कोरोना का प्रभावः बिहार की राजधानी में न्यायालय का कामकाज ठप

पटनाः कोरोना वायरस को लेकर एहतियाती निर्देशों के मद्देनजर बिहार में पटना उच्च न्यायालय के आदेश के आलोक में सोमवार को व्यवहार न्यायालय में जमानत अर्जियों को छोड़कर अन्य सभी न्यायिक कार्य ठप रहे।
पटना उच्च न्यायालय के आदेश की पूर्वसूचना नहीं रहने के कारण आज न्यायालय परिसर में दो दिनों को छुट्टी के बाद आम दिनों की तरह पक्षकारों की भारी भीड़ जमा हो गई। आरंभ में निर्देशों के आलोक में सुरक्षाकर्मियों ने पक्षकारों को रोका लेकिन द्वार पर ही भारी भीड़ इकट्ठा हो गई, जिसके बाद एक जगह इकट्ठा नहीं होने का निर्देश देते हुए उन्हें न्यायालय परिसर में जाने की अनुमति दी गई।

31 मार्च तक अन्य न्यायिक कार्य नहीं होंगे
साथ ही जगह-जगह पटना उच्च न्यायालय के निर्देश भी चस्पा कर पक्षकारों को इस बात की जानकारी दी गई कि 31 मार्च तक जमानत अर्जियों की सुनवाई को छोड़कर अन्य कोई न्यायिक कार्य नहीं होंगे। साथ ही किसी भी मुकदमे में किसी पक्षकार या उसके वकील की अनुपस्थिति में कोई भी विपरीत आदेश पारित नहीं किए जाएंगे। हालांकि इस तरह की सूचना मिलने का बावजूद आज शाम तक न्यायालय परिसर में आम दिनों की तरह भीड़ देखी गई।

शेयर करें

मुख्य समाचार

सोनम वांगचुक के चीनी उत्पादों के बहिष्कार अभियान को व्यापारियों का मिला समर्थन

नई दिल्ली : कन्फेडरेशन ऑफ ऑल इंडिया ट्रेडर्स (कैट) ने कहा है कि देश के सात करोड़ व्यापारी लद्दाख के शैक्षिक सुधारक सोनम वांगचुक के आगे पढ़ें »

पूर्व पाक कप्तान हनीफ का दावा, 1983 में हॉकी टीम के सदस्‍य तस्‍करी में लिप्‍त थे 

कराची : पाकिस्तान के पूर्व हॉकी कप्तान हनीफ खान ने आरोप लगाया कि 1983 में हांगकांग से वापस आते समय उनकी टीम के कुछ खिलाड़ियों आगे पढ़ें »

ऊपर