झारखंड के बुरुगुलीकेरा हत्याकांड के विरोध में भाजपा का मौन धरना

रांची : भाजपा ने झारखंड के पश्चिम सिंहभूम जिले में गुदरी थाना क्षेत्र के बुरुगुलीकेरा में सात ग्रामीणों की निर्मम हत्या के विरोध में शनिवार को राजभवन के समक्ष मौन धरना दिया।
पूर्व मुख्यमंत्री एवं भाजपा के वरिष्ठ नेता रघुवर दास के नेतृत्व में दिए गए मौन धरने में सांसद सुदर्शन भगत और सुनील सोरेन समेत पार्टी के कई सांसद विधायक एवं महापौर शामिल हुए। इस दौरान भाजपा नेता अपने-अपने हाथ में तख्तियां लिए हुए थे, जिसमें झारखंड में खराब कानून-व्यवस्था के खिलाफ हेमंत सरकार के विरुद्ध नारे लिए हुए थे। साथ ही तख्तियों में लिखे नारों में बुरुगुलीकेरा हत्याकांड के दोषियों को फांसी देने की मांग के साथ ही इस नृशंस घटना के लिए राज्य सरकार को जिम्मेवार माना गया है। भाजपा नेताओं का एक प्रतिनिधिमंडल बुरुगुलीकेरा हत्याकांड के साथ ही लोहरदगा में नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) समर्थकों पर हुए हमले के विरोध में राज्यपाल द्रौपदी मुर्मू से मुलाकात कर उन्हें इस आशय का एक ज्ञापन भी सौंपा।

शेयर करें

मुख्य समाचार

भारत- न्यूजीलैंड अभ्‍यास मैच ड्रा, अग्रवाल व पंत फार्म में लौटे

हैमिल्टन : मयंक अग्रवाल ने रविवार को यहां भारत के न्यूजीलैंड एकादश के खिलाफ ड्रा हुए अभ्यास मैच में अपने जन्मदिन के मौके पर रन आगे पढ़ें »

सिलेक्टर चयन : बीसीसीआई के इनबॉक्स से शिवरामाकृष्णन का आवेदन डिलीट

नयी दिल्‍ली : पूर्व भारतीय क्रिकेटर लक्ष्मण शिवरामाकृष्णन ने भारतीय टीम के मुख्‍य चयनकर्ता के लिए बीसीसीआई के ई-मेल पर जो आवेदन भेजा था, वह आगे पढ़ें »

टीम इंडिया ऑस्ट्रेलिया व इंग्लैंड के खिलाफ पिंक बॉल से डे-नाइट टेस्ट को तैयार : गांगुली

modi & trump

केम छो ट्रंप कार्यक्रम का नाम बदलकर हुआ नमस्ते ट्रंप

delhis

जामिया समिति ने छात्रों पर हमला कर रहे अर्द्धसैनिक बलों का वीडियो जारी किया

rakul sunny

रकुल प्रीत ने लिया अपने जीवन का सबसे बड़ा फैसला, सनी लियोन ने खाई ये कसम

bigg boss

‘बिग बॉस 13’ के विजेता बने सिद्धार्थ शुक्ला, लगा बधाइयों का तांता

modis

हम सीएए और अनुच्छेद 370 से जुड़े अपने फैसलों पर कायम हैं और रहेंगे : पीएम मोदी

himalaya

सेटेलाइट फोन से होगी हिमालय क्षेत्र में सैलानियों की त्वरित चिकित्सा सहायता सेवा

delhi

केजरीवाल के शपथ ग्रहण समारोह में पहुंचे भाजपा विधायक, आगे बैठने के लिए नहीं मिली कुर्सी

ऊपर