चुनाव आचार संहिता का उल्लंघन नहीं है कोविड-19 का टीका मुफ्त देने का वादा : निर्वाचन आयोग

नयी दिल्ली : आरटीआई कार्यकर्ता साकेत गोखले की शिकायत पर जवाब देते हुए निर्वाचन आयोग ने कहा कि बिहार विधानसभा चुनाव के लिए भाजपा द्वारा जारी घोषणा पत्र में कोविड-19 का टीका मुफ्त देने का वादा आदर्श आचार संहिता का उल्लंघन नहीं है। आयोग ने कहा कि इसमें आदर्श आचार संहिता के किसी भी प्रावधान का उल्लंघन नहीं पाया गया है। गोखले ने दावा किया था कि मुफ्त टीके का वादा पक्षपातपूर्ण और चुनाव के दौरान केंद्र सरकार द्वारा सत्ता का दुरुपयोग है। गोखले ने शुक्रवार को ट्वीट किया कि भारत के निर्वाचन आयोग ने इस तथ्य को आश्चर्यजनक रूप से नजरअंदाज किया कि केंद्र सरकार ने यह घोषणा एक राज्य विशेष के लिए की और उक्त कदम ऐसे समय में उठाया गया है जब चुनावी माहौल बिगड़ रहा है। आयोग ने एक प्रावधान का उल्लेख करते हुए कहा कि संविधान में राज्य के नीति निर्देशक सिद्धांतों में कहा गया है कि राज्य नागरिकों के कल्याण के लिए योजनाएं बनायेगा और ऐसे में चुनाव घोषणा पत्र में ऐसी कल्याणकारी योजना को लागू करने के वादे पर कोई आपत्ति नहीं हो सकती। मतदाताओं का भरोसा केवल उन्हीं वादों के भरोसे हासिल करने की कोशिश करनी चाहिए, जिन्हें पूरा किया जा सकता है। यह साफ किया जाता है कि चुनावी घोषणा पत्र पार्टियों और उम्मीदवारों द्वारा किसी खास चुनाव के संदर्भ में जारी किये जाते हैं। मालूम हो कि इस महीने के प्रारम्भ में केंद्रीय वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण ने बिहार विधानसभा चुनाव के लिए घोषणा पत्र जारी किया था, जिसमें भारतीय आयुर्विज्ञान अनुसंधान परिषद (आईसीएमआर) से टीके की मंजूरी मिलने के बाद बिहार के लोगों को मुफ्त टीका देने का वादा किया गया था।

शेयर करें

मुख्य समाचार

अभी जो मुझे ऑफर आ रहे हैं, काफी अच्छे हैं : बॉबी देओल

मुंबई : बॉलीवुड अभिनेता बॉबी देओल की वेब सीरीज आश्रम चैप्टर टू-द डार्क साइड ने खूब वाहवाही बटोरी है। बताते हैं कि जिस तरह से आगे पढ़ें »

किसानों के खिलाफ ‘आपत्तिजनक’ ट्वीट पर कंगना रनौत को नोटिस

दिल्ली सिख गुरुद्वारा प्रबंध समिति ने बिना शर्त माफी मांगने को कहा नयी दिल्ली: दिल्ली सिख गुरुद्वारा प्रबंध समिति (डीएसजीएमसी) ने अभिनेत्री कंगना रनौत को कानूनी आगे पढ़ें »

ऊपर