दिल्ली विधानसभा चुनाव में नीतीश कुमार और तेजस्वी यादव होंगे आमने-सामने

पटना : बिहार में इस वर्ष होने वाले विधानसभा चुनाव से पहले दिल्ली विधानसभा के चुनाव में जद(यू) के राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं मुख्यमंत्री नीतीश कुमार तथा राजद नेता तेजस्वी प्रसाद यादव आमने-सामने होंगे।
दिल्ली विधानसभा के लिए हो रहे चुनाव में एक सीट पर नीतीश कुमार की पार्टी जद(यू) और लालू प्रसाद यादव की पार्टी राजद के उम्मीदवार एक-दूसरे को शिकस्त देने के लिए हर तरह से जोर आजमाइश करेंगे। राजद अध्यक्ष लालू यादव की गैर मौजूदगी में पार्टी की कमान संभाल रहे उनके पुत्र और विधानसभा में प्रतिपक्ष के नेता तेजस्वी प्रसाद यादव चुनावी दंगल में हर तरह का दांव अजमाते नजर आएंगे। दिल्ली विधानसभा चुनाव में जद(यू) और राजद एक-दूसरे को मात देने के लिए बुराड़ी में अपनी ताकत दिखाएंगी। इस सीट पर जद(यू) और राजद आमने-सामने है। जद(यू) की ओर से बिहार के जल संसाधन मंत्री संजय कुमार झा जहां कमान संभाल रहे हैं वहीं राजद की ओर से राज्यसभा सांसद मनोज झा चुनावी गणित बैठाने में लगे हैं। दिल्ली विधानसभा के चुनाव में राजद और कांग्रेस के बीच गठबंधन हुआ है, जिसमें बुराड़ी विधानसभा की सीट तालमेल के तहत राजद के खाते में गयी है। वहीं, भाजपा और जद(यू) के बीच समझौते के तहत बुराड़ी विधानसभा की सीट जद(यू) के कोटे में गयी है। इस सीट से जद(यू) अपना उम्मीदवार देगी। दिल्ली विधानसभा चुनाव में राजद और कांग्रेस के बीच सीटों पर समझौता हुआ है, जिसमें कांग्रेस 66 तथा राजद चार सीटों पर चुनाव लड़ेगी। राजद के खाते में बुराड़ी, किराड़ी, उत्तमनगर और पालम विधानसभा क्षेत्र गयी है। राजद इन चारों सीटों पर अपने उम्मीदवार उतारेगी। इस चुनाव में पहली बार भाजपा और जद(यू) के बीच गठबंधन हुआ है। भाजपा ने जद(यू) के लिए दो सीटें छोड़ी हैं। जद(यू) को तालमेल के तहत जो दो सीटें मिली है, उनमें बुराड़ी और संगम विहार शामिल है। इन दोनों सीटों पर जद(यू) अपना उम्मीदवार उतारेगी।

शेयर करें

मुख्य समाचार

uno

कश्मीर मुद्दे पर संयुक्त राष्ट्र के प्रस्ताव को भारत ने किया नामंजूर

नई दिल्ली : संयुक्त राष्ट्र के महासचिव एंटोनियो गुटेरेस की ओर से कश्मीर मुद्दे को लेकर दिए गए मध्यस्थता के प्रस्ताव को भारत ने ठुकरा आगे पढ़ें »

army

सुप्रीम कोर्ट ने सेना में महिलाओं के स्थायी कमीशन को मंजूरी दी

नई दिल्ली : सेना में महिला अधिकारियों को स्थायी कमीशन देने के दिल्ली उच्च न्यायालय के फैसले पर शीर्ष न्यायालय ने भी मुहर लगा दी आगे पढ़ें »

ऊपर