्मेलन में कहा कि विपक्षी दलों के नेता यह चाहते हैं कि राज्य में स्कूल और अस्पताल बने, नौजवानों को रोजगार मिले, विधि-व्यवस्था में सुधार हो तथा बिहार को विशेष राज्य का दर्जा मिले लेकिन मुख्यमंत्री नीतीश कुमार चाहते ही नहीं है। प्रतिपक्ष के नेता ने कहा कि मुख्यमंत्री सत्ता के नशे में चूर हैं और उन्हें सिर्फ अपनी कुर्सी बचाने की चिंता है। रालोसपा अध्यक्ष एवं पूर्व केंद्रीय मंत्री उपेंद्र कुशवाहा पिछले चार दिनों से नवादा और औरंगाबाद में केंद्रीय विद्यालय के लिए बिहार सरकार से जमीन देने की मांग को लेकर आमरण अनशन पर बैठे हुए थे और शुक्रवार को उनकी तबीयत खराब होने के बाद उन्हें पटना मेडिकल कॉलेज अस्पताल (पीएमसीएच) में भर्ती कराया गया। केंद्रीय विद्यालय की जमीन के लिए सिर्फ राज्य सरकार को अनापत्ति प्रमाण-पत्र (एनओसी) देना था जो नहीं दे रही है।
तेजस्वी यादव ने कहा कि केंद्रीय विद्यालय खुलेगा। उसमें गरीब के बच्चे पढ़ेंगे और उन्हें लाभ होगा। केंद्रीय विद्यालय के लिए जमीन की मांग कर उपेंद्र कुशवाहा ने कौन सी बड़ी मांग कर दी है, जिसे मुख्यमंत्री नहीं दे रहे हैं। उन्होंने कहा कि महंत ने विद्यालय के लिए जमीन दी है और राज्य सरकार को सिर्फ अब इसके लिए एनओसी लेना है। समस्तीपुर में जो मेडिकल कॉलेज खुला है, उसके लिए भी वहां के एक महंत ने जमीन दी थी तो फिर केंद्रीय विद्यालय के लिए एनओसी क्यों नहीं दिया जा रहा है? नेता प्रतिपक्ष ने कहा कि रालोसपा अध्यक्ष का आमरण अनशन अपने निजी किसी उद्देश्य के लिए नहीं बल्कि जनहित में आम एवं गरीब कमजोर वर्ग के लिए सस्ती शिक्षा दिलाने का प्रयास है। उन्होंने कहा कि कुशवाहा का आमरण अनशन पवित्र उद्देश्य को प्राप्त करने का माध्यम है लेकिन इस असंवेदनशील सरकार से जनहित का कार्य करा लेना संभव नहीं है। तेजस्वी यादव ने कहा कि महागठबंधन उपेंद्र कुशवाहा के प्रयास का समर्थन करता है तथा यह तय किया गया है कि पीएमसीएच में उनसे मिलकर आमरण अनशन को समाप्त कराने का आग्रह करेंगे। इसके साथ ही आगे के संघर्ष को और मजबूती से लड़ने का आश्वासन देंगे। इसके बाद महागठबंधन के सभी नेताओं ने पीएमसीएच में भर्ती कुशवाहा से मिलकर उनसे आमरण अनशन समाप्त करने का आग्रह किया। इसके बाद प्रतिपक्ष के नेता तेजस्वी प्रसाद यादव और समाजवादी नेता शरद यादव ने उन्हें जूस पिलाकर आमरण अनशन समाप्त कराया।

शेयर करें

मुख्य समाचार

अमेरिका व चीन के बीच बढ़ते तनाव से दुनियाभर में आर्थिक गतिविधियां प्रभावित

नई दिल्ली : कोरोना महामारी के कारण अमेरिका का काफी नुकसान हुआ है। अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने चीन को लेकर लगातार आक्रामक रुख आगे पढ़ें »

बंगाल में कोरोना का कहर एक दिन में आए 183 नये मामले

कोलकाता : कोरोना वायरस संक्रमण से बचाव के ​लिए लागू लॉकडाउन के 64वें दिन बुधवार को बंगाल में पिछले 24 घंटे में 183 लोगों के आगे पढ़ें »

ऊपर