झारखंड में फिर बारिश के आसार

Madhya Pradesh will have to do some more days awaiting good rain

रांची : पश्चिम विक्षोभ के एक बार फिर सक्रिय होने से झारखंड में शनिवार से अगले तीन दिनों तक बारिश होने की संभावना है।
मौसम विज्ञान केंद्र, रांची के वैज्ञानिक एवं निदेशक डॉ. एस.डी कोटाल ने शनिवार को यहां बताया कि शनिवार दोपहर के बाद से राज्य के सभी 24 जिलों में बादल छाए रहेंगे और गरज के साथ छीटें पड़ने की संभावना है। इसके बाद अगले तीन दिन 19 जनवरी से 21 जनवरी तक गरज के साथ बारिश और कहीं-कहीं वज्रपात होने का भी अनुमान है। डॉ. कोटाल ने बताया कि पश्चिमी विक्षोभ के प्रभाव के कारण 18 जनवरी और 19 जनवरी को राज्य में येलो अलर्ट भी जारी किया गया है। इन दो दिनों में राज्य में वज्रपात हो सकते हैं। येलो अलर्ट के दौरान सभी जिला प्रशासन को उत्पन्न परिस्थिति की निगरानी करने की सलाह दी जाती है। निदेशक डॉ. कोटाल ने बताया कि बारिश के कारण राज्य के अधिकतम तापमान में दो से पांच डिग्री तक गिरावट आने का अनुमान है। उन्होंने बताया कि न्यूनतम तापमान में अधिक गिरावट नहीं होने से ठंड में वृद्धि न के बराबर होगी झारखंड में शुक्रवार को मौसम शुष्क रहा। राज्य के मध्य तथा दक्षिणी हिस्सों में कहीं-कहीं सुबह के समय मध्यम से घने दर्जे का कोहरा भी छाया रहा। चाईबासा का न्यूनतम तापमान सबसे कम 11.2 डिग्री सेल्सियस रिकॉर्ड किया गया जबकि जमशेदपुर में सबसे अधिक अधिकतम तापमान 31 डिग्री सेल्सियस रहा। गौरतलब है कि पश्चिम विक्षोभ के प्रभाव से 8 जनवरी और 9 जनवरी को भी राज्य के मध्य यानी रांची और उत्तर-पूर्वी एवं दक्षिणी हिस्से में बारिश और वज्रपात हुआ था। इस दौरान जामताड़ा जिले में फतेहपुर थाना क्षेत्र के झिलुवा खैरबनी गांव में वज्रपात से झुलसकर एक ही परिवार के तीन सदस्यों की मौत हो गयी तथा छह अन्य घायल हो गए थे।

शेयर करें

मुख्य समाचार

vote

राजरहाट – न्यूटाउन : मतदाताओं की लम्बी कतारें पर जुबान पर ताला, राज क्या है ?

सन्मार्ग संवाददाता कोलकाता : राजरहाट-न्यूटाउन विधानसभा क्षेत्र यानी एक तरफ गांव तो दूसरी ओर चमकती दुनिया। शनिवार को राजरहाट-न्यूटाउन में पांचवें चरण का मतदान शांतिपूर्ण हुआ। आगे पढ़ें »

आज ऐसे करें मां कात्यायनी की पूजा, जानें शुभ मुहूर्त, पूजा विधि और महत्व

कोलकाताः नवरात्रि के पर्व का 18 अप्रैल को छठवां दिन है। नवरात्रि का छठा दिन मां कात्यायनी को समर्पित है। पंचांग के अनुसार 18 अप्रैल आगे पढ़ें »

ऊपर