कुमारस्वामी ने की ग्राम प्रवास कार्यक्रम की शुरुआत, कहा नहीं चाहिए कोई सुविधा

बेंगलुरु : कर्नाटक के यादगिर जिले के गुरमिटकल से शुक्रवार को दूसरी बार राज्य के मुख्यमंत्री एचडी कुमारस्वामी ने ‘ग्राम वास्तव्य’ (गांव में रुकने) अभियान की शुरूआत की। इससे पहले उन्होंने ये साल 2006 के अपने पहले कार्यकाल के दौरान ऐसा किया था। इस अभियान के तहत मुख्यमंत्री कुमारस्वामी अलग-अलग गांवों में रुकेंगे और वहां के लोगों से जमीनी तौर पर संपर्क स्‍थापित करेंगे।  अभियान की शुरुआत करते हुए कुमारस्वामी ने कहा कि उन्हें इस दौरान किसी भी तरह की सुख-सुविधा नहीं चाहिए। वो सुबह ट्रेन के जरिये गुरमिटकल के जिला मुख्यालय पहुंचे फिर साधारण बस से सड़क मार्ग होते हुए चंदरकी गांव पहुंचे। वहां पहुंचकर उन्होंने कहा कि वे नहीं चाहते की उन्हें पांच सितारा होटलों वाली सुख-सुविधाएं देने पर फिजूल खर्च किया जाए।
बाथरूम लटकाकर नहीं घूम सकता
कुमार स्वामी का कहना है कि वे गांव के किसी आम व्यक्ति के समान ही बिल्कुल सामान्य रूप से रहना चाहते हैं। अपने अभियान के दौरान वे एक स्कूल में जमीन पर लगे बिस्तर पर सोते नजर आए। मालूम हो कि उनके ऊपर विपक्ष के कुछ नेताओं ने लग्जरी सुविधाएं लेने का आरोप लगाया था। कर्नाटक के मुख्यमंत्री ने विपक्षियों को गांव में संवाददाता सम्मेलन के दौरान जवाब दिया। उन्होंने कहा कि ‘‘5-स्टार सुविधाएं क्या होती हैं? मैं तो सड़क पर भी सोने के लिए तैयार हूं। मैं विपक्ष से पूछना चाहता हूं कि क्या मुझे जरूरी सुविधाएं लेने का भी हक नहीं। ऐसे में मैं रोज काम कैसे करूंगा। एक छोटा बाथरूम जरूर बनवाया गया है। मैं उसे (बाथरूम को) अपने पीछे लटकाकर नहीं घूम सकता।’’
हर महीने दो से चार गांवों में जाऊंगा
वहीं उन्होंने यह भी कहा कि मैं एक साधारण जीवन भी बिता सकता हूं, मुझे कुछ भी भाजपा से सीखने की आवश्यकता नहीं हैं। उन्होंने कहा कि,जब मेरे पिता (एचडी देवेगौड़ा) प्रधानमंत्री थे तब मैं रूस में ग्रेंड क्रेमलिन पैलेस में सो चुका हूं। मैंने जिंदगी में सबकुछ देखा है। उन्होंने कहा कि मेरे कुछ दोस्त पूछ रहे हैं कि मैं गांव में रुकने का कैम्पेन क्यों चला रहा हूं। वे विधानसभा से काम कर सकते हैं। मैं उनसे यही कहना चाहूंगा कि छलावे के कामों को विपक्ष के लिए रहने दें। मैं हर महीने दो से चार गांवों में जाऊंगा।’’

बता दें कि इस अभियान के दौरान मुख्यमंत्री ने यादगिरी जिले में 300 बिस्तर वाले अस्पताल और एक पशु चिकित्सालय के निर्माण की घोषणा भी की है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

2020 के अंत तक कोविड-19 का टीका आने की उम्मीद : फाउची

वाशिंगटन : दुनियाभर में महामारी का रूप धारण कर चुके कोरोना वायरस संक्रमण की वैैक्सीन दिसबंर महीने के अंत तक आने की उम्मीद बताया जा आगे पढ़ें »

बिहार के बाद अब गोवा में लॉकडाउन

पणजी : गोवा के मुख्यमंत्री प्रमोद सावंत ने बुधवार को कहा कि कोरोना वायरस संक्रमण के बढ़ते मामलों को देखते हुए राज्य में कड़े प्रावधानों आगे पढ़ें »

ऊपर