देश में अब ‘वंशवाद व परिवारवाद’ की राजनीति नहीं चलेगी : रघुवर दास

डालटनगंज : झारखंड के मुख्यमंत्री एवं भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के वरिष्ठ नेता रघुवर दास ने कांग्रेस पर निशाना साधते हुए बुधवार को कहा कि देश में अब वंशवाद और परिवारवाद की राजनीति नहीं चलेगी।
रघुवर दास ने यहां भवनाथपुर, छत्तरपुर और मेदिनीनगर में राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) उम्मीदवारों के पक्ष में चुनावी सभाओं को संबोधित करते हुए कहा कि देश की करोड़ों जनता ने वर्ष 2014 और 2019 के चुनाव में साबित कर दिया है कि चाय बेचने वाले का बेटा देश का तथा एक मजदूर भी राज्य का मुख्य सेवक बन सकता है। भाजपा नेता ने कहा कि वंशवाद की राजनीति करने वाले लोकतंत्र के विरोधी होते हैं। उन्होंने कहा कि झारखंड में 14 वर्षों तक झारखंड मुक्ति मोर्चा (झामुमो), कांग्रेस और झारखंड विकास मोर्चा (झाविमो) ने सरकारें चलाई हैं लेकिन भाजपा के पांच वर्षों के कार्यकाल में किस तरह विकास के पथ पर आगे बढ़ा यह सभी जानते हैं। रघुवर ने कहा कि झारखंड में ‘डबल इंजन’ की सरकार गरीबों के सशक्तीकरण को लेकर काम कर रही है। इसके तहत ‘प्रधानमंत्री किसान योजना’ से 35 लाख किसानों के खाते में पांच-पांच हजार रुपये के दो किस्त दिए जा चुके हैं। वहीं, सोन नदी परियोजना पूर्ण होने की स्थिति में है। भाजपा नेता ने कहा कि राजग को छोड़कर अन्य दलों में शामिल लोग चोर हैं। किसी तरह सत्ता पर काबिज होना चाहते हैं लेकिन ऐसा नहीं होगा। जनता सब जानती है। उन्होंने दावा किया कि झारखंड में एक बार फिर भाजपा की पूर्ण बहुमत की सरकार बनेगी। उन्होंने कहा कि भाजपा सरकार के प्रयास से ही अयोध्या में राम मंदिर निर्माण का सपना पूरा हो पाया है। इस मौके पर रांची के सांसद संजय सेठ, कोडरमा की सांसद अन्नपूर्णा देवी, पलामू के सांसद वी.डी. राम, भाजपा के प्रदेश उपाध्यक्ष आदित्य साहू, प्रदेश मंत्री मनोज सिंह, अन्य बड़े नेता और बड़ी संख्या में लोग उपस्थित थे।

शेयर करें

मुख्य समाचार

अपना कर्तव्य नहीं निभा रही हैं सीएम – मुकुल

कोलकाता : भाजपा के वरिष्ठ नेता व राष्ट्रीय कार्यकारिणी के सदस्य मुकुल राय ने बंगाल में कैब के विरोध में हो रहे प्रदर्शन पर कहा आगे पढ़ें »

Bengal new Rajypal

मुख्यमंत्री अपने कर्तव्य को निभाएं : राज्यपाल

कोलकाता : राज्यभर में नागरिकता संशोधित कानून (कैब) के विरोध में किए जा रहे प्रदर्शन और हिंसा के बीच ही राज्यपाल जगदीप धनखड़ ने लोगों आगे पढ़ें »

ऊपर