कमलनाथ ने सरकार बनाने का दावा पेश किया, नहीं दिखे सिंधिया

भोपाल : मध्‍यप्रदेश में 15 साल बाद एक बार फिर सत्‍ता में लौटी कांग्रेस को अपने नेता का चुनाव करने में भारी मशक्‍कत का सामना करना पड़ा। गांधी परिवार के समर्थक तथा 9 बार छिंदवाड़ा से सांसद रहे कमलनाथ को इसका ईनाम मिला उन्‍हें ज्‍योतिरादित्‍य सिंधिया पर तरजीह देते हुए प्रदेश की बागडोर सौंप दी गयी। प्रदेश कांग्रेस विधायक दल का नेता चुने जाने के बाद शुक्रवार को भारी सुरक्षा बंदोबस्त के बीच कमलनाथ ने राजभवन पहुंचकर राज्यपाल आनंदीबेन पटेल के समक्ष सरकार बनाने का दावा पेश किया। कमलनाथ ने राज्यपाल आनंदीबेन पटेल को विधायकों की सूची भी सौंपी। कमलनाथ के साथ प्रदेश प्रभारी दीपक बावरिया, दिग्विजय सिंह, विवेक तन्खा और अरुण यादव साथ में रहे। हालांकि ज्योतिरादित्य सिंधिया कमलनाथ के साथ इस मौके पर मौजूद नहीं रहे। इस बीच मंत्रिमंडल के गठन की तैयारियां भी शुरू हो गई हैं। भोपाल के कलेक्टर सुदामा खाड़े और अन्य अधिकारियों ने लाल परेड ग्राउंड का निरीक्षण कर तैयारियों का जायजा लिया। कमलनाथ का शपथ ग्रहण समारोह 17 दिसंबर को लाल परेड ग्राउंड में 1.30 बजे होगा।


शेयर करें

मुख्य समाचार

Jagdip Dhankhar

धनखड़ के खिलाफ विधान सभा से संसद तक मोर्चाबंदी

कोलकाता : ऐसा पहली बार हुआ है जब विधानसभा में सत्ता पक्ष ने धरना दिया। कारण थे राज्यपाल जगदीप धनखड़, जिन पर विधेयकों को मंजूरी आगे पढ़ें »

मेरे कंधे पर बंदूक रखकर चलाने की को​शिश न करें – धनखड़

कोलकाता : राज्यपाल जगदीप धनखड़ और तृणमूल सरकार के बीच संबंधों में मंगलवार को और खटास आ गयी जब उन्होंने ‘कछुए की गति से काम आगे पढ़ें »

ऊपर