कमलनाथ ने सरकार बनाने का दावा पेश किया, नहीं दिखे सिंधिया

भोपाल : मध्‍यप्रदेश में 15 साल बाद एक बार फिर सत्‍ता में लौटी कांग्रेस को अपने नेता का चुनाव करने में भारी मशक्‍कत का सामना करना पड़ा। गांधी परिवार के समर्थक तथा 9 बार छिंदवाड़ा से सांसद रहे कमलनाथ को इसका ईनाम मिला उन्‍हें ज्‍योतिरादित्‍य सिंधिया पर तरजीह देते हुए प्रदेश की बागडोर सौंप दी गयी। प्रदेश कांग्रेस विधायक दल का नेता चुने जाने के बाद शुक्रवार को भारी सुरक्षा बंदोबस्त के बीच कमलनाथ ने राजभवन पहुंचकर राज्यपाल आनंदीबेन पटेल के समक्ष सरकार बनाने का दावा पेश किया। कमलनाथ ने राज्यपाल आनंदीबेन पटेल को विधायकों की सूची भी सौंपी। कमलनाथ के साथ प्रदेश प्रभारी दीपक बावरिया, दिग्विजय सिंह, विवेक तन्खा और अरुण यादव साथ में रहे। हालांकि ज्योतिरादित्य सिंधिया कमलनाथ के साथ इस मौके पर मौजूद नहीं रहे। इस बीच मंत्रिमंडल के गठन की तैयारियां भी शुरू हो गई हैं। भोपाल के कलेक्टर सुदामा खाड़े और अन्य अधिकारियों ने लाल परेड ग्राउंड का निरीक्षण कर तैयारियों का जायजा लिया। कमलनाथ का शपथ ग्रहण समारोह 17 दिसंबर को लाल परेड ग्राउंड में 1.30 बजे होगा।


शेयर करें

मुख्य समाचार

force

आईएसआई एजेंट सहित 4 आतंकियों के भारत में घुसने की सूचना, पूरे देश में हाई अलर्ट

नई दिल्ली : जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 समाप्त होने के बाद बौखलाया पाकिस्तान अपने नापाक साजिशों में जुट गया है। बताया जा रहा कि खुफिया आगे पढ़ें »

हावड़ा का हाल देख सीएम बिफरीं

हावड़ा : हल्की सी बारिश में ही हावड़ा बन जाता है तालाब। बस्ती में रहनेवाले आज भी नरकीय जीवन जी रहे हैं। उत्तर से द​क्षिण आगे पढ़ें »

ऊपर