जलप्रलय में 43 की मौत, बारिश थमी … मगर खतरा अब भी बरकरार

पटनाः बिहार के राजधानी व अन्य जिलों में आफत की बारिश थम गई है। मगर, खतरा अब भी नहीं टला है। मौसम छाया हुआ है। बारिश भी हो सकती है।
इस जल प्रलय में अभी तक करीब 43 लोगों की मौत हो चुकी है। बारिश थमने के बाद लोगों को राहत पहुंचाने के लिए प्रशासन युद्धस्तर पर जुट गया है। बैठकों का सिलसिला जारी है। हालांकि बारिश रुकने के बाद प्रभावित इलाकों में राहत और बचाव कार्य में तेजी आई है।

प्रशासन के मुताबिक, बारिश की वजह से घरों में फंसे 12 हजार लोगों को निकाल लिया गया है। प्रभावित इलाकों में एयरफोर्स के चॉपर से फूड पैकेट्स गिराए जा रहे हैं।

नालंदा में ग्रामीणों ने हाईवे पर ले रखी है शरण
नालंदा जिले के रहुई प्रखंड का सोनसिकरा गांव पूरी तरह बाढ़ में डूब चुका है। ग्रामीणों ने हाईवे पर शरण ले रखी है। मगर, यहां प्रशासन की ओर से अभी तक मदद मुहैया नहीं कराई जा सकी है। वहीं, राजधानी में एनडीआरएफ की टीम जरूरत व मूलभूत सुविधाओं के सामग्री पहुंचाने के लिए कोशिशों में लगे हुए है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

कोरोना के रोकथाम के लिए अमेजन ने भारतीय डिलीवरी पार्टनर्स के लिए रिलीफ फंड जारी किया

नई दिल्ली : कोविड-19 महामारी भारत में फैलता जा रहा है, ऐसे में भारत में अमेजन और उसके साझेदार नेटवर्क समुदायों की मदद के लिए आगे पढ़ें »

देश में पिछले 24 घंटों में कोरोना के 547 नये मामले आए सामने, कुल 6412 हुए संक्रमित

नयी दिल्ली : देशभर में कोरोना वायरस संक्रमण से लोगों के बचाव के लिए लागू 21 दिन के लॉकडाउन के बीच देश में पिछले 24 आगे पढ़ें »

ऊपर