नहीं रहे गीता का उर्दू अनुवाद करने वाले शायर अनवर जलालपुरी

लखनऊः मशहूर शायर अनवर जलालपुरी का मंगलवार को लखनऊ में निधन हो गया। उन्होंने भगवद्गीता का उर्दू में अनुवाद किया था। उन्होंने ‘अकबर द ग्रेट’ धारावाहिक के संवाद भी लिखे थे। वह 70 वर्ष के थे। उन्होंने मंगलवार सुबह लखनऊ स्थित ट्रॉमा सेंटर में आखिरी सांस ली। जलालपुरी को बीती 28 दिसंबर को ब्रेन स्ट्रोक के बाद किंग जॉर्ज मेडिकल कॉलेज के ट्रॉमा सेंटर में भर्ती कराया गया था। उन्हें 2015 में उत्तर प्रदेश के यश भारती सम्मान से नवाजा गया था। उनके निधन की खबर सुनकर बड़ी संख्या में उनके चाहने वाले अस्पताल और उनके घर पहुंचे।
28 दिसंबर को हुआ था ब्रेन हैमरेज
जलालपुरी के बेटे शाहकार ने बताया कि उनके पिता ने लखनऊ स्थित ट्रॉमा सेंटर में आखिरी सांस ली। उनके परिवार में पत्नी और तीन बेटे हैं। जलालपुरी को 28 दिसंबर को उनके घर में ब्रेन हैमरेज के बाद किंग जॉर्ज चिकित्सा विश्वविद्यालय के ट्रॉमा सेंटर में भर्ती कराया गया था, जहां सुबह करीब सवा नौ बजे उन्होंने आखिरी सांस ली। जलालपुरी को मंगलवार को दोपहर में जोहर की नमाज के बाद आंबेडकर नगर स्थित उनके पैतृक स्थल जलालपुर में सुपुर्द-ए-खाक किया जाएगा। मुशायरों की जान माने जाने वाले जलालपुरी ने ‘राहरौ से रहनुमा तक’ ‘उर्दू शायरी में गीतांजलि’ तथा भगवद्गीता के उर्दू संस्करण ‘उर्दू शायरी में गीता’ पुस्तकें लिखीं जिन्हें बेहद सराहा गया था।
‘डेढ़ इश्किया’ में भी आए थे नजर
अनवर जलालपुरी विशाल भारद्वाज की फिल्म डेढ़ इश्किया में नसीरुद्दीन और माधुरी दीक्षित के साथ मंच पर मुशायरा पढ़ते नजर आए थे। फिल्म में भी जलालपुरी ने उर्दू के अदब की खुशबू को करीने से बिखेर कर दर्शकों का दिल जीत लिया था। इसके अलावा उन्होंने 1988 में आए टीवी सीरियल अकबर द ग्रेट के लिए डायलॉग्स और गीत भी लिखे, जिन्हें काफी सराहा गया।

शेयर करें

मुख्य समाचार

ranbaxy

शीर्ष न्यायालय ने रैनबैक्सी के पूर्व प्रवर्तकों को दोषी ठहराया, आदेश के खिलाफ बेचे कंपनी के शेयर

नयी दिल्ली : शीर्ष न्यायालय ने रैनबैक्सी के पूर्व प्रवर्तकों मलविंदर सिंह और शिविंदर सिंह को न्यायालय की अवमानना का दोषी ठहराया है। इन दोनों आगे पढ़ें »

S Jaishankar

आतंकवाद का उद्योग कर रहा पाकिस्तान, भारत के‌ लिए जवाब देना जरूरी : विदेश मंत्री

नई दिल्ली : भारत के विदेश मंत्री एस जयशंकर ने गुरुवार को दिल्ली में रामनाथ गोयनका मेमोरियल व्याख्यान को संबोधित करते हुए पाकिस्तान के खिलाफ आगे पढ़ें »

ऊपर