कांग्रेस के प्रमुख नारे ‘चौकीदार चोर है’ की हवा निकली

भोपाल: कांग्रेस जिस नारे के सहारे लोकसभा चुनाव जितना चाहती थी उसकी हवा निकल गई है। ऐसा इसलिए क्योंकि कांग्रेस के “चौकीदार चोर है” शीर्षक वाले सभी विज्ञापनों पर निर्वाचन आयोग ने रोक लगा दी है। मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी वीएल कांताराव की अध्यक्षता वाली समिति ने गुरुवार को इसपर रोक लगाने का आदेश दिया। बता दें कि भाजपा ने इन विज्ञापनों पर रोक की अपील की थी। मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी और राज्य स्तरीय मीडिया प्रमाणन तथा अनुवीक्षण समिति के अध्यक्ष वीएल कांताराव ने संबंधित ऑडियो और वीडियो विज्ञापन को किसी भी माध्यम से प्रचार-प्रसार करने पर रोक लगा दी है। उन्होंने इन्हें जमा करवाने का आदेश देने के साथ यह भी कहा कि राज्य स्तरीय विज्ञापन प्रमाणन समिति ने जो विज्ञापन आदेश जारी किए थे, उनको निरस्त करते हुए अपील स्वीकार की जाती है।

कलेक्टरों को लिखा पत्र

विज्ञापनों पर रोक का आदेश जारी करने के साथ ही संयुक्त मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी राजेश कौल ने मध्य प्रदेश के सभी कलेक्टरों को पत्र लिखा है। इसमें बताया गया है कि कांग्रेस के ‘चौकीदार चोर है’ विज्ञापन को राज्य स्तरीय मीडिया प्रमाणन तथा अनुवीक्षण समिति द्वारा निरस्त किया गया है इसलिए सभी कलेक्टर अपने अपने जिलों में इसके प्रसारण पर रोक सुनिश्चित करें।

नाकाम रही कांग्रेस साबित करने में

इस फैसले के विरोध में मध्य प्रदेश कांग्रेस की मीडिया विभाग की अध्यक्ष शोभा ओझा की ओर से भी अपील की गई लेकिन आयेाग के समक्ष शोभा यह साबित नहीं कर पाईं कि विज्ञापन में चौकीदार से आशय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से न होकर किसी अन्य व्यक्ति से है।

मीनाक्षी लेखी ने की थी अपील

भारतीय जनता पार्टी की सांसद मीनाक्षी लेखी की ओर से कांग्रेस के ‘चौकीदार चोर है’ विज्ञापन को लेकर ऐतराज जताते हुए मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी के कार्यालय में अपील की गई थी। इस शिकायत में कहा गया था कि यह विज्ञापन अपमानजनक, बदनाम करने वाला और आपत्तिजनक है। यह भारत निर्वाचन आयोग द्वारा गठित विशेषज्ञों की मीडिया प्रमाणन एवं अनुवीक्षण समिति से बिना किसी अनुमति के प्रसारित हो रहा है।

बताते चलें कि 16 अप्रैल को भाजपा की शिकायत और फिर की गई अपील के बाद निर्वाचन आयोग ने इसकी जांच के बाद कहा कि ‘वर्तमान राजनीति में चौकीदार से आशय भारत के वर्तमान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से है और किसी भी राजनीतिक विज्ञापन में किसी पर व्यक्तिगत आरोप नहीं लगाया जा सकता इसलिए इस विज्ञापन के प्रसारण पर रोक लगाई जाती है। इसके साथ ही चुनाव आयोग ने कांग्रेस नेताओं को निर्देश दिए कि ‘चौकीदार चोर है’ कैम्पेन से जुड़ी हुई सभी सामग्रियों को जमा कराया जाए।


शेयर करें

मुख्य समाचार

आपके बेटे को कोई नुकसान नहीं पहुंचाऊंगा – बाबुल

देवाजंन की मां ने लगायी बाबुल से बेटे को माफ करने की गुहार कोलकाता : सोशल मीडिया पर उनके बेटे की पोस्ट वायरल हुई है जिसमें आगे पढ़ें »

राजीव कुमार की हो सकती है हत्या – सोमेन

कोलकाता : एक ओर जहां कोलकाता के पूर्व पुलिस कमिश्नर राजीव कुमार को सीबीआई दिन - रात ढूंढ रही है तो वहीं इस बीच, प्रदेश आगे पढ़ें »

ऊपर