दिलचस्पः कैदी ने नामांकन पत्र भरने की अनुमति मांगी, कोर्ट ने ठुकराया

पटनाः बिहार में पटना स्थित सतर्कता अन्वेषण ब्यूरो की एक विशेष अदालत ने बिहार राज्य कर्मचारी चयन आयोग (बीएसएससी) की प्रतियोगिता परीक्षा के प्रश्नपत्र लीक मामले में जेल में बंद एक अभियुक्त की याचिका को खारिज कर दिया है, जिसमें उसने लोस चुनाव में नामांकन कराने के लिए अनुमति मांगी थी।
विशेष न्यायाधीश मधुकर कुमार की अदालत में अपने वकील के माध्यम से एक याचिका दाखिल कर जेल में बंद अभियुक्त भोला उर्फ नीतेश ने प्रार्थना की थी कि आदर्श केंद्रीय कारा, बेऊर के अधीक्षक को निर्देश दिया जाए कि वह उन्हें पुलिस सुरक्षा में पटना समाहरणालय स्थित निर्वाचन पदाधिकारी के समक्ष वर्ष 2019 के लोकसभा चुनाव के लिए नामांकन पत्र भरने की अनुमति प्रदान करें।
कोर्ट ने यह कहा
याचिका में कहा गया था कि आवेदक अभियुक्त पाटलिपुत्र संसदीय क्षेत्र से नामांकन पत्र भरना चाहता है। अभियुक्त की इस याचिका का विशेष लोक अभियोजक ने विरोध किया था। सुनवाई के बाद विशेष अदालत ने अभियुक्त की प्रार्थना अस्वीकृत कर दी। अदालत ने याचिका खारिज करते हुये अपने आदेश में कहा है कि पटना उच्च न्यायालय तक से अभियुक्त की जमानत याचिका दो बार खारिज हो चुकी है और उच्च न्यायालय के निर्देश पर मामले में प्रतिदिन सुनवाई की जा रही है। ऐसे में अपराध की गंभीरता को देखते हुये इस मामले में अभियुक्त की प्रार्थना स्वीकार करने से मामले की आगे की सुनवाई में बाधा उत्पन्न हो सकती है।
बता दें कि बीएसएसी की प्रतियोगिता परीक्षा के प्रश्नपत्र लीक मामले की प्राथमिकी वर्ष 2017 में दर्ज की गई थी। मामले में बीएसएसी के तत्कालीन अध्यक्ष सुधीर कुमार, सचिव परमेश्वर राम समेत 41 अभियुक्त जेल में बंद हैं और पटना उच्च न्यायालय के निर्देश पर मामले की सुनवाई प्रतिदिन की जा रही है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

मॉरीशस के राष्ट्रपति पृथ्वीराज सिंह रूपउन ने विष्णुपद मंदिर परिसर में किया पिंडदान

गया : मॉरीशस के राष्ट्रपति पृथ्वीराज सिंह रूपउन ने बुधवार को मोक्षनगरी के नाम से प्रसिद्ध बिहार में गया शहर के विष्णुपद मंदिर परिसर में आगे पढ़ें »

बिजली मुफ्त नहीं, कम दर पर देनी चाहिए : नीतीश कुमार

पटना : बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने राज्यपाल फागू चौहान के 24 फरवरी को बिहार विधानमंडल के दोनों सदनों की संयुक्त बैठक में अभिभाषण आगे पढ़ें »

ऊपर