कोरोना वायरस के प्रभाव को रोकने में सहायक 21 दवाओं की हुई पहचान

लास एंजिलिस : वैज्ञानिकों ने 21 ऐसी प्रचलित दवाओं की पहचान की है जो प्रयोगशाला अध्ययनों में कोरोना वायरस के विकसित होने से रोकेंगी। इन वैज्ञानिकों में भारतीय मूल के वैज्ञानिक भी शामिल हैं। अमेरिका में सैनफोर्ड बर्नहैम प्रीबिस मेडिकल डिस्कवरी इंस्टीटूट के शोधकर्ताओं ने, कोरोना वायरस को अवरूद्ध करने की क्षमता के लिए दुनियाभर में ज्ञात दवाओं के सबसे बड़े संग्रह में से एक का विश्लेषण किया और प्रयोगशाला परीक्षणों में एंटीवायरल क्रिया के साथ 100 अणु पाये गये। जर्नल नेचर में प्रकाशित अध्ययन के अनुसार, इनमें से 21 दवाएं वायरस के फिर से उत्पन्न होने की आशंका को अवरुद्ध करने में प्रभावी हैं जो मरीजों के लिए सुरक्षित हैं। इसमें कहा गया है कि इनमें से चार यौगिक, कोविड-19 के लिए एक मौजूदा मानक-देखभाल उपचार, रेमडिसिविर के साथ मिलकर काम कर सकते हैं।

दवा हर किसी के लिए कारगर नहीं

संडे बर्नहेम प्रीबिस इम्युनिटी एंड पैथोजेनेसिस प्रोग्राम के निदेशक एवं अध्ययन के वरिष्ठ लेखक सुमित चंदा ने कहा, ‘रेमेडिसिविर अस्पताल में मरीजों के लिए स्वस्थ होने के समय को कम करने में सफल साबित हुई है, लेकिन यह दवा हर किसी के लिए कारगर नहीं है।’ चंद्रा ने कहा, ‘सस्ती, प्रभावी, और आसानी से उपलब्ध दवाओं को खोजने के लिए तत्परता बनी हुई है जो रेमेडिसिविर के उपयोग का पूरक बन सकती है।’ वैज्ञानिकों ने पाया है कि इनमें से 21 दवाएं कोरोना वायरस के प्रभाव को अवरूद्ध कर सकती है। वैज्ञानिकों ने कहा कि दो दवाओं को पहले से ही अमेरिकी खाद्य एवं औषधि प्रशासन (एफडीए) द्वारा मंजूरी मिली हुई है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

मौजूदा भारतीय हॉकी टीम में विश्वस्तरीय रक्षापंक्ति और ड्रैग फ्लिकर: रघुनाथ

बेंगलुरू : पूर्व हॉकी खिलाड़ी वीआर रघुनाथ का मानना है कि मौजूदा भारतीय टीम के पास विश्वस्तरीय रक्षापंक्ति और स्तरीय ड्रैग फ्लिकर हैं और टीम आगे पढ़ें »

आईसीसी बोर्ड की बैठक : बीसीसीआई, सीए में होगी टी20 विश्व कप बदलने पर चर्चा

नयी दिल्ली : भारतीय क्रिकेट बोर्ड (बीसीसीआई) और क्रिकेट आस्ट्रेलिया (सीए) के प्रमुख अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद (आईसीसी) की शुक्रवार को होने वाली बोर्ड बैठक के आगे पढ़ें »

ऊपर